केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने हरी झंडी दिखाकर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी क्रॉस कंट्री स्लम दौड़ का किया शुभारंभ

प्रतियोगिता में विभिन्न वर्ग के हजारों प्रतिभागियों ने लिया हिस्सा, विजेताओं को दिया गया पुरस्कार

नई दिल्ली(चलते फिरते ब्यूरो) । दिल्ली भाजपा द्वारा प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी क्रॉस कंट्री स्लम दौड़ का आयोजन दिल्ली के मेजर ध्यानचंद नेशनल स्टेडियम में किया गया जिसका शुभारंभ हरी झंडी दिखाकर केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने किया। 10,000 से अधिक झुग्गी झोपड़ी के विभिन्न्न आयुवर्ग के बच्चों एवं युवाओं ने इस दौड़ भाग लिया। तीन लाख की इस इनामी प्रतियोगिता को चार वर्ग में विभजित किया गया था और प्रत्येक वर्ग के टॉप चार विनर यानी कुल 32 प्रतिभागियों को केंद्रीय मंत्री  हरदीप सिंह पुरी और प्रदेश भाजपा अध्यक्ष आदेश गुप्ता के हाथों इनामी राशि दी गई। इसके अलावा जितने भी प्रतिभागी थे उन्हें टी-शर्ट, मेडल और सर्टिफिकेट दिया गया।

इस मौके पर भाजपा के राष्ट्रीय महामंत्री दुष्यंत गौतम, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष एवं दिल्ली प्रदेश प्रभारी बैजयंत जय पांडा, आईसीसीआर के चेयरमैन विनय सहस्त्रबुद्धे, राष्ट्रीय मंत्री एवं प्रदेश सह-प्रभारी डॉ अलका गुर्जर, नेता प्रतिपक्ष  रामवीर सिंह बिधूड़ी, पूर्व केंद्रीय मंत्री एवं सांसद डॉ हर्षवर्धन, पूर्व केंद्रीय मंत्री  विजय गोयल, सांसद  रमेश बिधूड़ी एवं  गौतम गंभीर, पूर्व प्रदेश अध्यक्ष  सतीश उपाध्याय, पूर्व भारतीय तेज गेंदबाज ईशांत शर्मा, प्रदेश महामंत्री  दिनेश प्रताप सिंह,  कार्यक्रम के संयोजक एवं प्रदेश उपाध्यक्ष राजन तिवारी, प्रदेश उपाध्यक्ष वीरेंद्र सचदेवा एवं  जयवीर राणा, प्रदेश कोषध्यक्ष  विष्णु मित्तल, फिजिकल फाउंडेशन ऑफ इंडिया के सेक्रेटरी डॉ पीयूष जैन सहित प्रदेश, मोर्चा और जिला के कई पदाधिकारी उपस्थित थे।

कार्यक्रम के बाद पत्रकारों से बात करते हुए आदेश गुप्ता ने कहा कि आज प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी क्रॉस कंट्री स्लम दौड़ एक मंच झुग्गी झोपड़ी और अनधिकृत कॉलोनियों में रहने वाले हुनरबाज और प्रतिभा को निखारकर दिल्ली के सामने उन्हें लाने का एक जरिया बना है। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की खेलो इंडिया फिट इंडिया मोममेंट को साकार किया गया है। उन्होंने कहा कि दिल्ली में प्रतिभा की कमी नहीं है, लेकिन जरूरत है उसको एक मंच और सही दिशा देने की, जो इस प्रतियोगिता के द्वारा सच साबित हुआ है। क्योंकि केजरीवाल सरकार खिलाड़ियों की जगह विज्ञापन में पैसे बहाती है लेकिन खिलाड़ियों को बेसिक सुविधा तक नहीं दे पाती।उन्होंने कार्यक्रम के बारे में जानकारी देते हुए कहा कि प्रतियोगिता को चार आयु वर्ग में इसलिए बांटा गया था ताकि अधिक से अधिक प्रतिभा को इसमें मौका मिल सके। प्रतियोगिता में 2.5 किलोमीटर की दौड़ में 10-15 वर्ष के लड़के या लड़कियों ने भाग लिया जबकि एक अन्य 2.5 किलोमीटर की दौड़ में सभी आयु वर्ग के प्रतिभागी अवस्थित थे। इसी तरह से 5 किलोमीटर की दौड़ में 16-20 वर्ष के आयु वर्ग के प्रतिभागी थे जबकि एक अन्य पांच किलोमीटर की दौड़ में हर आयु वर्ग के प्रतिभागियों ने भाग लेकर अपना हुनर दिखाया।