WHO ने कहा- रोज सवा दो से ढाई लाख कोरोना पॉजिटिव केस सामने आने से खतरा बढ़ा

विश्व में महज सौ घंटे में कोरोना के रिकॉर्ड दस लाख नए मरीज मिलने के साथ कुल मामले एक करोड़ 40 लाख पार कर गए हैं। जबकि मौतों की तादाद छह लाख से ज्यादा हो गई है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने कहा कि तीन माह की जगह अब तीन-चार दिन में दस लाख केस सामने आ रहे हैं। चीन में जनवरी की शुरुआत के तीन माह बाद दस लाख केस हुए थे, लेकिन 13 जुलाई को एक करोड़ 30 लाख से एक करोड़ 40 लाख तक पहुंचने में चार दिन ही लगे।
दुनिया में रोज औसतन दो लाख 30 हजार से दो लाख 40 हजार के बीच केस सामने आ रहे हैं। इनमें पांच सर्वाधिक प्रभावित देश अमेरिका, ब्राजील, भारत, रूस और दक्षिण अफ्रीका में ही रोज पौने लाख के करीब मामले सामने आ रहे हैं। अमेरिका और ब्राजील में तो रोज एक हजार से ज्यादा मौतें भी हो रही हैं। दक्षिण अफ्रीका पेरू को पीछे छोड़ पांचवां सबसे ज्यादा प्रभावित देश बनने की ओर है। पूरे अफ्रीकी महाद्वीप के आधे केस दक्षिण अफ्रीका में ही हैं।
18 दिन में एक चौथाई मामले बढ़े
दुनिया में कोरोना के एक जुलाई को मामले एक करोड़ सात लाख के करीब थे, जो महज 18 दिनों में 37 लाख से ज्यादा बढ़कर एक करोड़ 42 लाख से ज्यादा हो गए हैं। वर्ल्डोमीटर के मुताबिक, सात जुलाई के बाद से रोज औसतन 2.25 लाख से ज्यादा केस सामने आ रहे हैं। 16 जुलाई को तो रिकॉर्ड ढाई लाख नए मरीज सामने आए।
अमेरिका में रोज स्वीडन के बराबर मरीज
स्वीडन में महामारी के आगाज के बाद से कुल 77,281 मरीज मिले हैं, लेकिन इतने मरीज रोज अमेरिका में मिल रहे हैं। अमेरिका में गुरुवार को 77,600 और शुक्रवार को 70,638 केस मिले हैं। वहां कुल मरीजों की तादाद 36 लाख पार कर गई है। टेक्सास और कैलीफोर्निया में रोज दस-दस हजार मरीज मिलने से अस्पतालों में जगह नहीं रह गई है।
ब्राजील में विनाशलीला जारी
ब्राजील अमेरिका की राह पर हैं, जहां 20 लाख 50 हजार संक्रमित और 76 हजार लोग मारे जा चुके हैं। हालांकि राष्ट्रपति जैर बोलसोनारो ने दोबारा लॉकडाउन जैसे कड़े कदमों के लिए अभी भी तैयार नहीं हैं। जबकि भारत के कई राज्यों ने मरीजों के बढ़ने के साथ कुछ क्षेत्रों में लॉकडाउन लगाकर सख्ती की है।
ईरान में हो सकते हैं 2.5 करोड़ : रूहानी
ईरान के राष्ट्रपित हसन रुहानी ने शनिवार को यह कहकर धड़कनें बढ़ा दीं कि उनके देश में कोरोना के ढाई करोड़ से ज्यादा मरीज हो सकते हैं। जबकि अभी वहां दो लाख 70 हजार घोषित मरीज हैं। बांग्लादेश में भी कुल मरीज दो लाख से ज्यादा हैं, लेकिन विशेषज्ञों का कहना है कि पर्याप्त जांच न होने ये असली तादाद दो से तीन गुना हो सकती है।

Post add

Leave A Reply

Your email address will not be published.