स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताई भारत में कोरोना से मरने वालों का आंकड़ा कम होने की वजह

नई दिल्ली। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा है कि देश भर में सभी स्वास्थ्य सुविधाओं के मानक उपचार प्रोटोकॉल का पालन करने के तहत कोरोना पॉजिटिव मामलों की दैनिक निगरानी के कारण कोविड-19 से उबरने में सुधार हुआ है। भारत में कोरोना से ठीक हुए लोगों की संख्या 2.7 मिलियन को पार कर गई है, जिसकी दर 76.47 प्रतिशत है।
कोविड-19 मामलों के भारत के प्रबंधन की एक महत्वपूर्ण विशेषता ठीक हुए रोगियों की बढ़ती दर है। रोगियों की अधिक संख्या ठीक हो रही है और अस्पतालों और घर के आइसोलेशन से छुट्टी दी जा रही है। स्वास्थ्य मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि देश भर में सभी स्वास्थ्य सुविधाओं के साथ-साथ पॉजिटिव मामलों की नियमित निगरानी के साथ “राष्ट्रीय मानक उपचार प्रोटोकॉल” के पालन के कारण ये रिकवरी हो रही है।
मानक उपचार प्रोटोकॉल को लागू करने के अलावा, मंत्रालय ने आक्रामक रूप से टेस्ट करने, निगरानी रखने और होम आइसोलेशन, सुविधा अलगाव, और समर्पित कोविड -19 अस्पतालों में कुशलता से इलाज करने की समग्र और रणनीतिक नीति में सुधार के लिए संख्याओं को भी जिम्मेदार ठहराया है। यह सुनिश्चित करने के लिए कि गहन देखभाल इकाइयों में कुशल डॉक्टरों की कोई कमी नहीं हो, स्वास्थ्य मंत्रालय ने बड़े पैमाने पर परिधीय अस्पतालों में काम करने वाले महत्वपूर्ण देखभाल विशेषज्ञों को प्रशिक्षण प्रदान करने के लिए अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (AIIMS), दिल्ली को नामित किया है।
कोविड-19 के मरीज़ों का इलाज कर रहे डॉक्टरों का कहना है कि अब कोरोना से कम लोगों की मौत हो रही हैं क्योंकि हमें खराब मामलों को मैनेज करके सीख और अनुभव मिल गया है। मूलचंद अस्पताल में मेडिसिन विभाग के वरिष्ठ सलाहकार डॉक्टर श्रीकांत शर्मा ने कहा, “हमारे पास कुछ महीने पहले की तुलना में अधिक दवाएं और सहायक चिकित्सा हैं। अब हम ये बेहतर तरीके से जानते हैं कि एक कोविड 19 के मरीज के लिए क्या अच्छे से काम करते है क्या नहीं।”

Post add

Leave A Reply

Your email address will not be published.