साफ-सफाई में लापरवाही पर दो और कॉन्ट्रैक्टरों पर 2.44 लाख का जुर्माना

ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण

चलते फिरते ब्यूरो
ग्रेटर नोएडा। समय से कूड़ा न उठाने पर ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के जनस्वास्थ्य विभाग ने दो कांट्रेक्टरों पर 2.44 लाख रुपये का जुर्माना लगाया है। प्राधिकरण जुर्माने की रकम दोनों कॉन्ट्रैक्टरों को होने वाले मासिक भुगतान में से कटौती करेगा। 

ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के सीईओ व मेरठ मंडलायुक्त सुरेन्द्र सिंह के निर्देश पर शहर को स्वच्छ बनाने के लिए जागरुकता अभियान के साथ ही गंदगी फैलाने वालों पर सख्त कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं। जनस्वास्थ्य विभाग के वरिष्ठ प्रबंधक सलिल यादव के नेतृत्व में टीम सेक्टरों व गांवों में रोजाना निरीक्षण कर रही है। टीम ने रोजा याकूबपुर, छपरौला, हैबतपुर, कासना, खेरली, डाढ़ा, अस्तौली आदि जगहों का निरीक्षण किया। इस दौरान समय से कूड़ा न उठने की शिकायत मिली, जिसके चलते जनस्वास्थ्य विभाग ने जोन वन में कूड़ा उठाने के लिए जिम्मेदार कंपनी आर आर फैसिलिटी 1.92 लाख और जोन फोर की कंपनी ओनिक्स कंस्ट्रक्शन पर लगभग 1.52 लाख रुपये का जुर्माना लगाया है। जुर्माने की रकम कॉन्ट्रैक्टरों को होने वाले मासिक भुगतान में से कटौती की जाएगी। सलिल यादव ने बताया कि मैनुअल स्वीपिंग के लिहाज से ग्रेटर नोएडा व ग्रेटर नोएडा वेस्ट को चार जोन में बांटा गया है। चार साल तक हर जोन की साफ-सफाई की जिम्मेदारी तीन कंपनियों पर है, जिसमें से दो जोन ( जोन टू व थ्री) के एरिया की साफ-सफाई का जिम्मा मैसर्स साईं नाथ पर है, जबकि जोन वन की साफ सफाई की जिम्मेदारी आर आर फैसिलिटी पर और जोन चार की जिम्मेदारी ओनिक्स कंस्ट्रक्शन पर है। उन्होंने निरीक्षण अभियान आगे भी जारी रहने की बात कही है। सलिल यादव ने  ग्रेटर नोएडावासियों से समय से कूड़ा न उठने पर प्राधिकरण के कॉल सेंटर नंबर (0120-2336046, 47, 48 व 49 ) पर कॉल करके सूचना देने की अपील की है। ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के सीईओ सुरेन्द्र सिंह ने ग्रेटर नोएडा के सेक्टरों व गांवों को और स्वच्छ बनाने में निवासियों से सहयोग मांगा है। घरों में गीले व सूखे कूड़े के लिए दो डस्टबिन रखने और कूड़े को डस्टबिन में ही डालने की अपील की है।
Post add

Leave A Reply

Your email address will not be published.