भारत की शक्ति और शान का प्रतीक है बाघ

अंतरराष्ट्रीय बाघ दिवस- 29 जुलाई

बाल मुकुन्द ओझा

अंतरराष्ट्रीय बाघ दिवस 29 जुलाई को मनाया जाता है। इस दिवस को मनाने का मुख्य उद्देश्य जंगली बाघों के निवास के संरक्षण और विस्तार को बढ़ावा देने के साथ बाघों के संरक्षण के प्रति जागरूकता बढ़ाना है। इनकी तेजी से कम हो रही संख्या को नियंत्रित करना बहुत जरूरी है, नहीं तो ये खत्म हो जाएंगे।
विश्वभर में बाघों की कई तरह की प्रजातियां हैं। इनमें 6 प्रजातियां मुख्य हैं जिनमें साइबेरियन बाघ, बंगाल बाघ, इंडोचाइनीज बाघ, मलायन बाघ, सुमात्रा बाघ तथा साउथ चाइना बाघ शामिल हैं। । भारत का राष्ट्रीय पशु बाघ को कहा जाता है। बाघ देश की शक्ति और शान का प्रतीक है। ताकत, फुर्तीलापन और अपार शक्ति के कारण बाघ को भारत के राष्ट्रीय जानवर के रूप में गौरवान्वित किया है। आंकड़ों के अनुसार, देश में बाघों की संख्या लगभग तीन हजार तक पहुंच गई हैं। वर्ष 1915 में बाघों की कुल संख्या एक लाख थी। ‘वर्ल्ड वाइल्ड लाइफ फंड’ और ‘ग्लोबल टाइगर फोरम’ के 2016 के आंकड़ों के अनुसार, पूरे विश्व में लगभग 6000 बाघ ही बचे हैं, इस प्रकार हम ये कह सकते है कि पिछले 100 सालो में टाइगरों की आबादी का लगभग 97 प्रतिशत समाप्त हो चुकी है। भारत उन देशों में शामिल है, जिसमे बाघों की जनसख्या सबसे अधिक है। भारत में बाघों की कम होती जा रही संख्या की जांच करने के लिए अप्रैल 1973 में प्रोजेक्ट टाइगर (बाघ परियोजना) शुरू की गई है। अब तक इस परियोजना के तहत 27 बाघ आरक्षित क्षेत्रों की स्थापना की गई है, जिनमें 37,761 वर्ग किलोमीटर एरिया शामिल है। नेशनल पार्क्स में तुम इन्हें आसानी से देखा जा सकता है।
बंगाल टाइगर या पेंथेरा टिगरिस, प्रकृति की सबसे सुन्दर प्रजातियों में से एक है। यह बाघ परिवार की एक उप-प्रजाति है और भारत, बांग्लादेश, नेपाल, भूटान, म्यांमार एवं दक्षिण तिब्बत के क्षेत्रों में पाई जाती है। इसके शौर्य, सुंदरता और बलशाली रूप को देखते हुए बंगाल टाइगर को भारत के राष्ट्रीय पशु के सम्मान से भी नवाजा गया है। अन्य जीवों की अपेक्षा बाघों की देखने और सुनने की शक्ति कहीं ज्यादा होती है।
बाघ के बारे में कई बाते प्रचलित है। बाघ अपने मजबूत पैरो की सहायता से बड़ी आसानी से अपने शिकार को पकड़ लेता है। बाघ के पैर इतने मजबूत होते हैं, कि वह मरने के बाद भी खड़ा रह सकता है। बाघ जब जन्म लेते है तो वह अंधे होते हैं, बाघ अपने जन्म के एक सप्ताह तक देख नहीं सकते है। वहीं, आधे से ज्यादा बाघ युवास्था में ही मर जाते हैं। बाघ करीब 5 मीटर तक की ऊंचाई कूद सकते है और वह 6 मीटर तक की चौड़ाई भी आराम से फांद सकते है। बाघ का वजन 300 किलो तक का होता है। वहीं, उनका दिमाग 300 ग्राम का होता है। बाघ एक शानदार तैराक होते हैं। वह 6 किलोमीटर तक की दूरी आराम से तैर सकते हैं। आज से करीब 100 साल पहले बाघ की 9 उपजाति पाई जाती थी। पिछले 80 सालों में बाघों की तीन उप जातियां खत्म हो चुकी हैं और आज के समय में सिर्फ 6 प्रजातियाँ ही रह गई है। बाघ काफी तेजी से दहाड़ते है। लेकिन क्या आप जानते है कि एक बंगाल टाइगर की दहाड़ रात के समय 2 किलोमीटर तक की दूरी पर भी आसानी से सुनाई दे सकती है।
बढ़ती जनसंख्या और औद्योगीकरण के चलते बाघों की संख्या सबसे ज्यादा प्रभावित हुई है। इसका मुख्य कारण रहा जंगलों की कटाई और इन क्षेत्रों में उद्योंगों का लगना। इस वजह से बाघों के लिए सुरक्षित रहना मुश्किल हो गया। वहीं कई उद्योंगों में बाघों की खाल के इस्तेमाल के चलते बाघों के शिकार की घटनाओं में भी बढ़ोतरी हुई और जंगल माफियाओं के चलते जंगलों से लगातार बाघों की संख्या घटती चली गई। एक आंकड़े के अनुसार पिछले 10 सालों में लगभग एक हजार से ज्यादा बाघों का शिकार उनकी खाल को बेचने के लिए किया गया है। भारत में पिछले 8 साल में शिकार और अन्य कारणों से 750 बाघ मारे गए हैं।

 

Post add

Leave A Reply

Your email address will not be published.