कांग्रेस ने ओबीसी वर्ग को सिर्फ वोट बैंक की तरह इस्तेमाल किया-भूपेंद्र यादव

ओबीसी मोर्चा के राष्ट्रीय समागम का उद्घाटन केंद्रीय मंत्री भूपेंद्र यादव ने किया

जोधपुर(चलते फिरते ब्यूरो) । भाजपा ओबीसी मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं राज्यसभा सांसद डॉ० के० लक्ष्मण की अध्यक्षता में भाजपा ओबीसी मोर्चा के राष्ट्रीय कार्यसमिति की बैठक में  मुख्य अतिथि केंद्रीय वन पर्यावरण एवं जलवायु परिवर्तन और श्रम एवं रोजगार मंत्री ने कहा  भूपेंद्र यादव कांग्रेस ने ओबीसी वर्ग को सिर्फ वोट बैंक की तरह इस्तेमाल किया और उन्हें कभी भी सामाजिक न्याय नहीं दिया।यह मोदी सरकारी ही है जिसने ओबीसी कमिशन को संवैधानिक दर्जा देने का काम किया।उन्होंने कहा यह मोदी सरकार ही है जिसने नवोदय विद्यालय,केंद्रीय विद्यालय और NEET जैसी बड़ी परीक्षा में ओबीसी समाज को 27% आरक्षण देने का काम किया।
डॉक्टर के लक्ष्मण ने सभी पदाधिकारियों को संबोधित करते हुए ओबीसी मोर्चे की चुनावी समय मे राजनीतिक भूमिका को समझाया,आने वाले चुनाव में विधानसभा मे राजस्थान कांग्रेस की सरकार को उखाड़ फेंकने के लिए सभी सर्व समाज को एक जुट करने का आह्वान किया,राजस्थान मे कोंग्रेस सरकार पूरी तरह से विफल रही हैं  और आने वाले चुनाव मे ओबीसी मोर्चा उन्हें सत्ता से निकाल फेंकेगा।
राजस्थान के प्रदेश अध्यक्ष डॉ  सतीश पुनिया जी ने राजस्थान मे ओबीसी मोर्चा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी मे सम्भोधन करते हुए राजस्थान मे  पधारे सभी पदाधिकारियों का स्वागत किया व राजस्थान की राजनीतिक स्थिति से परिचय कराया।केंद्रीय कृषि राज्य मंत्री श्री कैलाश चौधरी ने “कृषि का भविष्य और किसानों का उत्थान” के विषय पर सम्बोधन करते हुए मोदी सरकार के किसानो के लिए किये गए अनेको कार्यों पर चर्चा की।
जोधपुर की कार्यसमिति ओबीसी मोर्चा के लिए बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि चुनावी राज्यों में ओबीसी मोर्चा की भी एक महत्वपूर्ण भूमिका है। केंद्रीय मंत्रियों में भूपेंद्र यादव जी,गजेंद्र सिंह शेखावत जी, कैलाश चौधरी जी,राजस्थान भाजपा अध्यक्ष सतीश पूनिया जी सहित देशभर के सवा सौ राष्ट्रीय प्रतिनिधियों ने भाग लिया हैं। इन प्रतिनिधियों में ओबीसी मोर्चा के राष्ट्रीय पदाधिकारी, राष्ट्रीय कार्यसमिति सदस्य, विशेष आमंत्रित सदस्य और राज्य के मोर्चा प्रदेश अध्यक्ष भाग लिया। ओबीसी मोर्चा के राष्ट्रीय मंत्री निर्मल कुमावत जी ने कार्यसमिति के दौरान राजनीतिक प्रस्ताव पारित किया गया।