फरीदाबाद-दिल्ली की सीमा में टोल फ्री होगा डीएनडी एक्सप्रेस वे!

छह लेन का डीएनडी एक्सप्रेस-वे (एनएच-148एनए) दिल्ली और फरीदाबाद की सीमा में टोल टैक्स मुक्त होगा। वाहन चालक बिना टोल टैक्स चुकाए यहां सफर कर सकेंगे। इससे दिल्ली-नोएडा और गाजियाबाद आने-जाने वाले लोगों को खासा फायदा होगा। यह एक्सप्रेस वे फरीदाबाद की सीमा से गुजरने वाला पहला टोल टैक्स मुक्त एक्सप्रेस वे होगा। कुछ अरसे पहले मुख्यालय स्तर पर इसका फैसला हो चुका है।
यह एक्सप्रेस वे दिल्ली में डीएनडी फ्लाईओवर के नजदीक महारानी बाग से शुरू होगा और इसे सोहना के पास केएमपी(कुंडली-मानेसर-पलवल) एक्सप्रेस वे और मुंबई को जाने वाले वडोदरा एक्प्रेस से जोड़ा जाएगा। इसकी कुल लंबाई 59 किलोमीटर होगी। दिल्ली से सोहना की ओर इस एक्सप्रेस-वे के जिस स्थान पर 54 किलोमीटर पूरे होंगे, वहां पर टोल टैक्स बैरियर बनाया जा सकता है। इस कारण इस एक्सप्रेस वे पर फरीदाबाद और दिल्ली के बीच सफर करने वाले वाहन चालकों को टोल टैक्स चुकाने की जरूरत नहीं पड़ेगी। इससे यहां से गुजरने वाले वाहन चालकों का आनंद दोगुना हो जाएगा।
दिल्ली सराय काले खां बस अड्डे से भी जोड़ेंगे एक्सप्रेस-वे को
इस एक्सप्रेस वे को दिल्ली सराय काले खां बस अड्डे से भी जोड़ा जाएगा। सराय काले खां के पुल से लेकर डीएनडी एक्सप्रेस वे की शुरू होने वाली जगह के बीच एक पुल भी बनाया जाएगा। पुल के जरिए इस एक्सप्रेस वे को सराय काले खां बस अड्डे के सामने बने सराय काले खां के पुल से जोड़ा जाएगा। इससे आईएसबीटी जाने वाले वाहन चालकों का सफर भी सुहाना हो जाएगा।
चारों ओर टोल एक्सप्रेस वे घिरा है फरीदाबाद
फरीदाबाद में दिल्ली-आगरा-19 पर बदरपुर बॉर्डर पर बने पुल से दिल्ली आने-जाने के लिए टोल टैक्स चुकाना होता है। गुरुग्राम-फरीदाबाद आने-जाने के लिए भी वाहन चालकों को टोल देना पड़ता है। इसी तरह वाहन चालकों को बल्लभगढ़-सोहना सड़क पर टोल टैक्स की मार झेलनी पड़ती है। केजीपी (कुंडली-गाजियाबाद-पलवल) एक्सप्रेस वे से गुजरने के लिए लोगों को टोल टैक्स देना पड़ता है। फरीदाबाद से होडल जाने के लिए भी हाईवे पर टोल टैक्स देना पड़ रहा है। जब दिल्ली-आगरा हाईवे-19 की परियोजना का काम पूरा हो जाएगा तो फरीदाबाद की सीमा के नजदीक पलवल की सीमा में गदपुरी में टैक्स टैक्स वैरियर शुरू होगा। यहां टोल टैक्स प्लाजा बनकर तैयार हो चुका है। यहां के लोगों को पलवल जाने के लिए भी टोल टैक्स देना होगा।
150 हेक्टेयर जमीन हो चुकी है अधिग्रहित
भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण इस एक्सप्रेस वे के लिए फरीदाबाद, गुरुग्राम, पलवल और नूंह की करीब 150 हेक्टेयर जमीन अधिग्रहित कर चुका है। कुछ जिलो में प्राधिकरण ने किसानों को उनकी जमीन के बदले भुगतान करना भी शुरू कर दिया है। यह एक्सप्रेस वे फरीदाबाद में सीकरी, हरफला, जाजरू, कैलगांव, भनकपुर गांव, नंगला जोगियान और मोहला, पलवल में पारोली, खेड़ली जीता, सहराला, कलवाका और गुरुग्राम के हाजीपुर और लोह सिंघानिया गांव से यह एक्सप्रेस वे गुजरेगा। एक्सप्रेस वे का कुछ हिस्सा नूंह जिले में भी पड़ेगा।
ये होगा रूट
यह एक्सप्रेस वे डीएनडी फ्लाईओवर के पास महारानी बाग से कालिंदीकुंज से नहर किनारे होते हुए फरीदाबाद को जोड़ेगा। दिल्ली में यह एलिवेटेड भी होगा। फरीदाबाद की सीमा में सेक्टर-37 के सामने गुरुग्राम-आगरा नहर पर छह लेन का पुल बनाकर बाईपास से जोड़ा जाएगा। फिर बाईपास को कैल गांव तक 12 लेन का एक्सप्रेस वे बनाया जाएगा। कैल गांव के पास इंटरचेंज बनेगा। इंटरचेंज से वाहन चालक दिल्ली-आगरा हाईवे-19 और डीएनडी एक्सप्रेस वे पर उतर और चढ़ सकेंगे। वहीं एक्सप्रेस-वे फ्लाईओवर के जरिए दिल्ली-आगरा हाईवे-19 के कैल गांव व्हीकल अंडरपास को पार करेगा। फिर यह सीधा केएमपी एक्सप्रेस-वे और वडोदरा-मुंबई एक्सप्रेस में जा मिलेगा।
डीएनडी एक्सप्रेस वे की टेंडर प्रक्रिया तीन जुलाई से मुख्यालय स्तर पर शुरू हो चुकी है। प्रक्रिया पूरी होने के बाद काम शुरू होगा। फरीदाबाद-दिल्ली में यह एक्सप्रेस-वे टोल टैक्स मुक्त होगा। कुछ अरसे पहले मुख्यालय स्तर पर यह फैसला हो चुका है। इस एक्सप्रेस वे के बनने से दिल्ली-आगरा हाईवे-19 पर वाहनों का दबाव भी कम होगा।

Post add

Leave A Reply

Your email address will not be published.