द.अफ्रीका और यूएई में T20 टीम खरीदने के बाद रिलायंस के पास हुई तीन देशों में तीन टीमें

@ chaltefirte.com                                           नई दिल्ली। क्रिकेट की दुनिया में रिलायंस लगातार अपनी अंतरराष्ट्रीय उपस्थिति मजबूत कर रहा है। भारत के बाद रिलायंस ने दक्षिण अफ्रीका और यूएई में भी टी20 लीग टीम खरीद ली हैं। रिलायंस की टी20 स्कावड में सबसे नई टीम दक्षिण अफ्रीका की ‘केपटाउन’ है। जिसे बीते मंगलवार को रिलायंस इंडस्ट्रीज के मुंबई इंडियन ब्रांड ने खरीदा है। इसके साथ ही रिलायंस के पास तीन देशों में तीन टी20 टीमें हो गई हैं।

 

दक्षिण अफ्रीका की टी20 लीग टीम ‘केपटाउन’ का रिलायंस परिवार में स्वागत करते हुए रिलायंस इंडस्ट्रीज की निदेशक नीता अंबानी ने कहा, “रिलायंस परिवार में हमारी नई टी20 टीम का स्वागत करते हुए मैं बेहद खुश हूं! हम मुंबई इंडियंस के मजबूत और मनोरंजक क्रिकेट ब्रांड को दक्षिण अफ्रीका जैसे देश में ले जाने पर उत्साहित हैं, एक ऐसा देश जो क्रिकेट से उतना ही प्यार करता है जितना हम भारतीय करते हैं! जैसे-जैसे मुंबई इंडियंस का वैश्विक क्रिकेट फुटप्रिंट बढ़ता जाएगा, वैसे वैसे खेलों के माध्यम से खुशी और उत्साह फैलाने की हमारी प्रतिबद्धता में इजाफा होता रहेगा! ”

रिलायंस जियो के चेयरमैन आकाश अंबानी ने कहा, “दक्षिण अफ्रीकी फ्रेंचाइजी के साथ अब हमारे पास तीन देशों में तीन टी20 टीमें हैं। हम क्रिकेट ईको सिस्टम और ब्रांड मुंबई इंडियंस में अपनी विशेषज्ञता और अनुभव का लाभ उठाने के लिए तैयार हैं ताकि प्रशंसकों को कुछ बेहतरीन क्रिकेट देखने को मिले”

कंपनी के मुताबिक देश में रिलायंस इंडस्ट्रीज ने क्रिकेट फ्रेंचाइजी, फुटबॉल लीग, खेल प्रायोजन, परामर्श और एथलीट प्रतिभा प्रबंधन के माध्यम से खेलों के लिए एक बेहतर ईको सिस्टम विकसित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।

इसके अलावा आरआईएल के सीएसआर विंग – रिलायंस फाउंडेशन स्पोर्ट्स के माध्यम से देश भर के एथलीटों को चैंपियन बनने के अवसर प्रदान किया जा रहा है। वैश्विक खेल आयोजनों की मेजबानी में भारत का पक्ष मजबूत करने के साथ देश में ओलंपिक आंदोलन का आगे बढ़ाया जा रहा है। इस वर्ष की शुरुआत में नीता अंबानी के प्रयासों से 40 वर्षों के अंतराल के बाद 2023 में मुंबई में प्रतिष्ठित अंतर्राष्ट्रीय ओलंपिक समिति सत्र की मेजबानी की जाएगी।

Post add

Leave A Reply

Your email address will not be published.