Browsing Category

कृषि

अर्थ-व्यवस्था को पटरी पर लाएगी खेती किसानी

एक बात अब साफ हो गई है कि दुनिया के देशों की अर्थ व्यवस्था को खेती किसानी ही नई दिशा दे सकती है। कोरोना लॉक डाउन और रुस यूक्रेन युद्ध ने दो बातें साफ कर दी है कि औद्योगिकीकरण के बावजूद खेती किसानी की अपनी अहमियत है। जिस तरह से कोरोना…
Read More...

शोभा कलमी खेजड़ी बनेगी पशुपालकों के लिए वरदान – डॉ. कच्छवाहा

जयपुर(चलते फिरते ब्यूरो)। पशुपालक आत्मियता से शोभा कलमी खेजड़ी के पौधे की परवरिश करें। इससे पशुओं को हरा चारा की उपलब्धता सुनिश्चित होने के साथ व्यवसायिक दृष्टिकोण से सांगरी की बम्पर पैदावार पशुपालकों के लिए वरदान बनेगी। उक्त बात सोसायटी टू…
Read More...

गोधन को बचाकर पशु कल्याण दिवस को सार्थक बनाएं

चार अक्टूबर को विश्व पशु कल्याण दिवस है। यह दिवस हम ऐसे समय में मना रहे है जब देश का पशु धन गाय संकट में है। देश में एक बड़ी आबादी पशुपालन से जुड़ी हुई है, ऐसे में एक नई बीमारी लम्पी स्किन डिजीज ने पशुपालकों को परेशान कर रखा है। गायों…
Read More...

देश में पुलिस सेवा को बेहतर बनाया जाए

आज देश में जिस तरह की आंतरिक और बाहरी चुनौतियों है, पुलिस की जिम्मेदारी, उनकी भूमिका और उसके कार्य का महत्व और ज्यादा बढ़ जाता है. पुलिस फोर्स में पांच लाख से अधिक पद खाली पड़े हैं। एक रिपोर्ट के अनुसार देश के हर तीसरे थाने में कोई…
Read More...

खेतों में करंट से मरते किसान, क्या हो समाधान?

कारण जो भी हो, यह बहुत दुखद है कि हमारे किसान, हमारे देश के खाद्य प्रदाता, अपनी दैनिक दिनचर्या को ईमानदारी से निभाने में मर रहे हैं। नयी योजनाओं के साथ-साथ बिजली के ढीले तार ठीक करना, हाईवोल्टेज बिजली पोल का समाधान ढूंढना, खेत में लगाई…
Read More...

रोजगार सृजन कर किसानों की सहायता करता डेयरी उद्योग

(दूध उत्पादन में अन्य व्यवसायों की तरह करियर की अपार सम्भावनायें हैं, देश भर में राज्य सरकारें दूध की पैदावार बढ़ाने के लिए किसानों को सब्सिडी देकर इस उद्योग को बढ़ावा दे रही हैं, वहीं विज्ञान और तकनीकी में नए-नए प्रयोग कर के दूध उत्पादन…
Read More...

पशु चिकित्सकों को भी अपने व्यक्तिगत स्वास्थ्य और कल्याण की जरूरत

किसी भी क्षेत्र के अन्य डॉक्टरों की तरह पशु चिकित्सक भी उतने ही महत्वपूर्ण हैं। जानवर, चाहे पालतू जानवर हों या आवारा, प्यार और देखभाल की जरूरत होती है। और यहीं से पशु चिकित्सक बचाव के लिए आते हैं। हर साल अप्रैल के आखिरी शनिवार को, दुनिया…
Read More...

 चार साल में ही दो लाख टन से सौ लाख टन गेहूं निर्यात की राकेटी कामयाबी

भारत पूरी दुनिया को अन्न देने को तैयार कोई हवा हवाई या बड़बोलापन नहीं माना जा सकता। यह तो देश के अन्नदाता की मेहनत और सरकारी नीतियों का परिणाम है कि आज देश के गोदाम अन्न-धन से भरे हैं। दुनिया का बड़ा गेहूं उत्पादक देश होने के बावजूद गेहूं…
Read More...

फसलों के लिए अमृत है मावठ की एक एक बूंद

        फसलों के लिए मावठ की एक एक बूंद अमृत से कम नहीं है। इस समय उत्तरी भारत के अधिकांश हिस्सों में सर्दी की बरसात यानी की मावठ का दौर चल रहा है। आसमान से एक एक बूंद अमृत बन कर टपक रही है तो यह रबी की फसलों को नया जीवन दे रही है।…
Read More...

खेती किसानी ही अर्थव्यवस्था की बड़ी ताकत

कोरोना महामारी ने दुनिया के देशों को एक सबक दिया है और वह यह कि खेती किसानी ही अर्थव्यवस्था को बचा सकती थी। यह साफ हो जाना चाहिए कि आने वाले समय में भी खेती किसानी ही अर्थ व्यवस्था की बड़ी ताकत रहेगी। ऐसे में सरकार को इस और खास ध्यान देना…
Read More...