कोरोना संकट में बढ़ता जा रहा है भूख और गरीबी का दावानल

विश्व खाद्य दिवस - 16 अक्टूबर

बाल मुकुन्द ओझा

इस वर्ष 16 अक्टूबर को विश्व खाद्य दिवस हम ऐसे समय में मनाने जारहे है जब भारत भूख और गरीबी के दल दल से बाहर निकलने के लिए निरंतर प्रयासरत है। विश्व खाद्य दिवस मनाने का मुख्य उद्देश्य पूरी दुनिया में विशेष रूप से संकट के समय खाद्य सुरक्षा को बढ़ावा देना है। कोरोना महामारी की गिनती भी इसी संकट से की जा सकती है जब लाखों लोग बेरोजगार होकर रोजी रोटी के लिए दर दर भटक रहे है। भारत सहित दुनिया के अनेक देशों ने संकट में अपने जरुरतमंद देशवासियों की मदद के लिए हाथ बँटाये है मगर यह नाकाफी है। गौरतलब है विश्व खाद्य कार्यक्रम ने अपने जीवन रक्षक कार्यों के लिए 2020 का नोबेल शांति पुरस्कार जीता है। कोरोना संकट के कारण लाखों पुरुष, महिला और बच्चे भुखमरी का सामना कर रहे हैं। संयुक्त राष्ट्र का अनुमान है कि कोरोना के कारण हुई वैश्विक मंदी ने 83 से 132 मिलियन लोगों को भुखमरी में धकेल दिया।
वैश्विक भूख सूचकांक में पिछले वर्ष की अपेक्षा इस वर्ष आठ अंकों की सुधार के बावजूद स्थिति जस की तस बनी हुई है। सरकार लाख दावे करे मगर जमीनी हकीकत से मुंह नहीं मोड़ सकते। कोरोना संकट ने विश्व में खाद्य आपूर्ति की नाजुक हालत को उजागर कर दिया है। लाखों लोग भुखमरी का शिकार हैं और जलवायु संकट से वैश्विक खाद्य सुरक्षा पर खतरा मँडरा रहा है। इसके विपरीत कोरोना महामारी के दौरान भारत में जहाँ अमीरों की सम्पति में बढ़ोतरी हुई वहीँ गरीब सड़क पर भीख मांगने की स्थिति में पहुँच गया। देश और दुनियां से जब तक अमीरी और गरीबी की खाई नहीं मिटेगी तब तक भूख के खिलाफ संघर्ष यूँ ही जारी रहेगा। चाहे जितना चेतना और जागरूकता के गीत गालों कोई फर्क पड़ने वाला नहीं है।
वैश्विक भूख सूचकांक 2020 के मुताबिक भारत को 107 देशों में 94 वें स्थान पर रखा है, जो जाहिर करता है भारत में खाद्य सुरक्षा की स्थिति में कोई खास सुधार परिलक्षित नहीं हुआ है। हालांकि 2019 के मुकाबले स्थिति में कुछ सुधार अवश्य देखने को मिला है। 2019 में वैश्विक भूख सूचकांक में भारत को 117 देशों में 102 वें स्थान पर जगह दी गई थी। इसके बावजूद अभी भी देश में भुखमरी की स्थिति चिंताजनक बनी हुई है। सरकारी आंकड़ों दर्शाते है कृषि के क्षेत्र में उच्च प्रौद्योगिकी का इस्तेमाल होने से खाद्यान्न के मामले में देश आज आत्मनिर्भर हो गया है, लेकिन वैश्विक भूख सूचकांक में भारत का 94 वें स्थान पर होना चिंतनीय है। रिपोर्ट के अनुसार देश की 14 फीसदी आबादी अभी भी कुपोषण का शिकार है। यूनिसेफ के अनुसार भारत में 50 फीसदी बच्चे कुपोषित है। रिकॉर्ड खाद्यान्न उत्पादन के बावजूद देश में भोजन की कमी और कुपोषण की समस्या बनी हुई है जो चिन्ताजनक है। देश में खाद्यान्नों का उत्पादन जो 1950-51 में महज 508.2 लाख टन था, वह 2018-19 में बढ़कर 28.33 करोड़ टन हो गया है। यह उल्लेखनीय उपलब्धि कही जा सकती है।
विश्व खाद्य दिवस भूख के खिलाफ लड़ाई का एक दिन है। संयुक्त राष्ट्र के खाद्य और कृषि संगठन (एफएओ) की स्थापना के उपलक्ष्य में समूचे विश्व में 16 अक्तूबर को विश्व खाद्य दिवस मनाया जाता है। इस दिन को मनाने का मूल उद्देश्य विश्व के भूखे और कुपोषित लोगों की दशा के बारे में लोगों में जागरूकता पैदा करना और भूख के अभिशाप से मुक्ति पाना तथा इस समस्या के समाधान के ठोस उपाय करने के लिए सभी संबद्ध व्यक्तियों संस्थाओं को प्रोत्साहित करना है। यह दिन अब रश्मि होता जारहा है। ढोल नगाड़ा पीटने से न गरीबी दूर होगी और न हीं भूखे को खाना मिलेगा। यह हमारी जमीनी सच्चाई है जिसे स्वीकारना ही होगा।
दुनिया भर में भूखे पेट सोने वालों की संख्या में कमी नहीं आई है। यह संख्या आज भी तेजी से बढ़ती जा रही है। अब तो यह मानने वालों की तादाद कम नहीं है कि जब तक धरती और आसमान रहेगा तब तक आदमजात अमीरी और गरीबी नामक दो वर्गों में बंटा रहेगा। शोषक और शोषित की परिभाषा समय के साथ बदलती रहेगी मगर भूख और गरीबी का तांडव कायम रहेगा। अमीरी और गरीबी का अंतर कम जरूर हो सकता है मगर इसके लिए हमें अपनी मानसिकता बदलनी पड़ेगी। प्रत्येक संपन्न देश और व्यक्ति को संकल्पबद्धता के साथ गरीब की रोजी और रोटी का माकूल प्रबंध करना होगा। बिना इसके खाध दिवस मनाना बेमानी और गरीब के साथ एक क्रूर मजाक होगा।
 (लेखक वरिष्ठ पत्रकार एवं स्तम्भकार है) 

 

Post add

Leave A Reply

Your email address will not be published.