अब केवल वैध सरकारी दुकानों पर ही होगी शराब की बिक्री-मनीष सिसोदिया

पुरानी व्यवस्था बहाल

 नई दिल्ली (चलते फिरते ब्यूरो) ।ईडी-सीबीआई का डर दिखाकर भारतीय जनता पार्टी दिल्ली में शराब की वैध दुकानों को बंद करवाना चाहती है और यहां भी गुजरात की तरह अवैध नकली शराब बेचने का अपना धंधा शुरू करना चाहती है। भाजपा दुकानदारों को डरा-धमकाकर उन्हें अपनी दुकान छोड़ने को मजबूर कर रही है। भाजपा ने दिल्ली सरकार के अधिकारियों को भी इतना डरा दिया है कि वो खाली दुकानों का टेंडर करने से डर रहे है। इन सब के पीछे भारतीय जनता पार्टी का केवल एक ही मकसद है दिल्ली में वैध शराब की इतनी कमी कर दी जाए ताकि यहां वो अवैध तरीके से नकली शराब का धंधा चला सकें|। उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने शनिवार को एक प्रेस-कांफ्रेंस के दौरान ये बातें कही। उन्होंने आगे कहा कि दिल्ली सरकार दिल्ली में नई पॉलिसी को बंद कर 1 अगस्त से सरकारी दुकानों में ही शराब की बिक्री होगी। उपमुख्यमंत्री ने इस बाबत मुख्य-सचिव को यह सुनिश्चित करने के निर्देश दिए है कि सरकारी शराब की दुकानों में किसी प्रकार का भ्रष्टाचार न हो और वहां अवैध शराब न बिके।

दिल्ली जहाँ सरकार ने पिछले साल एक नई एक्साइज पॉलिसी बनाई। उपमुख्यमंत्री ने बताया कि 2021-22 में इस पॉलिसी के लागू होने से पहले दिल्ली में शराब की ज़्यादातर सरकारी दुकाने थी और इनमें खूब भ्रष्टाचार होता था। साथ ही यहां कुछ प्राइवेट दुकाने भी थी जिससे बहुत कम लाइसेंस फीस ली जाती थी और सालों से उनकी लाइसेंस फीस भी नहीं बढाई गई थी। उन्होंने आगे कहा कि, दिल्ली सरकार ने इस भ्रष्टाचार को ख़त्म करने के लिए नई पॉलिसी बनाई और पारदर्शी तरीके से शराब की दुकानों को टेंडर किया। एक्साइज पॉलिसी 2021-22 से पहले दिल्ली में शराब कि 850 दुकाने थी। नई पॉलिसी में भी यह निर्णय लिया गया कि इसमें भी शराब की 1 भी दुकान नहीं बढाई जाएगी| उन्होंने बताया कि पुरानी नीति से सरकार को हर साल 6,000 करोड़ का राजस्व मिलता था लेकिन नई पॉलिसी के बाद यदि सभी दुकाने खुल जाए तो पूरे साल में सरकार का राजस्व 1.5 गुणा से भी ज्यादा बढ़कर 9,500 करोड़ हो जाता।

उन्होंने बताया कि नई एक्साइज पॉलिसी के आने से भ्रष्टाचार ख़त्म हुआ। लेकिन गुजरात के बाद अवैध शराब का अपना धंधा दिल्ली में भी चलाने के लिए भारतीय जनता पार्टी ने इस पॉलिसी को फेल करने का प्लान बनाया है। अब दिल्ली में भाजपा प्राइवेट शराब की दुकानों को सीबीआई,ईडी की धमकी दे रही है डरा रही है। इस कारण प्राइवेट दुकान वाले अपनी दुकाने छोड़ने लगे है और 1 अगस्त से और कई अपनी दुकाने छोड़ कर जाने वाले है। साथ ही भाजपा ने दिल्ली सरकार के अधिकारियों को भी सीबीआई,ईडी की धमकी देकर इतना डरा दिया है कि वह खाली हो रही दुकानों को दोबारा नीलाम करने को तैयार नहीं हो रहे है।

 

Leave A Reply

Your email address will not be published.