कोरोना को हराने में सबसे आगे


बाल मुकुन्द ओझा
जयपुर। राजस्थान के 6 जिले टेक्सटाइल हब के रूप में जाने जाते है। इनमें भीलवाड़ा, जोधपुर जयपुर बाडमेर जोधपुर पाली और जालोर शामिल है। कोरोना संक्रमण से ये जिले प्रभावित हुए। विशेषकर भीलवाड़ा में बड़ी लड़ाई लड़ी गई। भीलवाड़ा मॉडल देश में प्रसिद्ध हुआ। नेहरू युवा केंद्र की इकाइयों ने इन जिलों में कोरोना के खिलाफ जंग करते हुए युवाओं को जागरूक किया। युवा मंडलों के माध्यम से लोगों को वांछित सहायता प्रदान की।
जयपुर

कोरोना वायरस के वैश्विक संकट काल में समाज और देश को बचाने के लिए समर्पित स्वास्थ्यकर्मियों पुलिसकर्मियों सफाई कर्मचारियों एवं समाजसेवियों की सेवा-निष्ठा बनाए रखने के लिए एवं कोरोना वायरस को हराने के लिए नेहरू युवा केंद्र, जयपुर के जिला युवा समन्वयक महेश कुमार शर्मा के निर्देशन में सभी राष्ट्रीय युवा स्वयंसेवकों और ग्रामीण स्तर के युवा मंडलों के कार्यकर्ताओं द्वारा सराहनीय कार्य करके देश को इस मुसीबत से बचाने के लिए योद्धाओं के रूप में साबित हुए हैं। इसी क्रम में युवाओं ने सोशल डिस्टेंसिंग को पूर्णतया ध्यान में रखते हुए रक्तदान शिविर लगाए, जरूरतमंदों को राशन वितरित किया, भीषण गर्मी में पक्षियों के लिए परिंडे लगाए। इसी तरह आवारा पशुओं को चारा डालने का कार्य, गांव में सैनिटाइजर का कार्य, हैंड सैनिटाइजर व मास्क बनाकर वितरण करना, कोरोना योद्धाओं का सम्मान कार्यक्रम करना, भारत सरकार की एप्लीकेशन आरोग्य सेतु एप डाउनलोड करने के लिए प्रेरित करना, गांव के मुख्य मार्गों पर कोरोना के खिलाफ पेंटिंग बनाना, लोक डाउन का पूर्णतया पालन करवाना, नारा लेखन करना आदि हैं।
भीलवाड़ा

सुमित यादव नेहरू युवा केंद्र भीलवाड़ा में कार्यरत है। एमबीए तक पढ़े यादव नेहरू युवा केंद्र संगठन में ज्वाइन करने से पूर्व केंद्रीय जीएसटी विभाग मुंबई में इंस्पेक्टर के पद पर 4 साल कार्य किया है । जिले में कार्यरत राष्ट्रीय युवा स्वयंसेवक द्वारा अपने-अपने ब्लॉकों में युवा मंडलों के सहयोग से सोशल मीडिया के माध्यम से कोरोना महामारी के लिए जागरूकता और इसके बारे में फैली भ्रांतियों को दूर करने, कोरोना योद्धाओं का सम्मान, मानसिक स्वास्थ्य, कोरोना प्रभावित लोगों और उनके परिवार के साथ भेदभाव ना करने को लेकर जागरूक करने का कार्य पूरी मेहनत और सेवा भाव से कर रहे है। बुजुर्ग लोगों की देखभाल सहित इस महामारी से बचने के लिए विभिन्न जागरूकता की गतिविधियां जिनमें ऑनलाइन पोस्टर बनाओ, दीवार पर नारा लेखन और पेंटिंग अभियान किया जा रहा है। साथ ही बेजुबान पक्षियों के लिए विभिन्न ग्रामों में परिंडे बांधो अभियान भी चलाया जा रहा हैं। विभिन्न मंडलों के महिला सदस्यों ने घर मे मास्क बनाकर अपने गांव में मुफ्त मास्क वित
जोधपुर

राजेश चैधरी जोधपुर में युवा समन्वयक है। कोरोना संक्रमण के दौरान नेहरू युवा केन्द्र जोधपुर से संबद्ध नेहरू युवा मंडल ने अपने गांव नेवरा में लगभग 800 मास्क वितरित किये। वहीं राजीव गांधी युवा मंडल भोपालगढ़ में जरूरतमंदों को खाद्य सामग्री प्रदान कर राहत प्रदान की। साथ ही जिले के सभी 16 ब्लाकों में कार्यरत राष्ट्रीय युवा स्वयंसेवक ग्रामीणजनों को आरोग्य सेतु मोबाईल एप, आत्मनिर्भर भारत पैकेज की जानकारी सहित कोरोना के बारे में मूलभूत जागरूकता प्रदान कर रहे हैं।
जालोर
नेहरू युवा केंद्र जालोर के द्वारा सभी स्वयंसेवको के माध्यम से प्रदेश में तेजी से पैर पसार रहे इस संक्रमित रोग कोरोना वायरस से बचाव और इसकी जागरूकता के लिए कई अहम कदम उठाए गए जिसमे लोगो को घर बैठे मास्क बनाना सीखना स्वयं मास्क बना के वितरण करना, सामाजिक तौर पर दुरी बनाये रखना वृद्ध व असहाय लोगो की मदत करना तथा समय समय पर गरीब लोगो को खाना व पानी मुहैया करवाना शामिल है । बेजुबान पक्षियों के लिए भी दाना पानी की व्यवस्थता की व आमजन से परिंडे बांधने की अपील की गयी। नेहरू युवा मंडलो के सदस्यों ने जिले भर में 1000 परिंडे लगवाए।
बाडमेर
सचिन पाटोदिया एम् टेक है और बाड़मेर में जिला युवा समन्वयक के पद पर कार्यरत है। बाडमेर देश का पांचवां सबसे बडा जिला है। क्षेत्रफल की दृष्टि से केरल राज्य के बराबर है। इस जिले के गडरारोड, चैहटन, धनाऊ, सेडवा ब्लाक ,की सीमा पडौसी मुल्क पाकिस्तान से लगती है। जिले के 21 ब्लोक में राष्टीय युवा स्वंय सेवको को लोकडाउन के दौरान मास्क बनाने एवं प्रवासियो की सहायता करने के लिये प्रेरित कर रहे है। गरीब मजदूर परिवारो को राशन सामग्री पहॅुचाने निःशुल्क मास्क वितरण करने,होम क्वारंटीन की पालना सुनिशित करवाने मे आरोग्य सेतु डाउनलोड, सार्वजनिक स्थानों पर सामाजिक दूरी की पालना सुनिश्ति करवाने मे अपनी अहम भूमिका निभा रहे है।
पाली
राजनीतिक विज्ञान में स्नातकोतर राजेंद्र जाखड़ पाली में वर्तमान में युवा समन्वयक के रूप में कार्यरत है। जिले में युवा स्वयंसेवकों द्वारा कोरोना लोकडाउन से पूर्व सभी ब्लाॅकों में आईईसी सामग्री वितरण कर आमजन में महामारी हेतु जागरूकता का सघन प्रचार-प्रसार करवाया गया। लाकडाउन में युवाओं को आनलाईन आईगोट प्रषिक्षण, आरोग्य सेतु ऐप्प का ज्यादा से ज्यादा उपयोग, प्रशासन के साथ फील्ड में सहयोग के इच्छुक स्वयंसेवकों को एनडीएमए पोर्टल पर पंजीकरण करवाने से लेकर मास्क बनाकर मनरेगा व जरूरतमंद ग्रामीण में को साथ लेकर बांटने का कार्य पूरे जिले में किया गया।

Post add

Leave A Reply

Your email address will not be published.