हॉकी इंडिया के हाई परफोरमेंस निदेशक ने दिया इस्तीफा, शीर्ष अधिकारियो के साथ चल रहे थे मतभेद

नयी दिल्ली। भारतीय खेल प्राधिकरण (साइ) ने मंगलवार को कहा कि उसने हॉकी इंडिया के हाई परफोरमेंस निदेशक के रूप में ऑस्ट्रेलिया के डेविड जॉन का इस्तीफा स्वीकार कर लिया है। जॉन नेभारत में कोविड-19 के बढ़ते मामलों के बीच स्वास्थ्य सुरक्षा चिंताओं का हवाला देते हुए 18 अगस्त को तत्काल प्रभाव से इस्तीफा दे दिया था। साइ ने कहा, ‘‘ उन्होंने भारत में कोविड-19 के बढ़ते मामले के बीच अपने स्वास्थ्य के प्रति चिंता जताते हुए इस्तीफा दिया है और उन्होंने ऑस्ट्रेलिया वापस जाने की इच्छा व्यक्त की है।’’ सूत्रों के अनुसार, जॉन ने साइ के द्वारा उनके अनुबंध का बढ़ाये जाने के बाद राष्ट्रीय महासंघ के शीर्ष अधिकारियो के साथ मतभेदों के कारण इस्तीफा दे दिया। साइ ने हाल में जॉन का अनुबंध सितंबर 2021 तक बढ़ा दिया था लेकिन इस आस्ट्रेलियाई ने यह कहते हुए पद से इस्तीफा दे दिया कि लंबे समय से हॉकी इंडिया उनकी अनदेखी कर रहा था।
इस मामले से जुड़े एक सूत्र ने बताया , ‘‘डेविड (जॉन) लंबे समय से निराश महसूस कर रहे थे क्योंकि हॉकी इंडिया उनकी अनदेखी कर रहा था। हॉकी इंडिया के शीर्ष अधिकारियों द्वारा टीम के संबंध में महत्वपूर्ण फैसलों में उनकी अनदेखी की गयी थी।’’ उन्होंने कहा, ‘‘डेविड को टीम फैसलों में शामिल नहीं किया जाता था और वह सिर्फ कोचों और खिलाड़ियों के लिये ऑनलाइन क्लास ही लेते थे। कोविड-19 महामारी के कारण पांच महीने के ब्रेक से उन्हें निर्णय करने में आसानी हुई। ’’ जॉन को अपने पद के लिये 12,000 डॉलर का मासिक वेतन मिल रहा था और वह मार्च के बाद कोरोना वायरस के कारण लगे लॉकडाउन के बाद से नयी दिल्ली में अपने घर से काम कर रहे थे। वह 2011 से भारतीय हॉकी से जुड़े थे, जब उन्हें मुख्य कोच माइकल नोब्स के साथ पुरूष टीम के फिजियो के तौर पर नियुक्त किया गया था। भारतीय टीम के फिटनेस का स्तर बेहतर करने वाले जॉन ने लंदन ओलंपिक 2012 के बाद इस्तीफा दे दिया था लेकिन 2016 में हाई परफार्मेंस निदेशक बनकर आये।

Post add

Leave A Reply

Your email address will not be published.