हर जगह भाजपा आ रही है, कांग्रेस जा रही है-प्रकाश जावड़ेकर

नई दिल्ली। हाल ही में संपन्न हुए बोडोलैंड टेरिटोरियल काउंसिल (BTC), 2020 के चुनाव में भाजपा को शानदार सफलता मिली है। पिछली बार के चुनाव में भाजपा को केवल एक सीट पर जीत मिली थी, जबकि इस बार भाजपा को 9 सीटों पर विजय मिली है। यहाँ ध्यान देने वाली बात यह है कि 40 सीटों वाली बोडोलैंड टेरिटोरियल काउंसिल में भाजपा ने केवल 26 सीटों पर अपने उम्मीदवार खड़े किये थे। बोडोलैंड टेरिटोरियल काउंसिल के चीफ एग्जीक्यूटिव मेंबर के लिए यूनाइटेड पीपुल्स पार्टी लिबरल (UPPL) के साथ मिल कर हमने प्रमोद बोरो का नाम प्रस्तावित किया है। बोडोलैंड टेरिटोरियल काउंसिल (BTC) चुनाव में भारतीय जनता पार्टी की जीत, पार्टी की एक और चुनावी सफलता है। इस चुनाव में कांग्रेस को केवल एक सीट पर जीत मिली है। बोडोलैंड टेरिटोरियल काउंसिल पहले कांग्रेस की हुआ करती थी। बीटीसी के चुनाव परिणाम बताते हैं कि हर जगह भाजपा आ रही है, कांग्रेस जा रही है।उक्त बातें सूचना प्रसारण मंत्री प्रकाश जाबड़ेकर आज दिल्ली में संवाददाताओं के समक्ष कही।

उन्होंने पिछले कुछ समय में देश के तमाम चुनाव परिणामो का उल्लेख करते हुए कहा कि इससे पहले पिछले सप्ताह राजस्थान के स्थानीय निकाय चुनावों में भारतीय जनता पार्टी को ऐतिहासिक सफलता प्राप्त हुई थी। सभी 21 जिला प्रमुख भाजपा के हो रहे हैं। 4371 पंचायत समिति सदस्यों के चुनाव में भाजपा को 1,990 सीटों पर विजय मिली जबकि जिला परिषदों के परिणामों में भाजपा को 606 में से 353 सीटों पर विजयश्री मिली। यह दर्शाता है कि भारतीय जनता पार्टी हर जगह जीत रही है।राजस्थान से पहले ग्रेटर हैदराबाद म्युनिस्पल कॉरपोरेशन (GHMC) के चुनाव में भारतीय जनता पार्टी को 49 सीटों पर जीत हासिल हुई जबकि इससे पहले भाजपा को केवल 4 सीटों पर जीत मिली थी। टीआरएस, जो तेलंगाना की सत्ताधारी पार्टी है, उसे पिछली बार GHMC के चुनाव में 99 सीटें मिली थी, जबकि उसे इस बार 44 सीटों का नुकसान हुआ है और उसे केवल 55 सीटों पर संतोष करना पड़ा है। कांग्रेस को महज दो सीटों पर जीत मिली है। ये समझने वाली बात है कि भाजपा किस उंचाई की ओर बढ़ रही है और कांग्रेस किस तरह नीचे जा रही है।

इससे पहले लद्दाख हिल काउंसिल के चुनाव में भी भाजपा को शानदार विजय मिली थी। 26 सीटों वाली काउंसिल में भाजपा को 15 सीटों पर जीत हासिल हुई थी जबकि कांग्रेस केवल 9 सीटों पर ही सिमट के रह गई थी।बिहार विधान सभा चुनाव में भाजपा-जदयू गठबंधन ने एक बार पुनः जनता के विश्वास पर खड़ा उतरते हुए पूर्ण बहुमत की सरकार बनाई थी। इसी के साथ देश के कई राज्यों में हुए उप-चुनावों में भी भाजपा ने जबर्दस्त जीत हासिल की थी। भाजपा को जहाँ मध्य प्रदेश में 28 में से 19 सीटों पर जीत मिली, वहीं गुजरात की आठ की आठ सीटों पर भाजपा ने कब्जा जमाया। उत्तर प्रदेश में भाजपा 7 में से 6 सीट मिली थी, जबकि मणिपुर में चार, कर्नाटक में दो की दो और तेलंगाना में एकमात्र दुब्बका उप-चुनाव में भी भाजपा को जीत मिली।अभी अरुणाचल प्रदेश के स्थानीय निकाय के चुनाव हो रहे हैं। ग्राम पंचायत की 60% सीटों पर भाजपा के उम्मीदवार निर्विरोध चुने गए हैं। 8,291 ग्राम पंचायत की 5,410 सीटों पर भाजपा के उम्मीदवार निर्विरोध विजयी हुए हैं। इसी तरह जिला परिषद् की 240 सीटों में से 90 से अधिक सीटों पर भाजपा के उम्मीदवार निर्विरोध चुने गए हैं।

चाहे असम के बोडोलैंड टेरिटोरियल काउंसिल (BTC) का चुनाव हो, अरुणाचल प्रदेश के स्थानीय निकाय के चुनाव हों, राजस्थान के स्थानीय निकाय के चुनाव हों, बिहार विधान सभा चुनाव हो, ग्रेटर हैदराबाद म्युनिस्पल कॉरपोरेशन का चुनाव हो या तेलंगाना से लेकर गुजरात तक और मणिपुर से लेकर कर्नाटक तक उप-चुनाव हों, हर जगह भारतीय जनता पार्टी की शानदार विजय हुई है और कांग्रेस की करारी हार हुई है। मतलब स्पष्ट है कि भारतीय जनता पार्टी हर जगह आ रही है, कांग्रेस जा रही है। इन चुनाव परिणामों का एक और सारांश यह है कि देश की जनता को यशस्वी प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी पर, उनकी नीतियों पर और भारतीय जनता पार्टी के शासन पर पूर्ण विश्वास है। चाहे ग्रामीण नागरिक हों या शहरी, देश के सभी मतदाता का अटूट विश्वास प्रधानमंत्री जी की विकास यात्रा में है।

Post add

Leave A Reply

Your email address will not be published.