महाराष्ट्र: भंडारा के जिला अस्पताल में आग, 10 नवजात जिंदा जले, पीएम-गृह मंत्री ने जताया दुख

महाराष्ट्र भंडारा। महाराष्ट्र के भंडारा में जिला अस्पताल में आग लगने से 10 बच्चों की मौत हो गई है। इन बच्चों की उम्र एक दिन से लेकर 3 महीने तक बताई जा रही है। आग से 7 बच्चों को सुरक्षित भी बचा लिया गया है। आग बीमार नवजातों के लिए बने आईसीयू यानी (SNCU) में रात 2 बजे लगी। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने ज़िला अस्पताल में आग लगने की घटना को लेकर स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे के साथ-साथ भंडारा जिले के कलेक्टर और पुलिस अधीक्षक से बात की। उन्होंने जांच का भी आदेश दिया है।आग की वजह फिलहाल स्पष्ट नहीं है लेकिन कहा जा रहा है कि बच्चों के लिए चलने वाले वॉर्मर में शॉट सर्किट के बाद यह आग लगी।
हादसे को लेकर पीएम मोदी, केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह और कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने दुख जताया है। पीएम मोदी ने लिखा, ‘महाराष्ट्र के भंडारा में दिल दहला देने वाली त्रासदी हुई, जहां हमने कीमती युवा जीवन को खो दिया। मेरे विचार सभी शोक संतप्त परिवारों के साथ हैं। मुझे उम्मीद है कि घायल जल्द से जल्द ठीक हो जाएंगे।’
केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने हादसे को लेकर संवेदना प्रकट की है। उन्होंने ट्वीट किया है, ‘महाराष्ट्र के भंडारा ज़िला अस्पताल में लगी आग दुर्घटना बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है। मेरी संवेदनाएं शोक संतप्‍त परिवारों के साथ हैं। भगवान उन्हें इस अपूरणीय क्षति को सहन करने की शक्ति दे।
जिला अस्पताल के सिविल सर्जन डॉक्टर प्रमोद खंडाते के मुताबिक, अस्पताल के सिक न्यूबॉर्न केयर यूनिट (SNCU) में रात 2 बजे यह आग लगी। आग में 10 बच्चों ने झुलस कर दम तोड़ दिया और 7 बच्चों को सुरक्षित बचा लिया गया है। प्रमोद खंडाते के मुताबिक, वहां मौजूद नर्स को धुआं दिखा। जब नर्स ने वॉर्ड का दरवाजा खोला तो चारों तरफ धुआं फैला हुआ था। नर्स ने तुरंत अस्पताल के अधिकारियों को सूचित किया और फायर ब्रिगेड को बुलाया गया। फायर ब्रिगेड ने मौके पर पहुंच बचाव कार्य किया लेकिन तब तक 10 बच्चों की जान दम घुटने से जा चुकी थी।
राहुल गांधी ने जताया दुख
घटना के बाद कांग्रेस नेता और वायनाड से सांसद राहुल गांधी ने ट्वीट कर अपनी संवेदनाएं जाहिर की। उन्होंने ट्वीट किया कि वह महाराष्ट्र सरकार से अपील करते हैं कि मृतक और घायल बच्चों के परिवारों को हर संभव मदद दे।

Post add

Leave A Reply

Your email address will not be published.