अयोध्या रेलवे स्टेशन का ₹ 104.77 करोड की लागत से होगा विकास

पौराणिक एवम् आध्यात्मिक नगरी अयोध्या रेलवे स्टेशन के सर्वांगीण एवम् संरचनात्मक विकास की दिशा में उत्तर रेलवे के निरन्तर बढ़ते कदम

नई दिल्ली। आस्था,भक्ति, एवम् आध्यात्म की पावस धरा तथा मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्री राम की पावन जन्मभूमि अयोध्या नगरी युगों से सम्पूर्ण विश्व के मध्य भक्ति एवम् आस्था का केंद्र बिंदु रही है।कदाचित इस नगरी की यही महत्ता ईश्वर के अनुरागियों एवम् श्रृद्धालुओं को बरबस अपनी ओर आकृष्ट करती है एवम् इस पावन भूमि पर नित्यप्रति पूरे विश्व से असंख्य भक्तगणों का इस नगर में आगमन होता है।अपनी इसी महत्ता के कारण अयोध्या नगरी का रेलवे स्टेशन भी भारतीय रेल पर अपना एक विशेष स्थान रखता है एवम् प्रतिदिन अपनी सुगम रेल परिचालन व्यवस्था के द्वारा अनेक गाड़ियों को संचालित करते हुए अनेक यात्रियों का इस नगर में सुविधाजनक आवागमन में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका एवम् उत्तरदायित्वों का पूर्ण प्रतिबद्धता से संवहन करता है।अपनी इसी निष्ठा का अनुसरण करते हुए एवम् वर्तमान अयोध्या के परिवेश को दृष्टिगत रखते हुए तथा भविष्य में अयोध्या की महत्ता को ध्यान में रखते हुए मंडल द्वारा अयोध्या रेलवे स्टेशन के संरचनात्मक स्वरूप,यात्री सुविधाओं, स्वच्छता, सौंदर्य तथा विभिन्न वांछित सुविधाओं को उच्च गुणवत्ता के मानकों के साथ उपलब्ध कराने की दिशा में निरन्तर सार्थक प्रयास करते हुए इस स्टेशन को नव स्वरूप से सुसज्जित करने की प्रक्रिया अविराम जारी है।उल्लेखनीय है कि अयोध्या स्टेशन की नवीनतम एवं आधुनिक यात्री सुविधाओं से सुसस्सजित भवन का निर्माण कार्य प्रगति पर है , इस भवन हेतु वितीय वर्ष 2017-18 में ₹ 80 करोड की स्वीकृति दी गयी थी जिसे वर्तमान में बढाकर ₹ 104.77 करोड कर दिया गया है | इस स्टेशन भवन का निर्माण रेलवे की राइट्स(RITES)उपक्रम द्वारा किया जा रहा है | इस भवन का निर्माण दो चरणों में होगा, प्रथम चरण में प्लेटफॉर्म संख्या 1 व् 2/3 में विकास कार्य, वर्तमान सरकुलेटिंग एरिया का विकास व् होल्डिंग एरिया का विकास |दूसरे चरण में नए स्टेशन भवन का निर्माण व् अन्य सुविधाओं का निर्माण कार्य | इन सुविधाओं के अन्तर्गत स्टेशन के आंतरिक एवम् बाह्य परिसर का नवीनीकरण करते हुए स्टेशन पर उपलब्ध सुविधाओं में वृद्धि जैसे टिकट काउंटर की संख्या विस्तार,प्रतीक्षालय सुविधा विस्तार,वातानुकूलित 03 विश्रामालय, 17 बेड वाली पुरुष डॉरमेट्री प्रसाधन सहित,10 बेड वाली महिला डोरमेट्री प्रसाधन सहित,एक अतिरिक्त फुट ओवर ब्रिज,फूड प्लाज़ा,दुकानें,अतिरिक्त शौचालय सहित अन्य वांछित सुविधाओं को उपलब्ध कराने की दिशा में निरन्तर प्रगति कार्य जारी है।इसके अतिरिक्त स्टेशन पर पर्यटक केंद्र,टैक्सी बूथ,शिशु विहार,वी. आई. पी. लाउंज,सभागार तथा विशिष्ट अतिथि गृह समेत अनेक अन्य वांछित सुविधाओं की उपलब्धता को सुनिश्चित करते हुए निरन्तर निर्माण एवम् विकास कार्य प्रगति पर है। इन समस्त विकास एवम् प्रगति कार्यों को संपादित किया जा रहा है एवम् समय- समय पर विकास कार्यों का जायज़ा लेते हुए समीक्षा की जाती है एवम् यथासमय उच्च गुणवत्ता के साथ कार्य को पूरा करने के निर्देश भी पारित किए जाते है।

उत्‍तर एवं उत्‍तर मध्‍य रेलवे के महाप्रबंधक राजीव चौधरी ने इस विषय में अवगत कराया कि भगवान राम की पावस चरणधूलि से सुशोभित अयोध्या की पवित्र नगरी का अलौकिक महत्त्व है एवम् भविष्य में इस नगरी की महत्ता को ध्यान में रखते हुए मंडल द्वारा अयोध्या रेलवे स्टेशन का आधुनिकीकरण करते हुए एक नवीन स्वरूप प्रदान करने की दिशा में निरन्तर प्रयास चल रहे है ताकि आगामी समय में सम्पूर्ण विश्व को आकृष्ट करते हुए इस स्टेशन पर आवागमन करने वाले श्रृद्धालुओं एवम् पर्यटकों को उच्च मानकों से सुसज्जित आधुनिक सुविधाएं उपलब्ध करा सके।

Post add

Leave A Reply

Your email address will not be published.