नई आबकारी नीति के तहत केजरीवाल ओबराय होटल में बैठकर बनाते थे नीति-प्रवेश साहिब सिंह

नई दिल्ली(चलते फिरते ब्यूरो)। भारतीय जनता पार्टी के सांसद  प्रवेश साहिब सिंह ने दावा किया कि सी.बी.आई. के पास इस बात के पर्याप्त सबूत है कि कैसे केजरीवाल सरकार ने शराब माफियाओं के साथ मिलकर आबकारी नीति बनाई और करोड़ों रुपये का घोटाला किया।

उन्होंने आज प्रेसवार्ता को संबोधित करते हुए कहा कि इस सारी नीति के निर्माता मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल हैं जिन्होंने ओबराय होटल में इस नीति को बनाने के लिए बैठक होती थी जिसमें शराब माफिया के लोगों और मनीष सिसोदिया के साथ अधिकारी भी शामिल होते थे। उन्होंने कहा कि जांच एजेंसी को इस सारे घोटाले के सबूत मिल चुके हैं और कई लोग सरकारी गवाह भी बन चुके हैं। ऐसे में केजरीवाल सरकार की ईमानदारी की पोल जल्द ही खुल जाएगी। प्रेसवार्ता में प्रदेश भाजपा रिलेशन विभाग के प्रभारी  हरीश खुराना और प्रदेश मीडिया सह-प्रमुख  हरिहर रघुवंशी उपस्थित थे।

उन्होंने कहा कि केजरीवाल को पहले ही पता था कि इस तरह की बेईमानी करने का क्या परिणाम होगा। इसलिए उन्होंने पहले ही घोषणा कर दी थी कि स्वास्थ्य मंत्री सत्येन्द्र जैन के बाद अब सिसोदिया का नम्बर है और उनकी यह बात सही साबित हो रही है। उन्होंने केजरीवाल पर कटाक्ष करते हुए कहा कि वे एक सफल मुख्यमंत्री तो नहीं बन सके लेकिन एक सफल भविष्य वक्ता जरुर है। माफिया के साथ हुई बैठकों में कमीशन तय करने के काम मुख्यमंत्री केजरीवाल ने किया जो कि राजस्व सेवा के होने के कारण सारी तकनीक जानते थे। इसी कमीशन को पाने के लिए ही शराब पर कमीशन 2.5 फीसदी से बढ़ाकर 12.5 फीसदी किया गया।

उन्होंने कहा कि केजरीवाल और सिसोदिया लगातार नई आबकारी नीति की तारीफ करते रहे लेकिन सीबीआई जांच शुरु होने के साथ ही इस नीति को खराब बताकर इसे वापस भी ले लिया। उन्होंने कहा कि आम आदमी पार्टी का जिस तरह का ढ़ांचा है, उसमें कोई भी मंत्री बिना अरविंद केजरीवाल की इज़ाजत के पत्ता भी नहीं हिला सकता।