उत्‍तर रेलवे द्वारा तैयार किए गए आईसोलेशन कोच शकूरबस्‍ती में कोरोना रोगियों की सेवा के लिए तैयार

नई दिल्ली। कोरोना महामारी के मौजूदा वैश्विक स्‍वास्‍थ्‍य संकट के दौरान  अतिरिक्‍त पृथकवास केन्‍द्र उपलब्‍ध कराने के प्रयास में भारतीय रेलवे ने रेल डिब्‍बों को ओइसोलेशन केन्‍द्रों में बदला है । अतिरिक्‍त स्‍वास्‍थ्‍य सुविधा प्रदान करने वाले यह डिब्‍बे स्‍वास्‍थ्‍य सेवा की कमियों वाले क्षेत्रों में अल्‍प सूचना पर रेल नेटवर्क द्वारा देश के किसी भी हिस्‍से में ले जाये जा सकते हैं । दिल्‍ली सरकार की मांग पर उत्‍तर रेलवे ने दिनांक 17.6.2020 से दिल्‍ली क्षेत्र के 9 रेलवे स्‍टेशनों पर  503 आइसोलेशन कोच प्रदान किए हैं । कम लक्ष्‍णों वाले मरीजों को प्रथक रखने के लिए इन डिब्‍बों का उपयोग किया जायेगा ।

 उत्‍तर एवं उत्‍तर मध्‍य रेलवे के महाप्रबंधक  राजीव चौधरी ने बताया कि शकूरबस्‍ती रेलवे स्‍टेशन पर खड़े किए गए इन डिब्‍बों में आज से रोगी आना शुरू हो गये है। रेल मंत्रालय और राज्‍य सरकार के बीच हुए समझौते के अनुसार उत्‍तर रेलवे ढॉंचागत सुविधा और परिसर के अनुरक्षण के लिए जिम्‍मेदार होगा । प्‍लेटफॉर्मों की सफाई और स्‍वच्‍छताहाउस-कीपिंग सामग्री (लीनन एव कम्‍बलप्रदान करना जैव शौचालयों का प्रबंधनबिजली की आपूर्ति की व्‍यवस्‍था जल संचार सुविधाओं साइनेज और विभिन्‍न क्षेत्रों के चिन्‍हांकन रेलवे द्वारा किए गए हैं ।  साथ ही इन कोचो में ऑक्‍सीजन सिलेंडर भी रेलवे द्वारा उपलब्‍ध कराए जायेंगे । खान-पान की व्‍यवस्‍था भी रेलवे द्वारा की जायेगी । इसमें एक दिन में 3 समय का भोजन  और सुबह एवं शाम की चाय शामिल होगी । जहां ये डिब्‍बे लगाए गए हैं उस रेलवे स्‍टेशन एवं प्‍लेटफॉर्म की सुरक्षा, रेल सुरक्षा बल द्वारा की जायेगी । दिल्‍ली पुलिस रेलवे स्‍टेशन एवं बाहर के इलाकों में सुरक्षा व्‍यवस्‍था की प्रभारी होगी ।

इन डिब्‍बों को रेलवे ने कोविड केयर सेंटर के रूप में इस्‍तेमाल करने के लिए स्‍थानीय प्रशासन को सौंपा है । रोगियों की पहचानउनको लाने-ले जानेउसको भर्ती करने और डिस्‍चार्ज करने की जिम्‍मेदारी राज्‍य सरकार के स्‍वास्‍थ्‍य विभाग की होगी ।

रोगियों का इलाज डीजीएचएस प्रोटोकोल के अंतर्गत किया जायेगा । साथ ही यदि रोगी की तबीयत बिगडती है तो उसे डीजीएचएस/अस्‍तपाल द्वारा उपलब्‍ध कराई जाने वाली/गयी एम्‍बूलेंस से कोविड हैल्‍थ केयर सेंटर ले जाया जायेगा ।

यह डिब्‍बे प्रीतमपुरा नई दिल्‍ली स्थित महावीर अस्‍पताल के अंतर्गत कार्य करेंगे । अस्‍पताल द्वारा आवश्‍यक दवाईयां चिकित्‍सा उपकरण और सामग्री के साथ-साथ कोच एटेंडेंट भी उपलब्‍ध कराया जायेगा । कोच की साफ-सफाई और कूडे को उठाना और उसके निपटान की जिम्‍मेदारी अस्‍पताल की होगी ।

कोविड केयर कोचों एवं रोगियों से जुड़ी सूचनाओं के लिए स्‍टेशन पर  एक रिसेप्शन सेंटर खोला गया है । यहीं पर एक आपातकालीन नियंत्रण कक्ष रेलवे द्वारा स्‍थापित किया गया है । रेल संबंधी सहायता एवं समन्‍वय  के लिए यहां 24 घंटे रेल अधिकारी तैनात होंगे ।

   शकूरबस्‍ती स्थित रेल डिब्‍बों को एक शैड के नीचे रखा गया है ताकि उनको सीधी धूप से बचाया जा सके । प्रत्‍येक कूपे में हवा के बेहतर संचार एंव तापमान नियंत्रण के लिए पंखे उपलब्‍ध कराए गए हैं ।

Post add

Leave A Reply

Your email address will not be published.