कोविड-19 के मरीज विकसित कर सकते हैं फेफड़ों की ये गंभीर बीमारी, एम्स के डॉक्टर ने दी जानकारी

नई दिल्ली। अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) के डॉक्टरों ने व्यापक फाइब्रोसिस (फेफड़ों की बीमारी) के कारण कोविड -19 से उबरने वाले दो मरीजों के लिए लंग (फेफड़े ) ट्रासप्लांट की सिफारिश की है। फाइब्रोसिस एक ऐसी स्थिति है जहां फेफड़े के ऊतक कठोर हो जाते हैं और संक्रमण के कारण फेफड़ों में घाव हो जाता है। कोरोना के मरीज का पहला ट्रांसप्लांट चेन्नई में अगस्त के महीने में हुआ था। ज्यादातर लोग कोविड -19 से पूरी तरह से ठीक हो जाते हैं, जबकि कुछ लोग लगातार सांस लेने में दिक्कत, थकान, दिल की धड़कन, गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल जैसी समस्याएं और कई हफ्तों तक मांसपेशियों और जोड़ों के दर्द जैसी समस्याओं की शिकायत करते हैं। कुछ लोग दिल की बीमारी और कुछ लोग सांस लेने में दिक्कत जैसी बड़ी समस्याओं से भी जूझते हुए दिखाई देते हैं।
हृदय संबंधी असामान्यताएं और स्ट्रोक
एम्स के निदेशक डॉक्टर रणदीप गुलेरिया ने साप्ताहिक नेशनल ग्रैंड राउंड्स ’में देश भर के डॉक्टरों को वर्तमान साक्ष्य प्रस्तुत करने के लिए कहा, “यदि आप उपलब्ध आंकड़ों को देखें, तो लगभग 60 से 80% व्यक्ति जो कोविड -19 से उबर चुके हैं, उनके पास सीक्वेल (किसी अन्य बीमारी के कारण होने वाली स्थिति) का कोई रूप हो सकता है। यह थकान और शरीर में दर्द के रूप में हल्का हो सकता है। लेकिन यह लंबे समय तक ऑक्सीजन थेरेपी पर रहने वाले व्यक्तियों के रूप में बहुत गंभीर भी हो सकता है। हमारे पास दो व्यक्ति हैं, जिनके फेफड़े में व्यापक फाइब्रोसिस है और उन्हें फेफड़े के ट्रांसप्लांट की सलाह दी जा रही है और हमारे पास ऐसे लोग हैं जिनमें हृदय संबंधी असामान्यताएं और स्ट्रोक जैसी बड़ी दिक्कतें भी देखी जा रही हैं।”
मनोवैज्ञानिक समस्याएं
फेफड़ों और हृदय की स्थितियों के अलावा, डॉक्चर गुलेरिया ने न केवल संक्रमण के परिणामस्वरूप होने वाले मनोवैज्ञानिक विकारों के बारे में चेतावनी दी, बल्कि लॉकडाउन और सोशल डिस्टेंसिंग से होने वाली मनोवैज्ञानिक दिक्कतों के बारे में भी बताया। एम्स में पल्मोनरी मेडिसिन डिपार्टमेंट के प्रमुख डॉक्चर अनंत मोहन ने इटली के एक अध्ययन का हवाला देते हुए कहा कि सभी बरामद कोविड -19 परीक्षण प्रतिभागियों में से केवल 12.6% दो महीने के बाद पूरी तरह से लक्षण-मुक्त थे, 32% में एक या दो लक्षण थे, और 55 % में तीन या अधिक लक्षण थे – जिनमें से सबसे आम थकान, सांस की तकलीफ, जोड़ों का दर्द, सीने में दर्द और खांसी है। इसी विभाग से डॉक्टर सौरव मित्तल ने कोविड -19 जटिलताओं के साथ तीन मामलों को प्रस्तुत किया और बताया उनका प्रबंधन कैसे किया जा सकता है।
पहला केस 65 साल के एक व्यक्ति का था जो दिखाता है कि किस तरह पहले स्वस्थ रहा एक व्यक्ति फाईब्रोसिस होने के बाद ऑक्सीजन पर निर्भर हो जाता है, इसके बाद दूसरा मामला 43 साल के एक व्यक्ति का है जो दिखाता है कि बेहतर होने के बाद भी किसत तरह ये दिक्कत उनको हो सकती है। जब फेफड़ों में फाइब्रोसिस की बात आती है, तो डॉक्टर मोहन ने कहा कि हालांकि प्रचलन का कोई अनुमान नहीं था उन्होंने सोचा कि डॉक्टर ऐसे मामलों में क्लीनिक में कई रोगियों को देखे सकते हैं। उन्होंने कहा, “पोस्ट-कोविड -19 फाइब्रोसिस की व्यापकता का कोई अनुमान नहीं है लेकिन कोविड -19 मामलों की मात्रा को देखते हुए, भले ही यह एक छोटा प्रतिशत हो, निरपेक्ष संख्या बहुत बड़ी होने की संभावना है।” डॉक्टर्स ने जर्मनी के एक अध्ययन का भी उल्लेख किया जिसमें पता चला कि 100 कोविड -19 रोगियों में से 78 में कुछ हृदय संबंधी समस्याएं थीं और 60 में हृदय की मांसपेशियों की सूजन थी।

Post add

Leave A Reply

Your email address will not be published.