कोविड वैक्सीन राज्य में सभी के लिए उपलब्ध होगी-योगी आदित्यनाथ

सीएम योगी राम मनोहर लोहिया आयुर्विज्ञान संस्थान का किया औचक निरीक्षण

@ chaltefirte.com                         लखनऊ। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि कोरोना वायरस पर अन्तिम प्रहार करने के लिए वैक्सिनेशन का दूसरा चरण शुरू हो गया है। उन्होंने प्रदेश में कोरोना वैक्सिनेशन को केंद्र सरकार की गाइड लाइन और क्रम के अनुरूप संचालित करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि भारत सरकार द्वारा निर्धारित प्राथमिकता क्रम में कोविड वैक्सीन राज्य में सभी के लिए उपलब्ध होगी।
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ टीकाकरण को लेकर कितने संजीदा हैं, इसका अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि उन्होंने आज दूसरे राउंड की वैक्सिनेशन की हकीकत जानने के लिए राम मनोहर लोहिया आयुर्विज्ञान संस्थान का औचक निरीक्षण किया। इस दौरान उन्होंने टीका लगवा रहे स्वास्थ्य कर्मियों से बातचीत भी की। एक स्वास्थ्य कर्मी से उन्होंने पूछा कि ठीक तो हो ना? इसके बाद उन्होंने डॉक्टरों को टीकाकरण में लापरवाही न बरतने के निर्देश दिए। उन्होंने टीकाकरण के लिए की गई विभिन्न व्यवस्थाओं का निरीक्षण किया और टीकाकरण कार्य की प्रगति की जानकारी ली। डॉक्टरों ने उन्हें बताया कि अब तक 63 व्यक्तियों को टीकाकरण किया जा चुका है।
प्रदेश में कोरोना महामारी को लेकर हो रहे टीकाकरण अभियान में बड़ी संख्या में स्वास्थ्य कर्मियों ने टीका लगवाया है। दूसरे चरण के टीकाकरण अभियान के दौरान कुल100946 लोगों को कोरोना का टीका लगाया गया। स्वास्थ्य विभाग की ओर से प्रदेश में एक हजार 537 केंद्रों पर वैक्सिनेशन का कार्य किया गया।
अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद ने बताया कि अब हर गुरुवार और शुक्रवार को वैक्सिनेशन होगा। हर वैक्सिनेशन की टीम में पांच-पांच सदस्य होते हैं और अभी फेज वन और फेज टू का जो वैक्सिनेशन होगा, एक अतिरिक्त सदस्य और दे रहे हैं। उन्होंने बताया कि अभी तक वैक्सिनेशन को लेकर किसी प्रकार की अप्रिय सूचना नहीं मिली है। जितने भी लोगों ने टीका लगवाया है, सभी स्वस्थ्य हैं और सभी को 30 मिनट के आंकलन के बाद ही जाने दिया जा रहा है।

प्रदेश में कोरोना संक्रमितों का ठीक होने का सिलसिला बढ़ता ही जा रहा है। प्रदेश का रिकवरी प्रतिशत अब 97.30 प्रतिशत हो गया है। पिछले 24 घंटे में 370 नए मामले मिले हैं। जबकि इसी दौरान 484 रोगियों को डिस्चार्ज किया गया है। देश में सबसे ज्यादा जांच दो करोड़ 68 लाख 53 हजार 170 लोगों की प्रदेश में हुई है।

Post add

Leave A Reply

Your email address will not be published.