स्वामी श्रद्धानंद सरस्वतीजी सामाजिक समरसता के प्रति समर्पित थे-आदेश गुप्ता

नई दिल्ली। महान समाज सुधारक, स्वतंत्रता सेनानी, प्रख्यात शिक्षाविद ’संगठन’ व ’शुद्धि’ आंदोलन के पुरोधा स्वामी श्रद्धानंद सरस्वती जी के बलिदान दिवस पर रानी बाग के स्वामी श्रद्धानंद पार्क में आयोजित समारोह में आज दिल्ली भाजपा अध्यक्ष आदेश गुप्ता ने उनकी जीवनी पर बने शिला पट्ट का उद्घाटन किया और उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की। उन्होंने कहा कि आर्य समाज के महान संत स्वामी श्रद्धानंद सरस्वती जी का सम्पूर्ण जीवन जनकल्याण एवं सामाजिक समरसता के प्रति समर्पित था। प्रदेश संगठन महामंत्री सिद्धार्थन और दिल्ली आर्य प्रतिनिधि सभा प्रधान धर्मपाल आर्य ने स्वामी श्रद्धानंद सरस्वती जी के बलिदान दिवस पर आयोजित कार्यक्रम में शिरकत की।

प्रदेश अध्यक्ष आदेश गुप्ता ने कहा कि स्वामी श्रद्धानन्द सरस्वती जी भारत के शिक्षाविद, स्वतंत्रता संग्राम सेनानी तथा आर्यसमाज के संन्यासी थे जिन्होंने स्वामी दयानन्द सरस्वती जी की शिक्षाओं का प्रसार किया। वे भारत के उन महान राष्ट्रभक्त संन्यासियों में अग्रणी थे, जिन्होंने अपना जीवन स्वाधीनता, स्वराज्य, शिक्षा तथा वैदिक धर्म के प्रचार-प्रसार के लिए समर्पित कर दिया था। उन्होंने कहा कि वे एक सफल वकील थे और तथा काफी नाम-प्रसिद्धि प्राप्त की लेकिन देश को सर्वोपरि रखते हुए निर्भीक होकर स्वतंत्रता आंदोलन में हिस्सा लिया और अंग्रेजों के विरुद्ध आंदोलन कर मुखरता से रॉलेट एक्ट का विरोध किया। आज जब हम स्वामी श्रद्धानंद सरस्वती जी के बारे में पढ़ते हैं तो स्फूर्ति मिलती है। वे ऐसे महान् युगचेता महापुरुष थे, जिन्होंने समाज के हर वर्ग में जनचेतना जगाने का कार्य किया। उन्होंने कहा कि पहले मुगलों ने फिर अंग्रेजों ने बहुत कोशिश कि हमारी सांस्कृतिक और धार्मिक विरासतों को चोट पहुंचाने की लेकिन असफल रहे। स्वतंत्रता संग्राम में स्वामी श्रद्धानंद सरस्वती जी के योगदान के कारण आज भी हमारा देश सांस्कृतिक रूप से अखंड है।

अयोध्या में श्री राम मंदिर निर्माण का जिक्र करते हुए आदेश गुप्ता ने कहा कि हम बहुत सौभाग्यशाली है कि हमें माननीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का नेतृत्व मिला और उन्होंने श्री राम मंदिर निर्माण के 500 वर्षों के संघर्ष को साकार बनाने का कार्य किया। आजादी के बाद भी कश्मीर भारत से अलग था, लेकिन धारा 370 और 35ए को समाप्त करके मोदी जी ने कश्मीर को भारत का अभिन्न हिस्सा बनाया और वहां के लोग भी अब केंद्र की जनकल्याणकारी योजनाओं का लाभ ले रहे हैं। यह हर्ष का विषय है कि जम्मू-कश्मीर के डीडीसी चुनाव में राष्ट्रवादी शक्तियों का उदय हुआ और भाजपा के प्रत्याशियों को जीत मिली। यह जीत एक पार्टी की जीत नहीं है बल्कि भारत के हर उस नागरिक की जीत है जिसने अखंड भारत का सपना देखा था। स्वामी दयानंद सरस्वती जी द्वारा दिए गए राष्ट्रवाद के विचारों का स्वामी श्रद्धानन्द सरस्वती जी ने प्रचार-प्रसार किया और हम उनके अनुयायी है। उन्होंने कहा कि यह बहुत जरूरी है कि आने वाली पीढ़ियां स्वतंत्रता सेनानियों के जीवन के संघर्ष और उनके बलिदान के बारे में जाने और उनके आदर्शों से प्रेरणा लें। इस क्रम में पार्क में स्वामी श्रद्धानन्द सरस्वती जी की जीवनी के शिला पट्ट लगाना सराहनीय कदम है।

प्रदेश संगठन महामंत्री सिद्धार्थन ने कहा कि राष्ट्र के लिए अपना सर्वस्य समर्पित करने वाले अमर हुतात्मा स्वामी श्रद्धानन्द सरस्वती जी ने स्वामी दयानन्द सरस्वती जी द्वारा जिन कार्यों की नींव रखी गई थी उनको पूरा करने का संकल्प लिया था, उन्हें पूरा करने के लिए वसुधैव कुटुम्बकम के आदर्श को अपने जीवन में अपनाया। उनके द्वारा किया गया प्रत्येक कार्य राष्ट्रहित के लिए था। स्वामी श्रद्धानन्द सरस्वती जी ने अनुपम पुरुषार्थ एवं त्याग से आर्य समाय को नया रूप दिया।

इस अवसर पर जिला अध्यक्ष राजकुमार भाटिया, निगम पार्षद वंदना जेटली, महामंत्री विनय आर्य, वेद प्रचार मंडल प्रधान सुरेंद्र आर्य, आर्य केंद्रीय सभा महामंत्री आर्य सतीश चड्ढा उपस्थित थे।

 

Post add

Leave A Reply

Your email address will not be published.