अब बनारसियों के मददगारों के मुरीद हुए मोदी

       संजीव कुमार

भारत का प्रधानमंत्री होने के नाते देश के समक्ष मौजूद तमाम सामरिक, आर्थिक, सामाजिक व समसामयिक समस्याओं का निपटारा करने की व्यस्तताओं के बीच भी नरेन्द्र मोदी ना सिर्फ अपने संसदीय क्षेत्र बनारस पर विशेष नजर बनाए रखते हैं बल्कि सांसद के तौर पर काशी और काशीवासियों के प्रति अपने कर्तव्यों का निवर्हन करने में जरा भी कमी नहीं रहने देते हैं। यही वजह है कि कोरोना महामारी के दौर में भी प्रधानमंत्री मोदी ने लगातार अपने निर्वाचन क्षेत्र की खोज-खबर लेते रहने और वहां की समस्याओं का तीव्र गति से निराकरण करने में कोई कसर नहीं छोड़ी। लेकिन यह प्रधानमंत्री को भी पता है कि तमाम सरकारी प्रयासों के बाद भी लगातार तीन महीने तक चले लाॅकडाउन और अब चल रही अनलाॅक की प्रक्रिया के दौरान लागू की गयी बंदिशों के कारण अन्य देशवासियों की ही तरह काशीवासियों को भी तमाम तरह की दिक्कतों और परेशानियों का सामना करना ही पड़ा है। ऐसे में जिन गैर-सरकारी संस्थाओं ने इस मुश्किल समय के दौरान काशीवासियों की यथासंभव मदद करने में अपनी पूरी ताकत झोंक दी और लोगों को हरसंभव मदद व सहायता पहुंचाई उनके प्रति काशी का सांसद होने के नाते प्रधानमंत्री मोदी के दिल में विशेष स्नेह, सम्मान और आभार का भाव प्रकट होना स्वाभाविक ही है। जिन संस्थाओं ने कोरोना काल में काशीवासियों की बढ़ चढ़कर मदद की और हरसंभव सहायता मुहैया कराई उनके कार्यों ने प्रधानमंत्री का दिल जीत लिया है। लिहाजा प्रधानमंत्री ने इस संस्थाओं के साथ व्यक्तिगत तौर पर बातचीत करके उनको प्रोत्साहित करने और उनके प्रति खुले दिल से आभार प्रकट करने के फैसला किया है। इसी सिलसिले में आज प्रधानमंत्री उन एक सौ से भी अधिक संस्थाओं के संचालकों से वीडियो काॅन्फ्रेंसिंग के माध्यम से सीधे तौर पर मुखातिब होंगे जिन्होंने शासन और प्रशासन के साथ कांधे से कांधा मिलाकर कोरोना काल में काशीवासियों की समस्याओं का निराकरण करने और उन्हें मदद पहुंचाने के लिये जमीन पर उतरकर राहत, जागरूकता व जनकल्याण के कार्यों को निःस्वार्थ सेवाभाव से अंजाम दिया है।
प्रधानमंत्री कार्यालय की ओर से उपलब्ध कराई गई जानकारियों के मुताबिक कोरोना महामारी के प्रसार को नियंत्रित करने के लिए लागू किए गए लॉकडाउन के दौरान वाराणसी के निवासियों तथा सामाजिक संस्थाओं द्वारा कठिन परिस्थितियों में जिला प्रशासन के माध्यम से तथा स्वयं के प्रयासों से ये सुनिश्चित किया गया कि सभी जरूरतमंदों को समय पर भोजन उपलब्ध हो। अब आज प्रधानमंत्री उन सौ से भी अधिक संस्थाओं एवं उनके प्रतिनिधियों से वीडियो कांफ्रेंस के द्वारा बातचीत करके उनके अनुभव तथा उनके द्वारा लॉकडाउन के दौरान किये गए विभिन्न सामाजिक कार्यों पर विस्तार से चर्चा करेंगे और इस बातचीत को पूरे देश के लोग देख व सुन पाएंगे। प्रधानमंत्री कार्यालय कार्यालय की ओर से यह जानकारी भी दी गई है कि लॉकडाउन की सम्पूर्ण अवधि के दौरान वाराणसी में अलग अलग क्षेत्र से संबंधित सौ से अधिक संस्थाओं द्वारा जिला प्रशासन की फूड सेल के माध्यम से तथा व्यक्तिगत रूप से भी करीब 20 लाख फूड पैकेट्स तथा दो लाख सूखे राशन किट्स का वितरण किया गया। इन संस्थाओं द्वारा केवल आम लोगों के बीच भोजन वितरण ही नहीं किया गया बल्कि इन्होंने कोरोना से बचाव के लिए आम लोगों के बीच काफी बड़ी मात्रा में सैनिटाइजर और मास्क का भी वितरण किया है। इन संस्थाओं के इस सेवाभाव और कामकाज का स्थानीय प्रशासन ने भी संज्ञान लिया है और जिला प्रशासन द्वारा इन सभी को ‘कोरोना वारियर्स’ के रूप में सम्मानित भी किया गया है। जिला प्रशासन द्वारा कोरोना वारियर्स के तौर पर सम्मानित की गई संस्थाओं में चिकित्सा, धार्मिक, शिक्षा, सामाजिक, होटल क्षेत्र, सामाजिक क्लब तथा व्यावसायिक क्षेत्र से संबंधित संस्थाएं शामिल हैं। साथ ही इस संस्थाओं के साथ आज प्रधानमंत्री भी व्यक्तिगत तौर पर बातचीत करेंगे और उनके सेवा कार्यों के लिये बनारस का जनप्रतिनिधि होने के नाते अपनी ओर से आभार भी प्रकट करेंगे और उन्हें प्रोत्साहित भी करेंगे।

Post add

Leave A Reply

Your email address will not be published.