सामाजिक जागरूकता की अभिनव पहल है नौबत बाजा

अनोखी पहल

बाल मुकुन्द ओझा

देश भर में विभिन्न विषयों पर सामाजिक जागरूकता में रेडियो, टेलिविजन, इंटरनेट तथा सोशल मीडिया की महत्वपूर्ण भूमिका है। इन सभी संचार माध्यमों को आपस में मिला कर लोगों तक स्वस्थ, मनोरंजक, सामाजिक चेतना और सरकारी योजनाओं की जानकारियां पहुंचाने के लिए एक अनोखी पहल राजस्थान में की गई है। ये असल में 15 – 20 मिनट का रेडियो है जिसमें हमारे आस पास की दुनिया के हाल चाल जानने समझने वाली बातें हैं, मनोरंजन है और गाने हैं। इसे नौबत बाजा का नाम दिया। इसमें मोबाइल फोन और रेडियो चैनल दोनों को आपस में जोड़ा गया है और शिक्षा व मनोरंजन का एक ऎसा माध्यम विकसित किया गया है जो पूरे प्रदेश में लोकप्रिय हो रहा है। अब सिर्फ मिस्ड काल पर मनोरंजन भी और जानकारियाँ भी बिल्कुल निशुल्क – नौबत बाजा मिस्ड कॉल वाला रेडियो 7733959595 पर आपको मिलेगी।
नौबत बाजा के बारे में खास बात ये है कि ये मिस्ड कॉल वाला रेडियो है। इसे स्मार्ट, साधारण या लैंड लाइन वाले फोन से मिस्ड कॉल देकर अपनी मर्जी के वक्त सुना जा सकता है। मिस्ड कॉल करे 7733959595 नम्बर पर और जाने सामाजिक मुद्दों, करियर, स्वस्थ्य सम्बंधित जानकारी, सरकारी योजनाए और साथ ही साथ सुने मजेदार चुटकुले, गाने, नाटक और कहानियाँ। इसी के साथ सरकारी नौकरी, योजनाओं, मुद्दों, कैरियर और मनोरंजन से जुड़ी जानकारी सिर्फ एक मिस्ड कॉल पर मिलेगी।
तकनीक का यदि सही ढंग से इस्तेमाल किया जाए तो इससे आश्चर्यजनक परिणाम प्राप्त किए जा सकते हैं। मिस्ड कॉल करने के बाद दूसरे नंबर से आपके पास कॉल आता है। इस कॉल में 15 मिनिट तक ना सिर्फ आपको आपके पसंदीदा गाने या कोई मनोरंजक कार्यक्रम सुनाने के साथ ही स्वास्थ्य शिक्षा, लैंगिक समानता, बाल विवाह, स्वच्छता जैसे अनेक विषयों पर कोई संदेश भी दिया जाता है।
राजस्थान सरकार ने वर्ष 2019, में अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर आठ मार्च को इस अनोखी पहल मोबाइल रेडियो प्रोजेक्ट की शुरूआत की थी। संयुक्त राष्ट्र जनसंख्या कोष राजस्थान के प्रभारी सुनील जेकब ने इस ज्ञान विज्ञानं से ओतप्रोत मनोरंजक और शिक्षाप्रद कार्यक्रम को प्रदेशवासियों के लिए एक अनुपम धरोहर बताया। राजस्थान सरकार की महिला व बाल विकास मंत्री ममता भूपेश द्वारा इसका शुभ आरम्भ किया गया। इसका संचालन जीवन आश्रम संस्था द्वारा किया जा रहा है और राज्य सरकार राजस्थान, रूरल इलेक्ट्रिफिकेशन कॉर्पोरेशन फाउंडेशन एवं यूएनएफपीए के सहयोग से इस प्रोजेक्ट को शुरू किया गया है। सरकार के विभिन्न विभाग जैसे महिला व बाल विकास, सामाजिक न्याय व अधिकारिता चिकित्सा व स्वास्थ्य शिक्षा आदि इससे जुड़े हुए हैं और अपने विभागों से जुड़ी नवीनतम जानकारियाँ इस प्रोजेक्ट को भेजते हैं। जैसे स्वास्थ्य विभाग ना सिर्फ अपनी विभागीय जानकारियाँ बल्कि योजनाएं भी बताता है बल्कि बेहतर स्वास्थ्य के लिए रोचक संदेश भी देता है। इसी तरह महिला व बाल विकास विभाग की ओर से महिलाओं और बच्चों के विकास बाल विवाह के उन्मूलन बच्चों के स्वास्थ्य और विभाग द्वारा संचालित योजनाओं के बारे में बताया जाता है।
इस प्रोजेक्ट के संदेशों में सबसे बड़ा फोकस बढ़ते बच्चों यानी किशोर-किशोरियों पर है। समाज का यह एक ऐसा वर्ग है जो इस अवस्था में कई तरह के शारीरिक और मानसिक बदलावों से गुजरता है। ग्रामीण ही नहीं शहरी क्षेत्रों में भी किशोर-किशोरियों अपने इन बदलावों के बारे में अपने माता-पिता या रिश्तेदारों से खुल कर चर्चा नहीं कर पाते हैं। ऐसे में उन्हें सही जानकारी नहीं मिल पाती है और कई तरह के स्वास्थ्य सम्बन्धी व मानसिक समस्याएं खड़ी हो जाती हैं। आज के समय में इन किशोर किशोरियों और युवाओं में मोबाइल फोन आसानी से उपलब्ध है।
प्रोजेक्ट का संचालन कर रही जीवन आश्रम संस्था की संस्थापक राधिका शर्मा का कहना है कि “हम मोबाइल तकनीक के इस फैलाव का ही सही दिशा में उपयोग कर रहे हैं। किशोर- किशोरियो का मोबाइल उन्हें ना सिर्फ मनोरंजन दे बल्कि सही दिशा भी दिखाए उनकी समस्याओं का समाधान करे और उन्हें समस्याओं से बचाए यही हमारा उद्देश्य है। साथ ही साथ अपने विचार प्रकट करने के लिए एक मंच नौबत बजा दिया गया है जो की बिल्कुल निरूशुल्क है” ।
नौबत बाजा को अभी तक 3 लाख से ज्यादा लोग कॉल कर सुन चुके है। नौबत बाजा के अंतर्गत विभिन्न प्रकार के कार्यक्रमों का आयोजन स्वस्थ्य विभाग, शिक्षा विभाग, नेहरू युवा केंद्र संगठन, एन एस एस के साथ मिलकर किया गया है। नौबत बाजा अभी तक कई नेहरू युवा केंद्र संगठन, एन एस एस, साथिन , एवं प्रचेता के साथ मिलकर राज्य स्तरीय और जिला स्तरीय कार्यशाला का आयोजन किया गया और साथ ही साथ स्लम वालंटियर्स के लिए क्षमता निर्माण प्रशिक्षण का भी आयोजन किया गया है जिसमें लगभग 300 से ज्यादा वालंटियर्स ने भाग लिया। राष्ट्र और राज्य में कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए, संचार वाहनों के माध्यम से नौबत बाजा कोरोना अभियान चलाने की योजना बनाई गई। अभियान के लिए अजमेर, अलवर और जोधपुर सहित तीन जिलों का चयन किया गया। 7 सितंबर को, मुख्यमंत्री और स्वास्थ्य मंत्री, एमडी-एनएचएम द्वारा संचार वाहन का शुभारंभ किया गया। नौबत बाजा के प्रचार के लिए 150 दीवार पेंटिंग की गई हैं, और साथ ही साथ चार भित्ति चित्र भी की गई है।

Post add

Leave A Reply

Your email address will not be published.