कोटा में सिटी पार्क और चंबल रिवर फ्रंट बनेगा पर्यटन का विश्व स्तरीय आकर्षण – धारीवाल

डॉ.प्रभात कुमार सिंघल,कोटा

पर्यटन शहर बनाने के लिए पिछले तीन सालों से किए जा रहे प्रयासों के फलस्वरूप चंबल नदी पर 900 करोड़ रुपए की लागत से विकसित किया जा रहा चंबल रिवर फ्रंट का कार्य तेजी से चल रहा है और कुछ ही समय में पूर्ण हो जायेगा। इंस्ट्रूमेंटेशन कॉलोनी की 71 एकड़ जमीन पर 112 करोड़ रुपए की लागत से नव विकसित सिटी पार्क का कार्य अंतिम चरण में चल रहा है। सिटी पार्क का डिजाइन मेड्रिड के रेट्रो पार्क और न्यूयॉर्क के सिटी पार्क के पार्को की तर्ज पर बनाया हैं ।

यह जाकारी बताते हुए नगरीय विकास एवं स्वायत शासन मंत्री शांति धारीवाल ने बताया कि ये दोनों पर्यटन स्थल विश्व स्तरीय पर्यटकों को आकर्षित करेंगे और कोटा विश्व के पर्यटन मानचित्र पर नए डेस्टिनेशन के रूप में उभर कर सामने आएगा। उन्होंने बताया कि कोटा को पर्यटन नगर बनाने के लिए जन सुविधाओं, आधारभूत ढांचे के विकास और पर्यटन विकास के लिए लगभग तीन हजार करोड़ रुपए से अधिक के कार्यों में फ्लाई ओवर, अंडरपास, पार्किंग, आइलैंड विकास, चौराहों का सौंद्रीकरण, उद्यानों के विकास, हेरिटेज संरक्षण आदि के कई कार्य पूर्ण हो कर उपयोग में आ गए हैं। उन्होंने बताया कि पर्यटन विकास के कार्य लोगों को तनाव से भी मुक्त रखने में बड़ी भूमिका निभाएंगे।

नगर विकास न्यास द्वारा विकसित किए जाओसिजॉन पार्क की जानकारी देते हुए सचिव राजेश जोशी ने बताया कि सिटी पार्क शहर के कोचिंग हब में विकसित किया गया है। यह सिर्फ पार्क न होकर अपने आप में एक कलाकृति बनने जा रहा हैं। जिसमे 72 प्रतिशत हिस्से में हरियाली, 16 फीसदी में पानी के और 12 फीसदी में पक्का निर्माण के कार्य करवाए गए हैं। लाखों की तादाद में छोटे बड़े पेड़ यहा ऑक्सीजन की फैक्ट्री की तरह प्राण वायु देगे।

उन्होंने बताया कि पार्क में 2 दर्जन से ज़्यादा ऐसे आकर्षण बनाये गए है जिससे छात्रों मैं सकारात्मकता आयेगी और उनका तनाव कम होगा। यहां बनाया गया नॉलेज इस फ्रीडम सर्किल सभी बंधनों से मुक्त होकर स्वतंत्र होने का संदेश देता है। सर्किल के बीच किताब हाथ में लिए बैठे बच्चे की यह मूर्ति है जिसमें पुस्तक के आकार की चिड़िया है आसपास उड़ान भर रही है। पार्क में सर्पिली नहर इस तरह डिजाइन है कि पर्यटक एक बार में चप्पू वाली नाव से बोटिंग में पार्क का अधिकांश हिस्सा देख सकेंगे। पार्क में लोहे के अंडाकार स्ट्रक्चर में पक्षीशाला का निर्माण किया गया है इसमें 50 से अधिक प्रजाति के पक्षी देखने को मिलेंगे और समीप ही मोरो के लिए जगह संरक्षित की गई है।

पार्क में विकसित की गई छोटी-छोटी पहाड़ियों के बीच इनवर्टेड 3डी प्रोजेक्शन मेपिंग उल्टा पिरामिड भी लगभग तैयार हो चुका है इसमें विभिन्न तरह की आकर्षक इमेजे नजर आएंगी। पार्क में 120 मीटर लंबी खोलो गुफा का निर्माण करने के साथ विभिन्न कलात्मक कलाकृतियों का निर्माण भी इस गुफा में किया जा रहा है जो पर्यटकों को रोमांचित करेगी। काइनेटिक टावर 40 फीट ऊंचे काइनेटिक टावर में हवा के रुख के साथ डिजाइन भी बदलती रहेगी और हवा के वेग का भी आभास यह टावर कराएगा। यह टावर कोटा ही नहीं राजस्थान में सिर्फ सिटी पार्क में देखने को मिलेगा।bपर्यावरण संरक्षण का संदेश देती ट्री मैन का स्टेचू भी विकसित किया गया है जो मानव जाति की प्रकृति पर निर्भरता को बखूबी बया कर रहा है। साइकिल ट्रेक, जॉगिंग ट्रैक, म्यूजिकल फाउंटेन और फूड जोन भी अन्य आकर्षण होंगे।