नर के मन में आज भी, भरे भेद के भाव।

कोरोना महामारी के चलते कुछ समय से लोग अपने घरों में बंद रहें है। आज काम के अभाव और घर में अकेलेपन के चलते उदासी का भाव लोगों के मानसिक स्वास्थ्य पर सीधा असर कर रहा है । कुछ शोध संस्थाएं कह रही है कि इसका सीधा असर पुरुषों पर पड़ रहा है,…
Read More...

असहयोग आंदोलन ने अंग्रेजी हुकुमरानों की नींद उड़ा दी

एक अगस्त का दिन भारत के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। क्योंकि 1 अगस्त 1920 को अंग्रेजों के अत्याचार के खिलाफ गांधी जी द्वारा असहयोग आंदोलन शुरू किया गया था। महात्मा गांधी ने अपनी प्रसिद्ध पुस्तक स्वराज (1909) में लिखा कि भारत में अंग्रेजी राज…
Read More...

इंटरनेट की कछुआ स्पीड से दम तोड़ रहा है डिजिटल इंडिया

भारत सरकार ने देश को डिजिटल अर्थव्यवस्था में बदलने के लिए डिजिटल इंडिया कार्यक्रम के तहत , मायगॉव, गवर्नमेंट ई-मार्केट, डिजीलॉकर, भारत नेट, स्टार्टअप इंडिया, स्किल इंडिया और स्मार्ट सिटीज को शामिल करके भारत को तकनीकी क्षमता और परिवर्तन…
Read More...

उपन्यास सम्राट : मुंशी प्रेमचंद

अपने देश में शायद ही कोई ऐसा होगा जो प्रेमचंद जी को ना जानता हो या उसने उनके बारे में ना सुना हो |आज प्रेमचंद्र जी की 138 वी जयंती है | मुंशी प्रेमचंद जी ऐसे कालजयी उपन्यासकार थे जिन्होंने अपनी लेखनी के दम पर पूरे भारत के हर एक व्यक्ति…
Read More...

मातृभाषा में पढ़ोगे तो बनोगे गुरुदेव और राजेन्द्र प्रसाद

नई शिक्षा नीति-2020 की घोषणा हो गई है। इसके विभिन्न बिन्दुओं पर बहस तो होगी ही । पर इसने एक बड़े और महत्वपूर्ण दिशा में कदम बढ़ाने का इरादा व्यक्त किया है। उदाहरण के रूप में नई शिक्षा नीति में पाँचवी क्लास तक मातृभाषा, स्थानीय या…
Read More...

क्या नई शिक्षा नीति से शिक्षा क्षेत्र में सकारात्मक परिवर्तन आएंगे?

भारत में ज्ञान प्रदान करने की एक अति समृद्ध परंपरा रही है। 'गुरुकुल' प्राचीन भारत में एक प्रकार की शिक्षा प्रणाली थी जिसमें एक ही घर में गुरु के साथ रहने वाले शिष्य (छात्र) थे। नालंदा इस दुनिया में शिक्षा का सबसे पुराना…
Read More...

देशी बोली ठोली के प्रगतिशील रचनाकार थे मुंशी प्रेमचंद

उपन्यास सम्राट मुंशी प्रेमचंद का जन्म 31 जुलाई 1880 को काशी से चार मील दूर बनारस के पास लमही नामक गाँव में हुआ था। 31 जुलाई को उनकी 140 वीं जयंती है। उनका असली नाम धनपतराय था । आधुनिक हिंदी साहित्य के पितामह प्रेमचंद ने 1901 मे उपन्यास…
Read More...

सामाजिक परिवर्तन के लिए जातिगत नामों की सख्त मनाही होनी चाहिए !

हाल ही में अतिरिक्त महानिदेशक पुलिस,आर्म्ड बटालियन,जयपुर राजस्थान ने एक पत्र अपने सभी कमांडेंट को जारी किया है जिसमें सभी बटालियन के अधिकारियों को निर्देश दिए गए है कि उनके सभी अधिकारी और अधीनस्थ कर्मी अपनी वर्दी, अपने ऑफिस के कमरे के…
Read More...

दुश्मनों के लिए काल है राफेल

राफेल की कई विशेषताएं हैं जो दुश्मनों में भय पैदा करती है, समय पर कहर भी बरपा सकती है और हमारी सीमा की सुरक्षा की गांरटी भी है। पहली विशेषता यह है कि दुनिया के सबसे घातक मिसाइलों से लैस है और सेमी स्टील्थ तकनीक से भी लैस है। दूसरी विशेषता…
Read More...

सेना में हर स्तर पर अब महिलाएं संभालेंगी कमान

रक्षा मंत्रालय ने सेना में महिला अधिकारियों को स्थायी कमीशन देने के लिये आदेश जारी कर दिया है. उच्चतम न्यायालय ने फरवरी में एक ऐतिहासिक निर्णय में निर्देश दिया था कि शॉर्ट सर्विस कमीशन (एसएससी) योजना के तहत भर्ती की गईं सभी सेवारत महिला…
Read More...