दिल्ली प्रान्त संघ शिक्षा वर्ग के प्रथम वर्ष का समापन

20 दिन चले वर्ग में संपूर्ण दिल्ली से 268 शिक्षार्थियों ने लिया भाग

@ chaltefirte.com                                            दिल्ली।  पिछले 20 दिन से चल रहे संघ शिक्षा वर्ग – प्रथम वर्ष का समापन कार्यक्रम शनिवार 18 जून 2022 की शाम को आर. ए. गीता विद्यालय, शंकर नगर, शाहदरा, दिल्ली आयोजित हुआ। कार्यक्रम में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के अखिल भारतीय सह प्रचारक प्रमुख अरुण जैन मुख्य वक्ता तथा सलवान एजुकेशन ट्रस्ट के चेयरमैन सुशील दत्त सलवान मुख्य अतिथि थे।
कार्यक्रम को संबोधित करते हुए मुख्य वक्ता राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के अखिल भारतीय सह प्रचारक प्रमुख अरुण जैन ने कहा की 2025 में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की स्थापना को 100 वर्ष पूरे होने जा रहे हैं। आज से 100 साल पहले सभी परिस्थितियों एवं इतिहास पर विचार करते हुए डॉ केशव बलराम हेडगेवार ने सोचा कि क्या अंग्रेजों के चले जाने मात्र से भारत की सभी समस्याएं समाप्त हो जाएंगी? हमारा देश बाहरी कारणों से गुलाम नही हुआ बल्कि हमारा देश गुलाम हुआ क्योंकी हम अपने देश के अंदर विघटित हुए, आपस में लड़ने लगे, एक दूसरे से बदला लेने के लिए हारे हुए आक्रांताओं से हाथ मिला लिया। अगर हम इतिहास की लड़ाईयों पर ध्यान दे तो पाएंगे कि हम अपने ही कमजोरियों से हारे। इन सब घटनाओं का आकलन करने पर डॉक्टर साहब को ध्यान आया कि हमारी गुलामी का कारण कोई अंग्रेज, कोई गौरी, कोई गजनबी नहीं था। बल्कि हिंदू समाज ही था, जो विघटित हो गया, एक दूसरे से लड़ने लगा और अक्रांता से जा मिला था। 
उन्होंने कहा की डॉक्टर साहब इस निष्कर्ष पर पहुंचे कि जब तक हिंदू समाज को संगठित नहीं किया जाता, यह देश अपने गौरवशाली इतिहास को पुनर्स्थापित नहीं कर सकता। हिंदू समाज को संगठित करने के उद्देश्य से ही डॉक्टर साहब ने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की स्थापना की। 1925 में प्रारंभ हुआ संघ 1940 में डॉक्टर साहब के सामने ही देश के सभी प्रांतों में पहुंच गया। तब डॉक्टर साहब ने नागपुर में एक संघ शिक्षा वर्ग को संबोधित करते हुए कहा था कि मैं आज अपने सामने लघु भारत देख रहा हूं।
अरुण जैन ने कहा कि हिंदुस्तान की समस्या का हल यह है कि गली-मोहल्ले का प्रत्येक नागरिक अपनी जिम्मेदारी को समझें।इस अवसर पर मुख्य अतिथि सलवान एजुकेशन ट्रस्ट के चेयरमैन सुशील दत्त सलवान ने कहा की मैं नौजवानों से आग्रह करता हूं कि जैसे सेना के जवान देश की सीमाओं की रक्षा करते हैं, वैसे ही आप देश के अंदर देश की रक्षा करें।

उन्होंने कहा की आप युवाओं के कंधों पर बहुत बड़ी जिम्मेदारी है। इस देश मे एकता लाने की जिम्मेदारी आपकी है। देश के पर्यावरण की रक्षा का दायित्व आपका है। इस देश को शिक्षित एवं स्वस्थ करने का दायित्व आपका है। देश की संस्कृति की रक्षा करने का दायित्व आपके कंधों पर है।
उन्होंने कहा कि इस देश की रक्षा करना हमारा धर्म है । अपने बुजुर्गों को आदर देना हमारा धर्म । सबको साथ लेकर चलना हमारा धर्म है। हम अपने धर्म को ना भूलें।
कार्यक्रम में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के दिल्ली प्रान्त संघचालक कुलभूषण आहूजा एवं इस संघ शिक्षा वर्ग के वर्गाधिकारी तथा विश्व हिन्दू परिषद् दिल्ली प्रान्त के अध्यक्ष कपिल खन्ना की उपस्थिति रही।
राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ पिछले 97 वर्षों से समाज परिवर्तन के कार्य में लगा है। संघ का ध्येय भारत को परम वैभव पर ले जाना है अर्थात भारत को विश्व में अग्रणी और सिरमौर बनाना है। इसके लिए प्रत्येक व्यक्ति के जीवन में राष्ट्रीय चरित्र अवश्य होना चाहिए। संघ व्यक्ति के जीवन में राष्ट्रीय चरित्र का निर्माण शाखा के माध्यम से नियमित रूप से करता है। इस कार्य को करने की दृष्टि से सुयोग्य कार्यकर्ताओं के निर्माण हेतु ऐसे संघ शिक्षा वर्गों का आयोजन किया जाता है।
इस वर्ष दिल्ली प्रांत का संघ शिक्षा वर्ग प्रथम वर्ष (सामान्य) आर ए गीता विद्यालय, शंकर नगर, शाहदरा में रविवार 29 मई 2022 से प्रारंभ हुआ जो रविवार 19 जून 2022 को प्रातः 7:00 बजे संपन्न हुआ ।
इस संघ शिक्षा वर्ग में संपूर्ण दिल्ली से 18 से 40 वर्ष की आयु के 268 शिक्षार्थी भाग ले रहे हैं। इस वर्ग में आए शिक्षार्थियों की औसत आयु 24 वर्ष है। इस वर्ग में आए 268 शिक्षार्थियों में से उच्च शिक्षा एमफिल पीएचडी के 20 शिक्षार्थी, स्नातकोत्तर के 43 शिक्षार्थी, स्नातक वाले 55 शिक्षार्थी, स्कूल विद्यार्थी (10वीं, 12वीं कक्षा) 57, निजी व्यवसायी 29, प्राइवेट कर्मचारी 26, सरकारी कर्मचारी 01, प्राध्यापक 20, तथा प्रोफेशनल 25 है।
20 दिन तक चले इस संघ शिक्षा वर्ग में शिक्षार्थियों को शारीरिक एवं मानसिक रूप स्वस्थ रखने के लिए उन्हें शारीरिक प्रशिक्षण के अलावा बौद्धिक एवं वैचारिक दृष्टि से भारतीय धर्म संस्कृति का बोध तथा जीवन मूल्यों के प्रति आस्था के साथ-साथ प्रत्येक व्यक्ति के अंदर संवेदनशीलता एवं सेवाभाव रहे इसके लिए सेवा का विशेष प्रशिक्षण दिया गया।
Post add

Leave A Reply

Your email address will not be published.