केरल सचिवालय में लगी आग

विपक्ष का सोना तस्करी केस में सबूत खत्म करने की साजिश का आरोप

तिरुवनंतपुरम। केरल सचिवालय के उत्तरी ब्लॉक स्थित प्रोटोकॉल विभाग में मंगलवार की शाम को आग लग गई। अग्निशमन एवं बचाव विभाग के सूत्रों ने बताया कि आग पर काबू पा लिया गया है। विपक्ष ने इसे सोना तस्करी केस में साक्ष्यों को मिटाने की एक साजिश करार दिया है। भारतीय जनता पार्टी के नेता सरकार के खिलाफ इसके विरोध में सचिवालय के बाहर धरने पर बैठ गए।
सूत्रों ने समाचार एजेंसी पीटीआई से कहा कि विभाग को शाम करीब पौने पांच बजे आग लगने की सूचना मिली और तत्काल अग्निशमन वाहन मौके पर भेजे गए। सचिवालय में रखरखाव प्रकोष्ठ के अतिरिक्त सचिव पी हनी ने कहा कि एक कंप्यूटर में शॉर्ट सर्किट होने के कारण आग लगने का संदेह है, जिसे बुझा दिया गया है। अधिकारी ने एक न्यूज चैनल से कहा, ” कोई भी महत्वूपर्ण फाइल नष्ट नहीं हुई है। वे सभी सुरक्षित हैं। हादसे में कोई हताहत नहीं हुआ है।”
प्रदर्शन के बाद केरल बीजेपी अध्यक्ष के. सुरेन्द्रन को गिरफ्तार कर लिया गया। गिरफ्तारी से पहले उन्होंने कहा, “लोकतंत्र की बलि दे दी गई।” प्रदर्शनकारी नेताओँ ने आग लगने वाली जगहों की फॉरेंसिक जांच की मांग की है।
आग पर काबू पा लिया गया लेकिन कई फाइलों के जलकर खाक होने की खबर है, जिसके चलते विपक्षी दल के नेताओं ने इसे एक साजिश करार दिया है। सामान्य प्रशासन विभाग के अतिरिक्त सचिव पी. हनी ने कहा कि शॉर्ट सर्किट से आग लगने से सोना तस्करी मामले की जांच कर रहे प्रोटोकॉल अधिकारी के कार्यालय को नुकसान पहुंचा।
केरल बीजेपी अध्यक्ष के. सुरेन्द्रन ने आरोप लगाया कि यह सुनियोजित साजिश और सोने की तस्करी मामले में मंत्रियों की भागीदारी को छिपाने का एक प्रयास था”।
इन आरोपों के बीच की अधिकारियों का एक दल आग बुझाने के लिए वे अग्निशमन विभाग के कर्मचारियों के आने का वहां पर इंतजार कर रहे थे, कांग्रेस और बीजेपी दोनों ने ही इस पूरे मामले पर उच्च स्तरीय जांच की मांग की है। मुख्य सचिव विश्वास मेहता ने मौके पर पहुंचकर घटना की विस्तृत जांच के आदेश दिए हैं।

Post add

Leave A Reply

Your email address will not be published.