Browsing Category

पर्यावरण

आस्था की पवित्र नदियों को प्रदूषित होने से बचाना गम्भीर मुद्दा

प्रकृति का अभिन्न अंग नदियाँ सदैव ही जीवनदायिनी रही हैं। नदियाँ अपने साथ बारिश का जल एकत्रित कर उसे भू- गर्भ में पहुंचाती हैं। एशिया में गंगा, ब्रह्मपुत्र, यमुना, आमूर, लेना, कावेरी, नर्बदा, सिंघु,यांगत्सी नदियाँ, अफ्रीका में नील,…
Read More...

मानव और प्रकृति के विकास का स्तम्भ है जैव विविधता

संयुक्त राष्ट्र महासभा ने 22 मई को अंतरराष्ट्रीय जैव विविधता दिवस के रूप में मनाने की घोषणा की थी। जैव विविधता का सम्बन्ध पशुओं और पेड़ पौधों की प्रजातियों से है। जैव विविधता को बनाये रखने के लिए यह महत्वपूर्ण है की हम अपनी धरती के…
Read More...

लू से बचाव ही उपचार है

गर्मी अकेले नहीं आती बल्कि अपने साथ.कई तरह की परेशानियां भी लेकर आती है। इनमें लू की समस्या प्रमुख है। लू के बारे में हर कोई जनता है। गर्मी के मौसम में शुष्क और बेहद गर्म हवा चलने को लू कहा जाता है। गर्मी के मौसम में हवा के गर्म थपेड़ों…
Read More...

पृथ्वी हर आदमी की जरूरत को पूरा कर सकती है, लालच को नहीं

महात्मा गांधी ने एक बार कहा था - पृथ्वी हर आदमी की जरूरत को पूरा करने के लिए पर्याप्त प्रदान करती है, लेकिन हर आदमी के लालच को नहीं। पिछले 25 वर्षों में मनुष्यों ने पृथ्वी के दसवें भाग के जंगल को नष्ट कर दिया है और यदि प्रवृत्ति जारी रहती…
Read More...

जीवन की रक्षा के लिये पृथ्वी संरक्षण जरूरी

पृथ्वी दिवस पूरे विश्व में 22 अप्रैल को मनाया जाता है। इस वर्ष पृथ्वी दिवस की थीम ‘इन्वेस्ट इन अवर प्लैनेट’ है, जो हमें हरित समृद्धि से समृद्ध जीवन बनाने के लिए प्रोत्साहित करती है। यह थीम संदेश देती है कि हमारे स्वास्थ्य, हमारे परिवारों,…
Read More...

पृथ्वी तथा प्रकृति से खिलवाड़ करती मानवीय हरकतें

वर्तमान में पृथ्वी तथा प्राकृतिक संसाधनों के विनाशकारी जलवायु परिवर्तन की गति तथा उसके प्रभाव में गति की तीव्रता तेजी से महसूस की जाती रही है। इसका और कोई कारण ना होकर मानव की अवांछित गतिविधियां ही हैं। जिनमें मूलतः वन का…
Read More...

खुशहाल पृथ्वी खुशहाल जीवन

22 अप्रैल को पृथ्वी दिवस है। इस वर्ष पृथ्वी दिवस की थीम इन्वेस्ट इन अवर प्लैनेट रखी गई है जो हमें हरित समृद्धि से समृद्ध जीवन बनाने के लिए प्रोत्साहित करती है। पर्यावरण संरक्षण के लिए समर्थन प्रदर्शित करने के लिए दुनिया भर में पृथ्वी दिवस…
Read More...

ग्लोबल वार्मिंग की तेज रफ्तार, एक बड़ी चेतावनी

संयुक्त राष्ट्र संघ की संस्था आई,पी,सी,सी, की ताजा रिपोर्ताज के अनुसार विश्व के अमीर देश अकेले ही 60% से ज्यादा उत्सर्जन के लिए जिम्मेदार हैं। जबकि इसका उल्टा गरीब देशों का कुल गैस उत्सर्जन का 12 से 14% ही है और स्थिति यह है कि…
Read More...

पर्यावरण का सबसे बड़ा दुश्मन है प्लास्टिक

वर्तमान में बंदिश के बावजूद हर जगह उपलब्ध होने वाली पॉलीथिन पूरे जीव-जगत पर संकट खड़ा कर रही है। फिर भी लोग इसके उपयोग से गुरेज नहीं कर रहे हैं। यह पर्यावरण के साथ पूरे पारिस्थितिकी तंत्र के लिए घातक है, इस पर न तो सरकार गंभीर हो रही और न…
Read More...

मानसून से होती तबाही की बढ़ती तीव्रता

देश की राजधानी दिल्ली में 31 अगस्त से ही जोरदार बारिश के कारण अनेक इलाकों में भारी जलभराव के कारण जनजीवन अस्त-व्यस्त है और 1 सितम्बर को भी भारतीय मौसम विज्ञान विभाग द्वारा दिल्ली-एनसीआर में भारी बारिश का ऑरेंज अलर्ट जारी किया गया। वैसे भी…
Read More...