विकास दुबे की पत्नी बोली, बिकरू में हमारी जमीन पर हो गया कब्जा

कानपुर कानपुर के बिकरू में आठ पुलिसकर्मियों की हत्या के आरोपित विकास दुबे की पत्नी रिचा दुबे शुक्रवार को बिल्हौर तहसील और एंटी डकैती कोर्ट माती पहुंची। एसडीएम से मुलाकात कर बिकरू की एक जमीन पर कब्जा होने की शिकायत दर्ज कराई। बाकी जमीनों की जानकारी लेने के बाद उनमें वारिसानों का नाम चढ़वाने के लिए प्रार्थना पत्र दिया। उन्होंने वाहन और कुछ सामान रिलीज करने के लिए भी एप्लीकेशन दी।
रिचा सुबह सबसे पहले एंटी डकैती कोर्ट माती पहुंची। उसके साथ बड़ा बेटा आकाश और लखनऊ से आया आया वकील भी था। कोर्ट में जज के सामने वाहन और सामान रिलीज करने की गुहार लगाई। अदालत ने सुनवाई के लिए 29 अक्तूबर की तिथि दी। कुछ समय रुकने के बाद रिचा बिल्हौर तहसील पहुंची। वहां एक वकील किया और एसडीएम पीएन सिंह से मुलाकात की। रिचा ने उनसे कहा कि बिकरू में उनकी जमीन दूसरे समुदाय के लोगों ने कब्जा कर ली है।
एसडीएम ने जांच कर आवश्यक कार्रवाई के निर्देश दिए। एसडीएम से कहा कि उनकी जमीन कहां-कहां पर है इसकी जानकारी नहीं है, जिस पर एसडीएम ने जानकारी दी। रिचा ने वारिसानों के नाम चढ़ाने को प्रार्थना पत्र दिया। एसडीएम को बताया कि भीटी गांव में उनके स्वर्गवासी देवर अविनाश की भी जमीन है जिस पर वारिसानों का नाम नहीं चढ़ा हैं। इस पर एसडीएम ने कहा कि वह उनकी पत्नी के नाम चढ़ेगी उसके लिए जो जरूरी प्रपत्र हैं वह उन्हें उपलब्ध करा दिए जाएं।
300 कुंतल गेहूं रिलीज कराने के लिए कमेटी गठित
रिचा के वकील ने एसडीएम को बताया कि पंचायत भवन बिकरू में छह सौ पैकेट (तीन सौ कुंतल) गेहूं सीज कर दिया गया था। उसे रिलीज करने के लिए पत्र दिया गया। एसडीएम ने कमेटी गठित कर दी है। जो जांच करने के बाद गेहूं रिलीज पर निर्णय लेगी। लेखपालों ने विकास दुबे की जमीनों का खसरा बनाकर दिया जिसमें चौबेपुर कला वाली जमीन पर प्लॉटिंग का कार्य दर्शाया गया है।
सकरवां की जमीन पर मुकदमा लड़ेगी रिचा
सकरवां गांव में विकास दुबे की जमीन पर दो लोगों ने कब्जा कर रखा है। इसके बारे में भी एसडीएम को जानकारी देने के साथ ही रिचा दुबे ने कहा कि वह इस मामले में कोर्ट में केस लड़ेंगी।

Post add

Leave A Reply

Your email address will not be published.