26,000 करोड़ रुपये के घोटाले पर दिल्ली विधानसभा का विशेष सत्र बुलाए केजरीवाल सरकार-विजेन्द्र गुप्ता

विधानसभा में चर्चा का हो सीधा प्रसारण-रामवीर सिंह बिधूड़ी

@ chaltefirte.com                                      नई दिल्ली। दिल्ली विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष रामवीर सिंह बिधूड़ी और पूर्व प्रदेश भाजपा अध्यक्ष व विधायक विजेन्द्र गुप्ता के साथ भाजपा विधायकों ने केजरीवाल सरकार से विधानसभा का विशेष सत्र बुलाने की माँग की है। ताकि 26,000 करोड़ रुपये के घोटाले पर विस्तृत चर्चा की जा सके।

एक संयुक्त संवादाता सम्मेलन में नेता प्रतिपक्ष रामवीर सिंह बिधूड़ी प्रदेश भाजपा के पूर्व अध्यक्ष व पार्टी विधायक विजेंद्र गुप्ता, मोहन सिंह बिष्ट, अनिल वाजपेयी, अभय वर्मा, अजय महावर व जितेंद्र महाजन ने केजरीवाल सरकार से दिल्ली जल बोर्ड के 26,000 करोड़ रुपये के घोटाले पर विस्तृत चर्चा करने के लिए विधानसभा का सत्र अविलंब बुलाने की मांग करते हुए कहा कि आज दिल्ली में न तो चौबीसों घंटे शुद्ध पेयजल की आपूर्ति ही सुनिश्चित हो पाई और न ही मैली यमुना की सफाई ही हुई, न सीवर लाइनें डाली गईं, न ही सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट लगाए गए। यमुना किनारे ज्यादा संख्या में रेनीवेल लगाकर जलापूर्ति की घोषणा पर भी अमल नहीं हुआ। पल्ला से लेकर वजीराबाद तक एक हजार एकड़ क्षेत्र में वर्षा जल संचयन योजना, दिल्ली में कुओं, बावड़ियों आदि के सरंक्षण की योजना, मुख्यमंत्री मुफ्त सेप्टिक टैंक सफाई योजना आदि किसी भी योजना को लागू नहीं किया जा सका। रेणुका व किशाऊ डैम से दिल्ली को पानी दिलाने का वायदा भी पूरा नहीं हुआ।

पूर्व प्रदेश अध्यक्ष विजेन्द्र गुप्ता ने कहा कि अरविन्द केजरीवाल की सरकार के चलते दिल्ली जल बोर्ड कंगाल हो गया। पूरा दिल्ली जल बोर्ड पूरी तरह से ठप पड़ा है। जितनी आमदनी है जलबोर्ड की उससे अधिक तो हर वर्ष व्याज चुका रहा है। यह क्यों हो रहा है, इसका जवाब केजरीवाल सरकार को देना पड़ेगा। वह अपनी जिम्मेदारी से भाग नहीं सकते। जलबोर्ड में माफिया सक्रिय है जिसके कारण 50 प्रतिशत पानी चोरी की जा रही है, जिसका कोई भी हिसाब सरकार के पास नहीं है। आखिर चोरी किए गए 50 प्रतिशत पानी का पैसा कहां जा रहा है? भारतीय जनता पार्टी इस पर चुप नहीं बैठने वाली है। इतना बड़ा आरोप लगने के बाद भी दिल्ली सरकार का चुप बैठना, दिल्ली वालों के शक को विश्वास में बदल रही है।

Post add

Leave A Reply

Your email address will not be published.