दिल्ली-रेवाड़ी सेक्शन पर गढ़ी और पातली स्टेशनों के बीच नॉन इंटरलॉकिंग का कार्य पूर्ण

प्रत्येक स्टेशन से 15 रैकों का अतिरिक्त लदान हो सकेगा

@ chaltefirte.com                       नई दिल्ली। उत्तर रेलवे के महाप्रबंधक आशुतोष गंगल ने बताया कि ढाँचागत विस्तार, संरक्षा, गति और वहन क्षमता में वृद्धि के लिए उत्तर रेलवे ने दिल्ली-रेवाड़ी सेक्शन पर गढ़ी और पातली स्टेशनों के बीच नॉन इंटरलॉकिंग का कार्य सफलतापूर्वक पूरा किया है ।दिल्ली मंडल के दिल्ली-रेवाड़ी सेक्शन पर गढ़ी और पातली स्टेशनों पर लगी एसआईएमआईएस के स्थान पर वैस्टरेस मार्क-2 इलेक्ट्रॉनिक इंटरलॉकिंग लगाई है इससे यहां के प्रत्येक स्टेशन से 15 रैकों का अतिरिक्त लदान किया जा सकेगा।

गढ़ी और पातली स्टेशनों की प्रमुख विशेषताएं ये है कि गढ़ी स्टेशन पे रूटों की संख्या 67 हैं जबकि नए रूट 80 हैं।यहां पर प्वाइंट एम/सी की संख्या 37 तथा सिगनल 20 हैं।गढ़ी स्टेशन पर शुरू की गई अतिरिक्त सुविधाओं में एक अतिरिक्त लाइन- लाइन नं0 9,टावर वैगन साइडिंग-1और मशीन साइडिंग-1 हैं।
यांत्रिक रूप से उठाए जाने वाले बैरियर को बदलकर स्लाइडिंग बूम वाला इलेक्ट्रिक लिफ्टिंग बैरियर लगाया गया।गढी-पातली के बीच ब्लॉक वर्किंग को बदलकर बीपीएसी से एसजीई किया गया।इससे गढ़ी स्टेशन से 15 रैकों का अतिरिक्त लदान संभव होगा।
पातली स्टेशन पर रूटों की संख्या अभी 39 हैं जो बढ़कर 106 हो जायेगा।यहां पर प्वाइंट एम/सी-३१,के-प्वाइंट-२,सीएच-१५ और सिगनल-19 हैं।
यहां पे शुरू की गई अतिरिक्त सुविधाओं में अतिरिक्त लाइनें- आरडी-1और आरडी-२ की 719 मीटर की शंटिंग नेक जिससे पातली स्टेशन से 15 रैकों का अतिरिक्त लदान संभव होगा ।

Post add

Leave A Reply

Your email address will not be published.