बहुत कुछ कहता है मेक्सिको का जोजोबरा उत्सव

डॉ. राजेन्द्र प्रसाद शर्मा

उत्तरी अमेरिका के सबसे अधिक आबादी वाले राज्य मेक्सिको सिटी में इसी माह की 9 सितंबर बुधवार को कोरोना की रोकथाम के लिए जोजोबरा जलाया गया। जोजोबरा आज वहां का परंपरागत समारोह हो गया है। कोरोना से परेशान दुनिया के लोगों की और से कोरोना की रोकथाम और 2020 के बाकी महीनों के अच्छी तरह से गुजरने की कामना के साथ लोगों ने कोरोना के कारण लागू प्रतिबंधों की बिना परवाह किए समारोह में पूरे उत्साह से हिस्सा लिया और दुनिया को कोरोना से मुक्ति की प्रार्थना की। अब भले ही हमारे देश में ताली, घंटा घड़ियाल बजाने की बात हो या फिर दीपक जलाने को लेकर आलोचना करने वालों के लिए यह सबक होना चाहिए कि आज सारी दुनिया के देश कोरोना की त्रासदी से जूझ रहे हैं और इससे मुक्ति पाने के लिए जो भी संभव उपाय हो वह अपनाने में परहेज नहीं कर रहे हैं। आखिर कोरोना ने जिस तरह से पूरी दुनिया को अपने आगोश में ले लिया और वह भी इतनी तेजी से कि दुनिया के देशों को संभलने तक का मौका नहीं मिला। सब कुछ थमकर रह गया। हालात हांलाकि सामान्य करने के प्रयास जारी है पर अमेरिका हो या ब्राजिल हो या भारत या अन्य देश, कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा दिन-प्रतिदिन बढ़ता ही जा रहा है। वैज्ञानिक इसके लिए वैक्सिन तैयार करनें में जुटे हैं जिसमेें अभी सफलता दूर दिख रही है। हांलाकि हालात मंे सुधार इस तरह से माना जा सकता है कि संक्रमितों के ठीक होने वालों की संख्या में तेजी से इजाफा हो रहा है।
प्र्रश्न यह उठता है कि आखिर यह जोजोबरा है क्या? दरअसल जोजोबरा समारोह ठीक उसी तरह से समझा जा सकता है जिस तरह से हमारे देश में विजया दशमी को मौहल्लों-मौहल्लों में रावण के पुतले को जलाया जाता है। बुराई के प्रतीक रावण दहन जिस धूम धाम से मनाया जाता है और जिस तरह से दिन-प्रतिदिन रावण के पुतले की साइज बढ़ती जा रही है उससे साफ हो जाता है कि बुराई का अंत इतना आसान नहीं है। दरअसल मेक्सिको का जोजोबरा भी एक राक्षस का प्रतीक ही है। माना जाता है कि 1924 की आर्थिक मंदी जोजोबरा फेस्टिवल का शुरुआती साल है। दरअसल जोजोबरा फेस्टिवल में लोग नकारात्मक विचारों, गतिविधियों, एहसासों आदि को एक परचे में लिख कर आयोजकों के पास भिजवाते हैं और इस तरह से प्राप्त परचोें को आयोजक जोजोबरा राक्षक के पुतले ंमें भरकर जलाने के लिए तैयार कर लेते हैं। इस तरह से जोजोबरा उत्सव में नकारात्मकता, निराशा, गलत गतिविधियों व एहसासों की स्वीकार्यता के साथ उनकों जलाने की मानसिकता के पीछे बुरे समय और बुराई से छुटकारा पाने की ईच्छा है। दशहरा पर रावण दहन भी करीब करीब इसी सोच के साथ किया जाता है। होलिका दहन भी बुराई को जलाने का प्रतीक ही है।
एक बात साफ हो जानी चाहिए कि दुनिया में कहीं भी कोई रह रहे हों, मनोविज्ञान लगभग सभी जगह एक सा ही है। दुनिया के देश आज कोरोना महामारी से जूझ रहे हैं। इन मुश्किलात में लोग जो भी संभव उपाय है वह करने में संकोच नहीं कर रहे हैं। आखिर जीवन-मरण का सवाल है। ऐसे में सोशियल डिस्टेसिंग, क्वारंटाइन, मास्क का उपयोग, परंपरागत हाथ जोड़कर या सिर झुका कर अभिवादन की परंपरा जैसी बाते प्रचलन में आती जा रही है। एक समय था जब रसोई में जाने से पहले हाथ-पांव धोने, मेहमान के आने पर घर के द्वार पर पांव धुलाने, अस्पताल से आने पर नहाने, शोच पर जाकर आने पर मिट्टी से हाथ धोने और यहां तक कि लघु शंका की स्थिति में कितने कुल्ले करने है और शोच से आने के बाद कितने कुल्ले यह तक व्यवस्था में था। पर ज्यों ज्यों जमाने ने करवट ली इन्हें दकियानुसी विचार सिद्ध करते हुए सिरे से नकार दिया गया। हांलाकि आज इनकी उपादेयता जगजाहिर होती जा रही है। सेनेटाइजर का उपयोग, बार बार हाथ धोना आदि इसी और इंगित कर रहे हैं।
देखने और समझने की बात यह है कि लगभग एक सा मनोविज्ञान सारी दुनिया में काम करता है। केवल तरीके में बदलाव की बात हो सकती है। आखिर जोजोबरा उत्सव मनाने के पीछे भी नकारात्मकता को नकारना ही है। यह तो तब है जब कोरोना के कारण दुनिया भर में प्रतिबंध होने के बावजूद मेक्सिकों में लोग जुटे, इस उत्सव में हिस्सा लिया और इस महामारी से दुनिया को निजात दिलाने की कामना की। यह बात साफ हो जानी चाहिए कि जहां तर्क काम नहीं करता वहां विश्वास काम करता है और सारी दुनिया तर्क से ज्यादा विश्वास पर टिकी है इसे नकारा नहीं जा सकता। आखिर इस मनोविज्ञान को समझना होगा तो परंपरागत मानकों को सिरे से नकारने या दकियानुसी कह कर नकारने की आदत छोड़नी होगी। कोई भी प्रचलन है उसे कसोटी पर कसने में कोई बुराई नहीं है पर केवल आधुनिकता के नाम पर नकारना या मजाक बनाना किसी भी हालत में उचित नहीं माना जा सकता। दरअसल हमनें बहुत कुछ खोया है आधुनिकता के नाम पर, अभी भी समय है जब हमें परंपरागतम ज्ञान को समझना होगा तो दूसरी और शास्त्र के साथ लोक को तरजीह देनी होगी। बहुत कुछ लोक से संचालित होता है और इस लोक यानी की लोकाचार या परंपरा को नकारा नहीं जा सकता। जोजोबरा उत्सव हमें बहुत कुछ समझने को विवश करता है। इसे हमे स्वीकारना होगा।

Post add

Leave A Reply

Your email address will not be published.