दलबदलुओं को जनता खारिज करें

रामबिलास पासवान भाजपा को भारत जलाओ पार्टी कहते थे और उन्होंने दंगाई और सांप्रदायिक कहकर भाजपा के साथ गठबंधन को तोड़ कर अलग हो गये थे। फिर वे कांग्रेस और लालू प्रसाद यादव के साथ गठबंधन में रहें। 2009 के लोकसभा चुनाव में बिहार के…
Read More...

सतर्क रहें तीसरे लहर की दस्तक

कोरोना वायरस का नया वेरिएंट ओमिक्रान देश में दस्तक दे चुका है देश के कई राज्यों में नाइट कर्फ्यू भी शुरू हो चुकी है तथा कहीं-कहीं पर प्रतिबंध लगने भी शुरू हो रहे हैं यह समय है हम सभी को सतर्क रहने का जागरूक रहने का और उन गलतियों…
Read More...

फसलों के लिए अमृत है मावठ की एक एक बूंद

        फसलों के लिए मावठ की एक एक बूंद अमृत से कम नहीं है। इस समय उत्तरी भारत के अधिकांश हिस्सों में सर्दी की बरसात यानी की मावठ का दौर चल रहा है। आसमान से एक एक बूंद अमृत बन कर टपक रही है तो यह रबी की फसलों को नया जीवन दे रही है।…
Read More...

पर्यावरण का सबसे बड़ा दुश्मन है प्लास्टिक

वर्तमान में बंदिश के बावजूद हर जगह उपलब्ध होने वाली पॉलीथिन पूरे जीव-जगत पर संकट खड़ा कर रही है। फिर भी लोग इसके उपयोग से गुरेज नहीं कर रहे हैं। यह पर्यावरण के साथ पूरे पारिस्थितिकी तंत्र के लिए घातक है, इस पर न तो सरकार गंभीर हो रही और न…
Read More...

क्यों नहीं शाहरूख चलें कलाम और प्रेमजी के रास्ते पर

शाहरुख खान के शहजादे  आर्यन खान को ड्रग्स केस  में बॉम्बे हाई कोर्ट ने जमानत दे दी है। उनके साथ मॉडल मुनमुन धमेचा और अरबाज मर्चेंट को भी बेल मिल गई। लेकिन यह समझना जरूरी है कि बेल का मतलब यह नहीं है कि आर्यन उन आरोपों से मुक्त हो गये हैं…
Read More...

खेती किसानी ही अर्थव्यवस्था की बड़ी ताकत

कोरोना महामारी ने दुनिया के देशों को एक सबक दिया है और वह यह कि खेती किसानी ही अर्थव्यवस्था को बचा सकती थी। यह साफ हो जाना चाहिए कि आने वाले समय में भी खेती किसानी ही अर्थ व्यवस्था की बड़ी ताकत रहेगी। ऐसे में सरकार को इस और खास ध्यान देना…
Read More...

भारत में पर्यटन विकास की अपार संभावनाएं

विश्व पर्यटन दिवस प्रत्येक वर्ष 27 सितम्बर को मनाया जाता है। विश्व पर्यटन दिवस 2021 की थीम “समावेशी विकास के लिए पर्यटन” है। समावेशी पर्यटन-विकास के जरिये समावेशी आर्थिक विकास को बल मिल सकता है। इसके लिए पर्यटन से समाज के हर तबके को…
Read More...

श्रेष्ठ समाचार वाचकों का टोटा क्यों

यह संभव है कि देश की मौजूदा युवा पीढ़ी को यकीन न हो कि खबरिया चैनलों के आने से पहले “आकाशवाणी” से प्रसारित होने वाले समाचारों को करोड़ों भारत वासी अपने घरों, बाजारों और अन्य स्थानों पर ध्यानपूर्वक सुना करते थे। देवकीनंदन पांडे, अशोक…
Read More...

भारतीय पुनर्जागरण के प्रणेता ईश्वरचंद विद्यासागर

महान दार्शनिक, समाज सुधारक और लेखक ईश्वरचंद विद्यासागर का जन्म 26 सितंबर 1820 को कोलकाता में हुआ था। वह स्वाधीनता संग्राम के सेनानी भी थे। ईश्वरचंद विद्यासागर को गरीबों और दलितों का संरक्षक माना जाता था। उन्होंने स्त्री शिक्षा और विधवा…
Read More...

उम्मीद है यह पहला कदम होगा आखरी नहीं

2021 में भारत को स्वराज प्राप्त हुए 74 वर्ष पूर्ण हुए और हम स्वतंत्रता के 75 वें वर्ष में प्रवेश कर रहे हैं। इस अवसर पर देश स्वाधीनता का अमृत महोत्सव मना रहा है। ऐसे समय में प्रधानमंत्री उत्तरप्रदेश के अलीगढ़ में राजा महेंद्र प्रताप सिंह…
Read More...