दिल्ली जल बोर्ड में टैंकर घोटाले के खिलाफ आज भाजपा ने किया मटका फोड़ प्रदर्शन

नई दिल्ली। दिल्ली भाजपा अध्यक्ष आदेश गुप्ता के नेतृत्व में आज मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के संरक्षण में चल रहे टैंकर घोटाले के खिलाफ दिल्ली जल बोर्ड मुख्यालय के बाहर मटका फोड़ प्रदर्शन किया गया। इस प्रदर्शन में नेता प्रतिपक्ष रामवीर सिंह बिधूड़ी, राष्ट्रीय प्रवक्ता सरदार आरपी सिंह, प्रदेश मीडिया प्रमुख नवीन कुमार, करोल बाग जिला अध्यक्ष राजेश गोयल, नई दिल्ली जिला अध्यक्ष प्रशांत शर्मा, उत्तर पूर्व जिला अध्यक्ष मोहन गोयल सहित निगम पार्षद एवं टैंकर माफिया के कारण पानी की समस्या से जूझ रहे लोगों ने हिस्सा लिया।

प्रदेश अध्यक्ष आदेश गुप्ता ने कहा कि पिछले 22 दिनों से दिल्ली की जनता पानी के लिए तरस रही है क्योंकि दिल्ली में पानी की टैंकर सप्लाई बंद है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री बनने से पहले अरविंद केजरीवाल ने वादा किया था कि वह दिल्ली को 24 घंटे साफ पानी की आपूर्ति करवाएंगे, लेकिन बहुत ही दुखद है कि 24 घंटे तो दूर 22 दिनों से दिल्लीवासियों को पानी नहीं मिल रहा है। गरीबों के हितैषी बनने का ढोंग करने वाले केजरीवाल ने पानी मुहैया नहीं कराया जिसके कारण लोग पैसे दे कर टैंकर माफिया से पानी लेने को मजबूर हैं। केजरीवाल सरकार ने संवेदनहीनता की हदें पार कर दी है। दिल्ली को इस वक्त 1100 एमजीडी पानी की जरूरत है लेकिन आपूर्ति सिर्फ 850 एमजीडी की आपूर्ति हो रही है, वो पानी भी साफ नहीं आता है। अपनी नाकामी छुपाने के लिए केजरीवाल सरकार बहाना यह बनाती है कि हरियाणा से गंदा पानी यमुना में छोड़ा जा रहा है जबकि हकीकत यह है कि केजरीवाल सरकार के सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट काम नहीं कर रहे हैं।

आदेश गुप्ता ने कहा कि मुख्यमंत्री केजरीवाल ने जिस बच्चे, राघव चड्ढा को जल बोर्ड की जिम्मेदारी दी है उसे समझाएं कि उसका काम दिल्ली के लोगों को साफ पानी की आपूर्ति करना है, बेतूके बयानबाजी करना नहीं। हर चुनाव से पहले मुख्यमंत्री केजरीवाल के यमुना को साफ करके थेम्स नदी बनाने के वादे का वीडियो दिखाते हुए उन्होंने कहा कि पिछले 6 वर्षों में यमुना को साफ और स्वच्छ बनाना तो दूर, दिल्लीवासियों को साफ पानी भी नहीं दे पाए। दिल्लीवासियों के प्रति अपनी जिम्मेदारी को पूरी करने के बजाए मुख्यमंत्री केजरीवाल अपने मंत्रियों की जेब भरने में लगे हैं। दिल्ली जल बोर्ड में 25000 करोड़ का घोटाला हुआ है उसके लिए दिल्ली की जनता उन्हें कभी माफ नहीं करेगी और हर पैसे का हिसाब लेगी।

नेता प्रतिपक्ष रामवीर सिंह बिधूड़ी ने कहा कि दिल्ली की करीब 60 प्रतिशत आबादी अनधिकृत कॉलोनी और बड़ी संख्या में लोग लाल डोरा के बाहर आने वाले क्षेत्रो में झुग्गी बस्तियों में रहते हैं, केजरीवाल सरकार बनते ही दिल्ली की हजारों झुग्गियां तोड़ी गई लेकिन मोदी सरकार ने यह फैसला लिया है कि दिल्ली की अनधिकृत कॉलोनियों के लाखों निवासियों के घरों पर अगले 3 साल तक कोई कानूनी कार्रवाई नहीं की जाएगी। उन्होंने कहा कि दिल्ली वासियों को स्वच्छ पानी देने की व्यवस्था पूर्व मुख्यमंत्री स्वर्गीय मदन लाल खुराना और स्वर्गीय साहिब सिंह वर्मा ने की लेकिन मुख्यमंत्री केजरीवाल ने जलापूर्ति में ही कटौती की, 40 प्रतिशत आबादी को तो पानी भी नहीं मिल रहा है। वहीं केजरीवाल सरकार के मंत्री और विधायक पानी टैंकर घोटाले में संलिप्त हैं। अपने वादों को पूरा करने में नाकाम मुख्यमंत्री केजरीवाल को इस्तीफा दे देना चाहिए।

Post add

Leave A Reply

Your email address will not be published.