कोईलवर पर बन रहे नए पुल का नामकरण डॉक्टर वशिष्ठ नारायण सिंह के नाम पर हो

इस बाबत एक खुला पत्र बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के नाम

ब्यूरो चीफ 

पटना। कोईलवर पर बन रहे नए पुल का डॉक्टर वशिष्ठ नारायण सिंह के नाम पर हो ।इस बात को लेकर टीम शुक्रिया वशिष्ठ के सदस्यों ने राज्य के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को एक खुला पत्र लिखा है जो इस प्रकार है :-

उम्मीद है आप अभी तक भूले नहीं होंगे विश्वविख्यात गणितज्ञ पद्मश्री डॉ. वशिष्ठ नारायण सिंह जी को ! डॉक्टर साहब के निधन पश्चात जब आप उन्हें श्रद्धांजलि देने आए थे तब आपने उनके परिजनों को आश्वस्त किया था कि इनका नाम मिटने नहीं देंगे। भविष्य में बहुत सारी शैक्षणिक संस्थाओं एवं योजनाओं का नामकरण कर हमारे महान विभूति के नाम को युगों-युगों तक जिंदा रखेंगे। मुख्यमंत्री जी 31 अगस्त 2020 को कोईलवर पर बन रहे नए पुल का उद्घाटन होना तय हुआ है जो आपकी जानकारी में है ही। केंद्रीय उर्जा राज्यमंत्री एवं आरा से सांसद आर. के. सिंह ने हमें आश्वस्त किया है कि कोईलवर पर बन रहे नए पुल का नामकरण गणितज्ञ डॉक्टर वशिष्ठ नारायण सिंह जी के नाम पर ही होगा। केंद्र सरकार की तरफ से इसको लेकर हरी झंडी मिल चुकी है पर बिहार सरकार की प्रतिक्रिया का हम लोग इंतजार कर रहे हैं।  बिहार सरकार की तरफ से ना तो इस पर अभी तक सहमति जताई गई है और ना ही आपत्ति।
माननीय! हमारे महान विभूति को गुजरे हुए 10 महीने से ऊपर हो चुके हैं पर अभी तक आपके स्तर से ऐसा कोई कार्य नही हुआ जिससे यह प्रतीत हो कि आप डॉक्टर साहब के नाम, यश, कीर्ति को लेकर सजग हैं। 31 अगस्त 2020 को एक सुनहरा मौका है आपके द्वारा किए हुए वादे को मूल रूप देने की शुरुआत करने का। हम सभी बिहारवासी, समस्त देशवासी आपसे विनम्र निवेदन करेंगे कि बगैर किसी रूकावट के केंद्र सरकार द्वारा प्रस्तावित डॉक्टर साहब के नाम पर कोईलवर पूल के नामकरण होने दिया जाए और इसको लेकर बिहार सरकार केंद्र सरकार को अपनी सहमति प्रदान करे।
मुख्यमंत्री जी! क्या आपको नहीं लगता कि गणित शिरोमणि डॉक्टर वशिष्ठ नारायण सिंह जी को हमारी आने वाली भविष्य की पीढ़ियों को जानना एवं समझना चाहिए, उनसे प्रेरणा लेना चाहिए। पर यह तो तभी संभव है जब सरकार इस दिशा में सार्थक पहल करे। आप के शासनकाल में बिहार में चौतरफा विकास हुआ है। बिहार पहले से और ज्यादा समृद्ध हुआ है पर जब बात गणितज्ञ डॉक्टर वशिष्ठ नारायण सिंह जी की होती है तो आपके पूरे शासनकाल में वे उपेक्षित रहे हैं, जो नहीं होना चाहिए था। अभी भी कुछ बिगड़ा नहीं है, आप हमारे प्रदेश के मुखिया हैं और अगर आप चाह दें तो ऐसा कोई कार्य नहीं जो असंभव है। हम सबों को 31 अगस्त का बेसब्री से इंतजार है जब कोईलवर पुल पर बन रहे नए पुल का नामकरण हमारे महान विभूति गणित शिरोमणि पद्मश्री डॉ. वशिष्ठ नारायण सिंह जी के नाम पर होगा। बिहार सरकार इस नेक और शुभ कार्य में अपनी सहमति प्रदान करे, आपसे यही अपेक्षा है।