टीएमयू के एफओईसीएस की ओर से तीन दिनी उद्यमिता जागरूकता शिविर आयोजित

जॉब क्रिएटर बनें, सीकर नहीं

श्याम सुंदर भाटिया                                             मुरादाबाद। हमें नौकरी करने वाले ही नहीं अपितु नौकरी देने वाले भी चाहिएं ताकि देश की जीडीपी में ग्रोथ हो सके। हमें हमेशा अपनी सामर्थ्य के अनुसार तकनीक का उपयोग करके दिक्कतों को सुलझाने का प्रयास करना चाहिए। हम अर्थशास्त्र और तकनीक को दो अलग.अलग ध्रुव समझते हैंए लेकिन जब तक प्रौद्योगिकी के छात्रों को अर्थशास्त्र का ज्ञान नहीं होगाए हमें उनकी ओर से नए स्टार्टअप नहीं मिलेंगे। यदि छात्रों की नई ऊर्जा और नव विचारों को सही दिशा मिल जाए तो हमारे यहां बेरोजगारी की समस्या को काफी हद तक दूर किया जा सकता है। यह कहना है, आईनर्चर इन्क्यूबेशन फाउंडेशनए गाजियाबाद के सीईओ  महेंद्र गुप्ता का। वह तीर्थंकर महावीर यूनिवर्सिटी के फ़ैकल्टी ऑफ इंजीनियरिंग एंड कम्प्यूटिंग साइंसेज़.एफओईसीएस की ओर से भारतीय उद्यमिता विकास संस्थान और विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग, केंद्र सरकार के तत्वावधान में आयोजित तीन दिवसीय उद्यमिता जागरूकता शिविर में बतौर की.नोट स्पीकर बोल रहे थे। इस शिविर के लिए डिपार्टमेंट ऑफ़ साइंस एंड टेक्नोलॉजी .डीएसटी ने फंडिंग की है। शिविर का शुभारम्भ सरस्वती वंदना से हुआ। इस मौके पर अतिथि महेंद्र गुप्ता, टीएमयू के कुलपति प्रो रघुवीर सिंह कॉलेज निदेशक प्रो राकेश कुमार द्विवेदी आदि मौजूद रहे। इससे पूर्व चीफ प्रोग्राम कोऑर्डिनेटर  प्रदीप कुमार वर्मा ने सभी अतिथियों को तुलसी का पौधा भेंट करके स्वागत किया। श्री वर्मा ने बतायाए अंत में सभी छात्र.छात्राओं सर्टिफिकेट वितरित किए गए।

टीएमयू के वाइस चांसलर प्रो रघुवीर सिंह ने कहा, नई सोच, बेहतर दृष्टिकोण और कार्यशीलता ही एक बड़े उद्यमी को जन्म देती है। उन्होंने केएफसी ,बिरला, रिलायंस, पेटीएम जैसी कंपनी के संस्थापकों की सफलता की प्रेरक कहानियां छात्रों से साझा कीं। उन्होंने नव स्थापित व्यवसाय विफल होने के कारणों पर भी प्रकाश डाला। प्रो सिंह बोले, इस उद्यमिता विकास जागरूकता शिविर से छात्र.छात्राओं को स्टार्टअप और आत्मनिर्भरता की दिशा में मदद मिलेगी। भारतीय स्टेट बैंक, मुरादाबाद के डिप्टी मैनेजर  विकास यादव ने छात्रों से स्टार्टअप शुरू करने के लिए आवश्यक वित्तीय पहलुओं पर प्रकाश डाला। उन्होंने बताया, स्टार्टअप पारंपरिक व्यवसाय से किस तरह भिन्न है। श्री यादव ने छात्रों को नव व्यवसाय को प्रोत्साहित करने हेतु वित्तीय सहयोग के संबंध में केंद्र सरकार और बैंकों की विभिन्न योजनाओं से अवगत कराया।

एफओईसीएस के निदेशक प्रो द्विवेदी ने उद्यमिता शिविर के महत्व पर चर्चा करते हुए बतायाए क्यों सरकारी और गैर सरकारी संगठन उद्यमिता और आत्मनिर्भरता की दिशा में विश्वविद्यालयों में जागरूकता अभियान चला रहे हैं। उन्होंने छात्रों से माइक्रोसॉफ्ट के सह संस्थापक और अध्यक्ष उद्यमी बिल गेट्स की सफलता की कहानी भी साझा की। बोले, एक सफल उद्यमी में आत्मविश्वासए निर्णय लेने की क्षमताए नेतृत्व क्षमता जैसे गुण अवश्य होने चाहिए।

कैंप में बीटेक एलुमिनाई अजय शेट्टी और नितिन सागर ने अपने स्टार्टअप पार्क प्लग की सफल यात्रा को साझा करते हुए बतायाए कैसे उनकी पार्क प्लग को प्ले स्टोर की सफलतम ऐप में 32 वां स्थान प्राप्त हुआ है। छात्र भी अपने सीनियर्स को एक सफल उद्यमी के रूप में देखकर प्रोत्साहित हुए। अंत में अंग्रेजी विभाग की प्रवक्ता नेहा आनंद ने छात्रों को व्यवसाय में अंतरराष्ट्रीय भाषा की उपयोगिता के विषय में जागरूक किया। उन्होंने छात्रों को जागरुक और प्रोत्साहित करने के लिए कई दिलचस्प गतिविधियाँ भी कराई। कैंप में  अंकित शर्मा,  अरुण कुमार, उमेश सिंह,  गोपाल, विनीत जायसवाल आदि मौजूद रहे ।

 

Post add

Leave A Reply

Your email address will not be published.