कुनबे की राजनीति से घिरा भारत का लोकतंत्र

बाल मुकुन्द ओझा

दुनियां में परिवारवाद सदैव फलता फूलता रहा है। भारत ही नहीं अपितु उसके पडोसी देश इसके ज्वलंत उदहारण है। भारत में नेहरू-गाँधी परिवार, नेपाल में कोइराला परिवार, बांग्लादेश में शेख मुजीबुर्रहमान एवं शेख जियाउर्रहमान परिवार, श्रीलंका में भंडारनायके परिवार एवं जयवर्द्धने परिवार और पाकिस्तान में भुट्टो, नवाज शरीफ परिवार प्रमुख है। भारत में कुनबे की सियासत का प्रादुर्भाव आजादी और लोकतंत्र के साथ साथ शुरू हुआ। उस दौरान अनेक परिवार राजनीति में आगे बढे। अनेक परिवारों ने अपनी जाति और क्षेत्र के आधार पर अपना वर्चस्व कायम किया। यह देखा गया है है जिस परिवार से कोई एक बड़ा और शक्तिशाली नेता हो गया है वह अपने परिवार के अन्य सदस्यों को भी इसी में खींच लेता है जिसके कारण राजनीति को वंशवाद और परिवारवाद से निजात नहीं मिल पाती।
देश की आजादी के बाद नेहरू-गांधी परिवार राजवंश की राजनीति को बढ़ावा देने की अगुवा मानी जाती रही है। वर्तमान में उत्तर प्रदेश में अखिलेश यादव, बिहार में तेजस्वी यादव, कर्नाटक में कुमार स्वामी, बिहार में चिराग पासवान, पंजाब में बादल, हरियाणा में चौटाला, कश्मीर में अब्दुल्ला, ओडीशा में पटनायक, तेलंगाना में चंद्रशेखर राव का परिवार, मध्य प्रदेश में सिंधिया परिवार, महाराष्ट्र में ठाकरे और सुप्रिय सुले तथा कांग्रेस में राहुल गाँधी देश में वंश और परिवारवाद की कमान थामे हुए है। भारत में राजनैतिक वंशवाद का सबसे महत्वपूर्ण कारण व्यक्ति पूजा रहा है। नेहरू गाँधी परिवार अपनी असीम लोकप्रियता और व्यक्ति पूजा के कारण सियासत में अब तक अपना वर्चस्व कायम रखने में सफल रहा है। मोतीलाल नेहरू से राहुल गाँधी तक कांग्रेस नेहरू- गाँधी परिवार के कब्जे में रही है। मोतीलाल ,जवाहर लाल, इंदिरा गाँधी ,राजीव गाँधी ,सोनिया गाँधी और अब राहुल गाँधी ने देश की सबसे पुरानी पार्टी का नेतृत्व किया है। आजादी के बाद कांग्रेस को अनेकों जंझावतों का सामना करना पड़ा। पहले समाजवादी बाहर निकले। फिर इंडिकेट सिंडिकेट का झगड़ा सामने आया। शरद पंवार और ममता के अलग होने के बाद कांग्रेस का नेतृत्व पूरी तरह सोनिया के हाथों में आगया। सोनिया के बाद अब राहुल कांग्रेस का नेतृत्व संभालेंगे। अब इसे आप परिवारवाद भी कह सकते है मगर इसका कोई विकल्प नहीं है।
परिवारवाद केवल कांग्रेस में ही नहीं है अपितु देश की लगभग सभी पार्टिया. परिवारवाद की शिकार है। देश में लगभग एक दर्जन राजनीतिक दल ऐसे है जो एक ही परिवार की बपौती है। इनमें शिवसेना, राष्ट्रीय जनता दल, समाजवादी पार्टी, डीएमके, एनसीपी, देवेगौड़ा की जनता दल धरम निरपेक्ष, शिरोमणि अकाली दल, नेशनल कॉन्फ्रेंस, पीडीपी, लोक जनशक्ति पार्टी, हरियाणा में चौटाला परिवार की पार्टियां, झारखंड के सोरेन परिवार की पार्टी टीआरएस ऐसे दल हैं जिनमें वंशवाद की झलक साफ तौर पर देखने को मिलती है। ये पार्टिया पूरी तरह परिवार के मोह में फंसी है। भाजपा सहित अन्य पार्टियों में भी अनेक नेताओं के परिवार राजनीति में सक्रीय है। वामपंथी पार्टियां अवश्य इस रोग से दूर है।
हमारे देश की राजनीति में परिवारवाद बढ़ता ही जा रहा है। अधिकांश राजनीतिक दलों के मुखिया ने प्रमुख पदों पर अपने परिवार के सदस्यों को ही विराजमान कर दिया है। जितनी तेजी से राजनीतिक दलों में परिवारवाद पांव पसार रहा है, वह दिन दूर नहीं जब शायद कोई आम आदमी चुनाव लड़ सके। देश में बड़ी राष्ट्रीय पार्टियों में एक-दो को छोडकर बाकी सभी एक विशेष परिवार तक सिमट कर रह गई हैं। कहा जाता है की इंसान अपने जन्म से नहीं कर्म से जाना जाता है,ये हम सब जानते है। आज नेता अपने खानदान से ज्यादा जाने जाते है अपने कर्मो और योग्यता के लिए कम जाने जाते है।
दक्षिण की बात करें तो लोकसभा में कांग्रेस के नेता खड़गे का परिवार , सिद्धारमैया का परिवार मूपनार का परिवार। वंशवाद केवल बड़ी राष्ट्रीय पार्टियों में नहीं है, छोटी बड़ी क्षेत्रीय पार्टियों में भी कुछ परिवारों का अच्छा खासा वजूद है. -महाराष्ट्र में ठाकरे परिवार का भी हाल राजनीति में कुछ ऐसा ही रहा है। उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी के मुखिया मुलायमसिंह के परिवार के लगभग बीस छोटे बड़े सदस्य कुर्सियों पर विराजमान हैं। पंजाब में अकाली दल के प्रकाशसिंह बादल के एक दर्जन पारिवारिक लोग कुर्सियों पर काबिज हैं। हरियाणा में स्वर्गीय देवीलाल के पुत्र चौटाला जी और उनके बेटे राजनीति में हैं। कश्मीर में स्व. शेख अब्दुला के बाद उनके बेटे फारूख अब्दुला और उनके भी बेटे उमर अब्दुला है। कश्मीर में ही महबूबा मुफ्ती अपने पिता भूतपूर्व केन्द्रीय गृह मन्त्री की विरासत की मालकिन हैं। हिमांचल के भारतीय जनता पार्टी के पूर्व मुख्यमंत्री के पुत्र अनुराग ठाकुर हैं। हरियाणा के दो भूतपूर्व बड़े नेता चौधरी बंशीलाल व भजनलाल के वंशज राजनीति में सक्रिय हैं। बिहार के राजद के बड़े नेता लालू प्रसाद ने अपनी पत्नी राबड़ी देवी को चूल्हे से सीधे मुख्यमन्त्री बनाया था। स्वर्गीय लालबहादुर शास्त्री जी के पुत्र, गोविन्दवल्लभ पन्त के पुत्र-पौत्र, मध्यप्रदेश के शुक्ला बन्धु अपने पिता की विरासत को लंबे समय तक संभालते रहे। चौधरी चरणसिंह के पुत्र एवं पौत्र उनके बताए मार्ग पर चल रहे हैं। मध्यप्रदेश के राज घराने वाले सिंधिया परिवार की पीढ़ियां राजनीति की अग्रिम पंक्ति में सक्रिय हैं। दक्षिण में तमिलनाडू में स्वर्गीय करुनानिधि के पुत्र एवं पुत्री, भतीजे व अन्य रिश्तेदारों के साथ राजनीति का सुख ले रहे हैं। केरल में स्वर्गीय करुणाकरण ने पुत्र मोह में बहुत खेल किया, और पार्टी से विद्रोह किया। कर्नाटक में देवेगौड़ा के बेटे का मुख्यमंत्री बनना और हटाया जाना ज्यादा पुराना मामला नहीं है। आंध्र में ही पूर्व मुख्यमन्त्री राजशेखर रेड्डी के पुत्र जगन के हक की लड़ाई केवल कुर्सियों के लिए चली है। झारखंड में शिबूसोरेन का व उनके बेटे का राजनीतिक दांवपेंच सिर्फ कुर्सी के लिए चलता रहा है। एनसीपी नेता शरद पवार की बेटी राज्यसभा में और भतीजा राज्य में प्रतिनिधित्व कर रहे हैं। इस प्रकार के कई राजनीतिकों के बेटे, भतीजे और भाई अपने बाप या दादा की वसीयत को सम्हाले हुए हैं। यह भी कहा जाता है परिवारवाद और भ्रष्टाचार में चोली दामन का साथ है। दो पूर्व मुख्यमंत्री और परिवारवाद की सियासत के जनक लालू यादव आज भी जेल में बंद है और ओमप्रकाश चौटाला भ्रष्टाचार के आरोपों में जेल काट चुके है। पूर्व मुख्यमंत्री फारुख अब्दुल्ला और महबूबा भ्रष्टाचार के आरोपों से घिरे है।
भारत का लोकतंत्र भी अजब निराला है। पल में तोला पल में मासा की राजनीति सर्वत्र हावी है। मतदाता चाह कर भी जाति और क्षेत्र की राजनीति के भंवर से आजादी के 75 वर्षों के बाद भी निकल नहीं पाए है। लोकतंत्र ने आज पूरी तरह परिवारतंत्र का जामा पहन लिया है। बड़े बड़े आदर्शों की बात करने वाले नेता परिवारमुखी होगये है। देश वंशवाद से कब मुक्त होगा यह बताने वाला कोई नहीं है।

(लेखक वरिष्ठ स्तम्भकार एवं पत्रकार हैं)

 

Post add

Leave A Reply

Your email address will not be published.