झारखंड में विरोध के बाद सोरेन सरकार ने वापस ली गाइड लाइन, नदी-तालाबों पर मना सकेंगे छठ पर्व

रांची झारखंड में नदी तालाबों के किनारे अब छठ पर्व मनाया जा सकेगा। मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने पाबंदी वाली गाइड लाइन को वापस ले लिया है। गाइड लाइन आने के बाद से ही विभिन्न राजनीतिक दलों ने इसका विरोध शुरू कर दिया था।
सीएम सोरेन ने कहा कि आपदा विभाग ने छठ को लेकर जो गाइड लाइन जारी किया था, उसे भारत सरकार के आदेश के अनुसार और प्रधानमंत्री के वचनों के अनुसार जारी किया गया था। पीएम मोदी हमेशा कहते हैं कि जबतक दवाई नहीं तब तक ढिलाई नहीं। दो गज की दूरी जरूरी। मेरी भी कोशिश अपने राज्य के लोगों की सुरक्षा ही है। अभी संक्रमण गया नहीं है। इसके बाद भी लोगों की जनभावना को देखते हुए नदी तालाब जलाशयों के किनारे छठ पर्व मनाने की इजाजत दी जा रही है।
सोरेन ने कहा कि सरकार की कोशिश होगी कि लोग सोशल डिस्टेंसिंग, मास्क आदि के साथ छठ पर्व मनाएं। उन्होंने यह भी कहा कि हो सके तो घर में ही छठ मनाइये। कई सालों से हजारों लोग अपने घरों में ही छठ मनाते रहे हैं। इस समय महामारी है तो घर पर छठ मनाने में हर्ज नहीं है। कोरोना की अभी कोई दवाई नहीं है। इसलिए बचाव जरूरी है।
सोरेन ने यह भी कहा कि बिहार चुनाव के दौरान बड़े पैमाने पर झारखंड से पुलिस फोर्स गई थी। उसमें से आधे से ज्यादा कोरोना पॉजिटिव लौटे हैं। इसी तरह काफी अन्य लोग प्रदेश से बिहार छठ मनाने गए हैं। अब वह लोग वापस किन हालातों में आएंगे यह तो आने के बाद पता चलेगा। ऐसे में सुरक्षा सभी के लिए जरूरी है।

Post add

Leave A Reply

Your email address will not be published.