दुनिया ने मोदी को ग्लोबल लीडर के रूप में स्वीकारा

बाल मुकुन्द ओझा

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का जलवा बरकरार है। मोदी की लोकप्रियता लगातार बनी हुई है। बढ़ती कीमतों (खासतौर पर पेट्रोल-डीजल), किसानों के आंदोलन, बेरोजगारी, कारोबार के नुकसान, नोटबंदी, जीएसटी आदि की नाराजगी के बावजूद लोगों पर अभी भी मोदी का जादू बरकरार है। मोदी सरकार के सात साल के कार्यकाल दौरान उनके विरोधियों में उनके प्रति बेहद नाराजगी का भाव है। देश की अर्थव्यवस्था में गिरावट आई है और बेकारी बढ़ी है । इसके बावजूद लोगों का मानना है भ्रष्टाचार को काबू में करने की मोदी ने ईमानदारी से प्रयास किया है जिसकी वजह से सरकारी मदद का लाभ जरूरतमंद गरीबों और असहाय लोगों तक पहुंचा है। कोरोना काल में भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की दुनियाभर में लोकप्रियता में जबर्दस्त इजाफा हुआ है। अमेरिकी एजेंसी मॉर्निंग कंसल्ट द्वारा किए गए सर्वे में ये बात निकलकर आई है। एजेंसी के मुताबिक पीएम मोदी की कुल अप्रूवल रेटिंग 55 प्रतिशत है। एजेंसी की रिपोर्ट में यह भी दिखाया गया है कि नरेंद्र मोदी की लोकप्रियता सभी वैश्विक नेताओं में सबसे अधिक है। यह एजेंसी दुनिया भर के नेताओं और सरकार की अप्रूवल रेटिंग जारी करती है। मॉर्निंग कंसल्टिंग पॉलिटिकल इंटेलिजेंस वर्तमान में 13 देशों (ऑस्ट्रेलिया, ब्राजील, कनाडा, फ्रांस, जर्मनी, भारत, इटली, जापान, मैक्सिको, दक्षिण कोरिया, स्पेन, यूनाइटेड किंगडम, संयुक्त राज्य अमेरिका) में नेताओं की रेटिंग पर नजर रखती है। दुनिया भर के नेताओं और सरकार की रेटिंग के लिए सर्वेक्षण करती रहती है। एक अन्य वैश्विक सर्वे में माना गया है की विभिन्न समस्याओं को त्वरित निपटाने में मोदी बहुत आगे है। विशेषकर कोरोना महामारी को थामने में मोदी के प्रयास बेमिसाल है। दुनिया के देश कोरोना को नियंत्रित करने में अधिक सफल नहीं हुए जबकि मोदी ने कोरोना को थामने में सफलता हासिल की है।
मोदी देश में एक साथ चार चार खतरों का साहसपूर्ण मुकाबला कर रहे है। कोरोना के अतिरिक्त अर्थव्यवस्था में गिरावट और सरहद पर चीन की चालाकियां भरी आक्रामकता के साथ विपक्ष के हमले से निपटने में कामयाब हुए है। यही कारण है दुनिया ने मोदी को ग्लोबल लीडर के रूप में स्वीकारा है। छह माह पूर्व इंडिया टुडे-कार्वी इनसाइट्स के छमाही देश का मिजाज जनमत सर्वेक्षण के संस्करण के मुताबिक प्रधानमंत्री की लोकप्रियता आकाश चूमने लगी है। सर्वेक्षण में 78 फीसद लोगों ने उनके कामकाज को अच्छा से लेकर बेहतरीन तक आंका है।
देश के सूचना और प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर का कहना है दुनिया के नेताओं में मोदी की स्वीकार्यता और लोकप्रियता सर्वाधिक है। मोदी की यह लोकप्रियता कोरोना प्रबंधन सहित देश में सामाजिक विकास कार्यों में अर्जित उपलब्धियों के फलस्वरूप है। उन्होंने कहा मोदी ने देश का मान सम्मान बढ़ाया है। पिछले दो वर्षों में मोदी को अनेक वैश्विक सम्मानों से नवाजा गया। लोगों के दिल और दिमाक में मोदी है। जावड़ेकर ने पिछले दो वर्षों में मिले वैश्विक सम्मान की जानकारी दी।
निर्विवाद रूप से इस समय भारत के प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी का डंका दुनियाभर में धड़ल्ले से बज रहा है। भाजपा के सत्तारूढ़ होने के बाद और अनेक सर्वेक्षणों में लोगों ने मोदी की बादशाहत स्वीकार की है। कोराना के महासंकट से पूरी दुनिया जूझ रही है। अमीर हो या गरीब सभी देशों को कोराना से संघर्ष करना पड़ रहा है। लेकिन इस महाजंग में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपनी अलग छाप छोड़ी है। विभिन्न अंतरराष्ट्रीय एजेंसियों ने कोरोना से जंग में मोदी को नंबर वन माना है। कोरोना महामारी की वजह से जहां एक ओर ज्यादातर वर्ल्ड लीडर्स की लोकप्रियता में गिरावट आई है वहीं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का जादू बरकरार है। कोरोना महामारी के इस दौर में प्रधानमंत्री मोदी के कामकाज पर दुनिया की एजेंसियां लगातार मुहर लगा रही हैं। दुनिया की मशहूर सर्वे एजेंसी गैलप ने कोरोना के संकट काल में 28 देशों की सरकारों के कामकाज पर सर्वे किया है। सर्वे में सामने आया है कि कोरोना संक्रमण से निपटने में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दुनिया के लीडर नंबर 1 हैं। सर्वे में शामिल 91 फीसदी लोगों की राय है कि भारत सरकार कोरोना से निपटने में अच्छा काम कर रही है। गैलप के सर्वे में भारत सरकार की रेटिंग दुनिया भर की सरकारों में नंबर 1 है। इसके बाद ब्रिटेन की ऑनलाइन डिजिटल और एनालिटिक्स फर्म yougov  ने अपने सर्वे में कोरोना से निपटने में पीएम मोदी को दुनिया का दूसरा सर्वाधिक पॉपुलर लीडर माना है।
मोदी सरकार के पिछले 7 साल उपलब्धियों भरे रहे जिसके कारण मोदी को अभूतपूर्व सफलता मिली। मोदी ने प्रधानमंत्री रहते हुए अब तक दर्जनों जनमानस से जुड़ी हुई योजनाओं को लागू कराया है जिसका सीधा-सीधा लाभ आम जनता हो रहा है। 2014 में गांधी जयंती से शुरू हुआ स्वच्छ भारत अभियान मोदी सरकार की सबसे बड़ी सफलता है। इस अभियान के तहत अभी तक देश में लाखों शौचालय बनाए जा चुके हैं। तमाम सिलेब्रिटीज के जरिए लोगों को सफाई के प्रति जागरूक किया गया। राज्यों और शहरों को सफाई के लिए प्रेरित करने हेतु सरकार ने स्वच्छ शहरों की लिस्टिंग भी शुरू की। जिसके बाद से कई जिले खुले में शौच से मुक्त घोषित किए जा चुके हैं। यह एक बहुत बड़ा कदम था जिसकी सराहना दुनिया भर में देखने और सुनने को मिली। मोदी सरकार के कार्यकाल में प्रधानमंत्री जनधन योजनाए मुद्रा बैंक योजना प्रधानमंत्री ज्योति बीमा योजना अटल पेंशन योजनाए उज्ज्वला योजना और प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना जैसी तमाम स्कीमें लाई जिन्होंने गरीबों के जीवन.स्तर को सुधारने में मदद की। इन योजनाओं से देशभर में करोड़ों परिवारों के सामाजिक और आर्थिक स्तर में बदलाव देखने को मिला।
(लेखक वरिष्ठ स्तम्भकार एवं पत्रकार हैं)

 

Post add

Leave A Reply

Your email address will not be published.