जैसा बोओगे, वैसा पाओगे

विश्व वरिष्ठ नागरिक दिवस

बाल मुकुन्द ओझा

आज विश्व वरिष्ठ नागरिक दिवस है यानि बुजुर्गों को सम्मान देने का दिन। समाज और नई पीढ़ी को सही दिशा दिखाने और उसे मार्गदर्शन के लिए वरिष्ठ नागरिकों के योगदान को सम्मान देने के लिए संयुक्त राष्ट्र द्वारा अंतर्राष्ट्रीय वरिष्ठ नागरिक दिवस हर साल 21 अगस्त को मनाया जाता है। वरिष्ठ नागरिकों के साथ बुरे बर्ताव को खत्म करने के लिए और उनकी ओर विशेष ध्यान देने और जागरुकता फैलाने के लिए यह दिवस मनाया जाता है। कहावत है जैसा बोओगे, वैसा पाओगे। इसका अर्थ है यदि हम अपने बुजुर्गों का मान सम्मान करेंगे तो आने वाली पीढ़ी हमें भी सम्मान देंगी।
भारत में कभी वरिष्ठ नागरिकों की पूजा की जाती थी। बुजुर्ग घर की आन बान और शान थे। बिना बुजुर्ग को पूछे कोई भी शुभ काम नहीं किया जाता था। आज वही बुजुर्ग अपने असहाय होने की पीड़ा से गुजर रहा है। दुर्भाग्य से उसे यह मर्मान्तक पीड़ा देने वाले कोई और नहीं अपितु उनके परिजन ही है।
वरिष्ठ नागरिकों का सम्मान करने और सेवा करने की हमारे समाज की समृद्ध परंपरा रही है। समाचार पत्रों में इन दिनों बुजुर्गों के सम्बन्ध में प्रकाशित होने वाले समाचार निश्चय ही दिल दहला देने वाले हैं। राम राज्य का सपना देखने वाला हमारा देश आज किस दिशा में जा रहा है, यह बेहत चिंतनीय है। भारत में वरिष्ठ नागरिकों का मान-सम्मान तेजी से घटा है। यह हमारे सामाजिक-सांस्कृतिक मूल्यों का अवमूल्यन है, जिसे गंभीरता से लेने की जरूरत है। बुजुर्गों की वास्तविक समस्याएं क्या है और उनका निराकरण कैसे किया जाये इस पर गहनता से मंथन की जरूरत है। आज घर घर में बुजुर्ग है। ये इज्जत से जीना चाहते है। मगर यह कैसे संभव है यह विचारने की जरूरत है।
एक सर्वे रिपोर्ट बताती है कि देश के दो-तिहाई वरिष्ठ नागरिक तिरस्कृत जीवन जीने को विवश हैं। एक सामाजिक-स्वैच्छिक संगठन द्वारा किए गए सर्वेक्षण के दौरान करीब पांच हजार वरिष्ठ नागरिकों से बातचीत की गई, जिसमें यह निष्कर्ष निकलकर सामने आया कि करीब 65 फीसदी बुजुर्ग परिवार के तिरस्कार के शिकार हैं। 54.1 फीसदी बुजुर्गों को अपने घर में अभद्रता का सामना करना पड़ रहा है। तकरीबन 25.3 फीसदी बुजुर्ग अपने परिवारजनों के हाथों विभिन्न तरीकों से शोषित हैं। कुल 89.7 फीसदी बुजुर्गों का मानना था कि परिवार के दुर्व्यवहार के पीछे आर्थिक कारण ज्यादा होते हैं।
संयुक्त राष्ट्र जनसंख्या कोष की एक रिपोर्ट के मुताबिक, भारत में प्रत्येक पांच में से एक वरिष्ठ नागरिक अकेले या अपनी पत्नी के साथ जीवन व्यतीत कर रहा है, यानी वह परिवार नामक संस्था से अलग रहने को विवश है। ऐसे वरिष्ठ नागरिकों में महिलाओं की संख्या ज्यादा है। अशिक्षित वरिष्ठ नागरिकों की हालत और भी ज्यादा दयनीय है। अधिकतर बुजुर्ग डिप्रेशन, आर्थराइटिस, डायबिटीज एवं आंख संबंधी बीमारियों से ग्रस्त हैं और महीने में औसतन 11 दिन बीमार रहते हैं।
विश्व में वरिष्ठ नागरिकों की संख्या लगभग 60 करोड़ है। संयुक्त राष्ट्र जनसंख्या कोष की एक रिपोर्ट के मुताबिक, भारत में प्रत्येक पांच में से एकवरिष्ठ नागरिक अकेले या अपनी पत्नी के साथ जीवन व्यतीत कर रहा है। यानी वह परिवार नामक संस्था से अलग रहने को विवश है। ऐसे बुजुर्गों में महिलाओं की संख्या ज्यादा है। अशिक्षित बुजुर्गों की हालत और भी ज्यादा दयनीय है। अधिकतर बुजुर्ग डिप्रेशन, आर्थराइटिस, डायबिटीज एवं आंख संबंधी बीमारियों से ग्रस्त हैं और महीने में औसतन 15 दिन बीमार रहते हैं। सबसे ज्यादा परेशानी उन वरिष्ठ नागरिकों को होती है, जिनके पास आय का कोई स्रोत नहीं है हेल्पेज इंडिया द्वारा जारी एक रिपोर्ट बताती है कि देश के लगभग 10 करोड़ वरिष्ठ नागरिकों में से पांच करोड़ से भी ज्यादा बुजुर्ग आए दिन भूखे पेट सोते हैं। देश की कुल आबादी का आठ फीसदी हिस्सा अपने जीवन की अंतिम वेला में सिर्फ भूख नहीं, बल्कि कई तरह की समस्याओं का शिकार है। रिपोर्ट बताती है कि बुजुर्गों को राज्य सरकारों की ओर से जो पेंशन दी जा रही है, वह इतनी नाकाफी है कि उससे महीना भर तो क्या, चार दिन भी बसर हो सकना असंभव है।
सामाजिक मूल्यों के अवमूल्यन के कारण बुजुर्गों का मान-सम्मान घटा है और वे एक अंधेरी कोठरी का शिकार होकर अपना जीवन यापन कर रहे हैं। यदि बुजुर्ग माता-पिता बीमार हो गये हैं तो अस्पताल ले जाने वाला कोई नहीं है। अनेक बुजुर्गों को एक पुत्र से दूसरे पुत्र के पास ठोकरे खाते देखा जाता है। अनेक को घरों से निकालने के समाचार मीडिया में सुर्खियों में प्रकाशित हो रहे हैं आज भी ऐसे अनेक बुजुर्ग मिल जायेंगे जो अपनी संतान और परिवार की उपेक्षा व प्रताड़ना के शिकार हैं। बुजुर्गों की देखभाल और उनके सम्मान की बहाली के लिए समाज में चेतना जगाने की जरूरत है। सद्व्यवहार से हम इनका दिल जीत सकते हैं।

 

Post add

Leave A Reply

Your email address will not be published.