PM मोदी सबमरीन केबल कनेक्टिविटी का आज करेंगे उद्घाटन

अंडमान-निकोबार में आज से इंटरनेट के नये युग का आरंभ

नयी दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 20 महीने पहले जिस हाईस्पीड इंटरनेट प्रोजेक्ट का शिलान्यास किया था, आज वो उसका उद्घाटन करने वाले हैं। भाजपा ने प्रधानमंत्री के हाथों होने वाले इस उद्घाटन को अंडमान और निकाबार द्वीपसमूह के 10 अगस्त को ‘‘डिजिटली स्वतंत्र’’ हो जाने के रूप में प्रस्तुत किया है। चेन्नई और पोर्ट ब्लेयर के बीच समुद्र के भीतर बिछायी गई केबल संपर्क सुविधा (ओएफसी) के उद्घाटन से एक दिन पहले इस केंद्रशासित प्रदेश के भाजपा कार्यकर्ताओं से संवाद करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि इससे अंडमान निकोबार द्वीपसमूह में इंटरनेट सुविधाओं में व्यापक स्तर पर सुधार होगा। उन्होंने कहा कि क्षेत्र को डिजिटल माध्यम से देश और दुनिया से जुड़ने में अब कोई समस्या नहीं आएगी। उन्होंने कहा कि यह द्वीपसमूह ‘‘आत्मनिर्भर भारत’’ में प्रमुख भूमिका निभाएगा।
केंद्रशासित प्रदेश के विकास के लिए केंद्र सरकार की ओर से उठाए गए विभिन्न कदमों का जिक्र करते हुए प्रधानमंत्री ने यह भी कहा कि नए भारत के निर्माण के लिए पूरे देश का संतुलित विकास आवश्यक है और इसी को ध्यान में रखकर उनकी सरकार काम कर रही है। मोदी ने यह भी कहा कि यह द्वीपसमूह आत्मनिर्भर भारत और नये भारत के विकास और उसकी सुरक्षा में प्रमुख भूमिका निभाएगा। उन्होंने कहा, ‘‘नए भारत के निर्माण के लिए पूरे देश का संतुलित विकास आवश्यक है। हमने सुनिश्चित किया है कि सरकार भले ही एक जगह से काम करती हो लेकिन उसके कार्यों का लाभ देश के कोने-कोने तक पहुंचना चाहिए।‘‘ उन्होंने कहा कि सरकार के कार्यक्रमों का लाभ समाज की आखिरी पंक्ति में खड़े व्यक्ति ही नहीं, बल्कि देश के आखिरी छोर पर खड़े व्यक्ति को भी मिलना चाहिए। उन्होंने कहा, ‘‘एक तरफ हम गरीबों के घर, शौचालय, रसोई गैस, पीने का पानी, बिजली, मोबाइल, इंटरनेट, सड़क, रेल कनेक्टिविटी जैसी बहुत ही मूल ज़रूरतों को पूरा कर रहे हैं। वहीं, दूसरी तरफ मेगा और आधुनिक परियोजनाओं पर भी तेज़ी से काम कर रहे हैं।’’ प्रधानमंत्री ने कहा कि जिस अंडमान निकोबार द्वीप समुह ने भारत की आज़ादी के आंदोलन को ताकत दी उसकी आत्मनिर्भर भारत के लिए, नए भारत की रक्षा-सुरक्षा और समृद्धि के लिए भी व्यापक भूमिका है। उन्होंने कहा, ‘‘इसी को समझते हुए 2017 में ही द्वीप समूह विकास एजेंसी का गठन किया गया था। ब्लू इकॉनमी के लिहाज़ से, व्यापार के लिहाज से अंडमान और निकोबार रणनीतिक ठिकाने पर स्थित है। यह चेन्नई बंदरगाह, कोलकाता बंदरगाह और बांग्लादेश के मोंगला बंदरगाह सहित कई बंदरगाहों से बहुत बराबरी की दूरी पर स्थित है।’’ उन्होंने कहा कि अंडमान और निकोबार द्वीपसमूह के 12 द्वीपों का चयन किया गया है जहां उच्च प्रभाव वाली परियोजनाओं का विस्तार किया जाएगा। प्रधानमंत्री ने कहा कि चेन्नई और पोर्ट ब्लेयर के बीच समुद्र के भीतर बिछायी गई केबल संपर्क सुविधा (ओएफसी) से अंडमान निकोबार द्वीपसमूह में मोबाइल और लैंडलाइन दूरसंचार सेवाएं बेहतर होंगी। उन्होंने कहा, ‘‘इंटरनेट कनेक्टिविटी में बहुत बड़ा सुधार हो जाएगा। नेटवर्क की समस्या की चर्चा बार-बार आती है उसका भी समाधान होगा। बच्चों को ऑनलाइन पढ़ाई-लिखाई सुविधा का ज्यादा से ज्यादा लाभ मिलना संभव हो पाएगा। पर्यटन और दूसरे कारोबार से जुड़े साथियों को भी देश और दुनिया से जुड़ने में अब कोई समस्या नहीं आएगी।’’ उल्लेखनीय है कि प्रधानमंत्री सोमवार को वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिये दिल्ली से इस परियोजना का उद्घाटन करेंगे। समुद्र के भीतर बिछा यह केबल पोर्ट ब्लेयर, स्वराज दीप (हैवलॉक), लिटिल अंडमान, कार निकोबार, कामोरता, ग्रेट निकोबार, लांग आईलैंड और रंगट को भी जोड़ेगा। उन्होंने कहा, ‘‘एक द्वीप से दूसरे द्वीप तक एयर कनेक्टिविटी में सुधार करते हुए देश के बाकी हिस्सों से इन द्वीपों को हवाई मार्ग से भी जोड़ा जा रहा है। पोर्ट ब्लेयर एयरपोर्ट का बड़े पैमाने पर विस्तार किया जा रहा है।’’ मोदी ने कहा कि 300 किलोमीटर के राष्ट्रीय राजमार्ग पर काम चल रहा है और इससे द्वीप के कई हिस्सों में पहुंचना न सिर्फ आसान होगा, बल्कि अन्य गतिविधयों को बढ़ावा मिलेगा। उन्होंने कहा कि इस क्षेत्र के युवाओं के लिए कई उच्च शिक्षा के संस्थान बनाए गए हैं। उन्होंने कहा, ‘‘द्वीपसमूह का जीवन आसान बनाने के लिए, वहां खुशहाली लाने के लिए जो भी ज़रूरी काम है, वो तेज़ी से पूरे किए जा रहे हैं।’’ उन्होंने पार्टी के कार्यकर्ताओं से अपील की कि वे पहले की स्थिति, आज की स्थिति और होने वाले परिवर्तन का एक तुलनात्मक नजरिया लोगों के बीच रखें। उन्होंने कहा, ‘‘पार्टी कार्यकर्ता के रूप में आपकी यह भी जिम्मेदारी है सरकार की हर योजना का लाभ हर लाभार्थी तक पहुंचे।’’ इससे पहले भाजपा अध्यक्ष जे पी नड्डा ने प्रधानमंत्री का स्वागत करते हुए कहा कि संगठन के ऐसे आयोजनों में उनकी उपस्थिति से कार्यकर्ताओं को प्रोत्साहन के साथ एक नई ऊर्जा भी मिलती है। कोरोना महामारी संकट के दौरान भाजपा द्वारा किए गए सेवा कार्यों का विस्तार से उल्लेख करते हुए उन्होंने कहा, ‘‘आपके प्रोत्साहन और कार्यकर्ताओं को दिए मार्गदर्शन के कारण हम कोरोना काल में एक बड़ी लड़ाई लड़ने में कामयाब हुए हैं।’’ उन्होंने कहा कि कोरोना संकट के दौरान भाजपा कार्यकर्ताओं ने लगभग 22 करोड़ 18 लाख फूड पैकेट्स जरूरतमंदों तक पहुंचाए। लगभग 5 करोड़ 40 लाख राशन किट वितरित किए और करीब 7 करोड़ फेस कवर दूर-दराज के क्षेत्रों में बांटे। महामारी से लड़ाई में प्रधानमंत्री के प्रयासों की सराहना करते हुए उन्होंने कहा कि पहले जहां 1500 टेस्ट प्रतिदिन होते थे, वहीं अब यह संख्या पांच लाख पहुंच गई है। अंडमान और निकोबार के भाजपा नेता विशाल जॉली ने वहां कोविड-19 संक्रमण की स्थिति का ब्योरा दिया और आशंका जताई बड़ी संख्या में डॉक्टरों और स्वास्थ्य सेवा से जुड़े अन्य कर्मियों के कोरोना संक्रमित होने की वजह से कई स्वास्थ्य केंद्र बंद हो सकते हैं। उन्होंने केंद्र की ओर से इसकी रोकथाम के लिए किए गए उपायों की सराहना की। अन्य स्थानीय नेताओं ने पार्टी की ओर से महामारी के दौरान चलाए गए राहत कार्यों का उल्लेख किया। प्रधानमंत्री ने इसके लिए कार्यकर्ताओं की जमकर सराहना की और कहा कि इससे उन्हें काम करने में नई ऊर्जा मिलेगी।

Post add

Leave A Reply

Your email address will not be published.