केंद्र से जेपी सेतु के समानांतर नया छ: लेन सड़क पुल निर्माण की मंजूरी मिली :  रूडी

2860.05 करोड़ की लागत से 42 महीनों में बनकर तैयार होगा सेतु

  3 साल की कोशिश, जेपी सेतु के समानांतर नया छ: लेन सड़क पुल शीघ्र
  वित्त मंत्रालय और नीति आयोग में प्रारूपण, शीघ्र निकलेगी निविदा 
  जेपी सेतु के समानांतर यह पुल छ: गलियारों का होगा
  बुद्ध सर्किट के वैशाली और केशरिया में बुद्ध स्तूप को भी मिलेगी बेहतर कनेक्टिविटी
  सोनपुर के गंगाजल से गंगा नदी पार करते हुए पटना का दिघा घाट जुड़ेगा पुल से
  सारण-पटना के बीच पहले छ: लेन सड़क पुल के लिए PM और गडकरी के प्रति आभार जताया

पटना(चलते फिरते ब्यूरो) । तीन वर्षों के निरंतर प्रयास के बाद पूर्व केंद्रीय मंत्री सह सारण सांसद राजीव प्रताप रुडी के प्रयास से जेपी सेतु के समानांतर सारण कप पटना से जोड़ने के लिए एक और पुल के निर्माण की मंजूरी केंद्र सरकार से मिल गई है जिसका प्रारूपण अंतिम चरण में है। बकौल सांसद शीघ्र ही इसकी निविदा निकलेगी और निविदा के पश्चात 42 महीनों में चयनित संवेदक को पुल निर्माण पूर्ण करना होगा। रूडी ने बताया कि निर्माण से संबंधित मेमोरेंडम फिलहाल वित्त मंत्रालय और नीति आयोग के पास विचाराधीन है। सारण सांसद रूडी ने बताया कि जेपी सेतु का निर्माण जिस उद्देश्य से कराया गया था वह पूरा नही हो रहक है। सारण प्रमंडल को घनी आबादी को देखते हुए जेपी सेतु का संकरापन द्रुतगामी यातायात में बाधक है इसलिए मैंने राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी जी से जेपी सेतु के समानांतर एक अन्य सड़क पल की मांग की 5ही जिसे उन्होंने स्वीकार किया।
सरणवासियों की तरफ से प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी  को धन्यवाद देता हूं की जिनके कुशल विकासवादी नेतृत्व में जेपी सेतु के समानांतर छ: लेन वाले सड़क सेतु का उपहार शीघ्र ही आमजन को मिलेगा। यह पुल बुद्ध सर्किट के एक महत्वपूर्ण हिस्से के रूप में वैशाली और केशरिया में बुद्ध स्तूप को बेहतर कनेक्टिविटी भी प्रदान करेगा। इस पुल से केवल पूर्वी बिहार के लोगों को ही नही बल्कि उत्तर बिहार के कई जिलों के लोग लाभान्वित होंगे। उन्होंने बताया कि प्रस्तावित NH-139W पटना को बेतिया से NH-727 पर जोड़ता है, जिससे इन दो शहरों के बीच की दूरी लगभग 60 किलोमीटर कम हो जाएगी। इसलिए उत्तर प्रदेश और नेपाल की ओर बीरगंजह से जाने वाला प्रमुख यातायात इस नए संरेखण को अपनाएगा जिससे इस पुल का महत्व और अधिक बढ़ जायेगा।
सांसद रुडी ने बताया कि मौजूदा दीघा-सोनपुर रेल-सह-सड़क पुल के पश्चिमी किनारे के समानांतर गंगा नदी पर उच्च तकनीक के नए 6-लेन एच.एल./एक्स्ट्रा डोज्ड केबल ब्रिज के निर्माण होगा। यह नया पुल मौजूदा 2-लेन जेपी सेतु पुल के 180 मीटर की दूरी पर होगा जो गंगा नदी के उपर 4556 मीटर लंबा होगा। 4 लूप्स, 1 वीयूपी, 1 एलवीयूपी दक्षिणी अप्रोच (दीघा-पटना), 1 वायाडक्ट, 1 लूप, 1 वीयूपी, 1 एलवीयूपी, 5 बॉक्स कल्वर्ट्स, 1.669 किलोमीटर एप्रोच के साथ दोनों तरफ सर्विस रोड और मुख्य कैरिजवे पर 1 टोल प्लाजा और नॉर्थ एप्रोच (गंगाजल) पर सर्विस रोड पर 1 टोल प्लाजा का निर्माण किया जायेगा।
4.55 किलोमीटर लंबाई वाले इस पुल की लागत 2860.05 करोड़ रुपये है। रूडी ने बताया कि लागत राशि मे जमीन अधिग्रहण के साथ ही संपर्क पथ के निर्माण की राशि भी समाहित है। साथ ही निर्माण के पश्चात 10 वर्षो तक संवेदक को पुल का रख-रखाव की जिम्मेदारी भी निभक्नी होगी। सारण में सोनपुर के गंगाजल से पुल शुरू होकर गंगा नदी को पार करते हुए पटना के दिघा घाट पर मिलेगा।