केंद्रीय गृह राज्य मंत्री जी किशन रेड्डी ने अशोक नगर एवं सुंदर नगरी के एंटीजन डिटेक्शन टेस्टिंग सेंटर का निरीक्षण किया

नई दिल्ली। केंद्रीय गृह राज्य मंत्री  जी किशन रेड्डी, दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष  आदेश गुप्ता, दिल्ली भाजपा पूर्व अध्यक्ष एवं उत्तर पूर्वी दिल्ली के सांसद  मनोज तिवारी ने दिल्ली सरकार के अधिकारियों के साथ उत्तर पूर्वी दिल्ली के अशोक नगर एवं सुंदर नगरी स्थित एंटीजन डिटेक्शन टेस्टिंग सेंटर का निरीक्षण किया और टेस्टिंग में लगे पैरा मेडिकल स्टाफ का मनोबल बढ़ाया।
निरीक्षण करने के बाद केंद्रीय गृह राज्य मत्री  जी किशन रेड्डी ने कहा कि पूरे देश में वैश्विक महामारी कोरोना से पीड़ितों की संख्या दिनों दिन बढ़ती जा रही है और केंद्र सरकार इससे निपटने के लिए पहले दिन से ही हर संभव प्रयास कर रही है। दिल्ली केंद्र शासित प्रदेश है और देश की राजधानी भी है इसलिए विशेष इंतजाम करना राज्य सरकार के साथ ही केंद्र सरकार का भी दायित्व है। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार के नेतृत्व में गृह मंत्री अमित शाह जी ने दिल्ली में पर्याप्त संसाधन न होने के कारण महामारी की रोकथाम में हो रहे प्रयासों में कमी को देखते हुए स्वयं दिल्ली सरकार के साथ मिलकर दिल्ली के लोगों को महामारी से बचाने के लिए बीड़ा उठाया है। उसी के तहत केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह नियमित रूप से अधिकारियों से बात कर राहत कार्यों में आने वाली रुकावट को दूर कर रहे हैं और उसी व्यवस्था को देखने के लिए हम लोग दिल्ली के सेंटरों पर जाकर स्वयं स्वास्थ्य व्यवस्थाओं का जायजा ले रहे हैं।
 उन्होंने कहा कि रैपिड टेस्टिंग के लिए केंद्र सरकार ने दक्षिणी कोरिया से 6 लाख टेस्टिंग किट खरीदी है जिसमें से 50,000 टेस्टिंग किट हम दिल्ली को उपलब्ध करा चुके हैं और प्रतिदिन 15000 टेस्ट करने का लक्ष्य रखा गया है। इसके अलावा केंद्र सरकार द्वारा दिल्ली के कोरोना वॉरियर्स के लिए 7 लाख 32 हजार 439 एन-95 मास्क, 4 लाख 41 हजार 390 पीपीई किट्स, 2 लाख 50 हजार हाइड्राक्सी क्लोरोक्वीन गोलियां उपलब्ध कराने के साथ ही 18 सरकारी, 25 प्राइवेट टेस्टिंग लैब को मंजूरी दी गई। केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय की ओर से कोरोना सहायता के रूप में 277 करोड़ रुपए की सहायता की गयी। उन्होंने कहा कि यह महामारी से हम सबको मिलकर लड़ना है इसमें राजनीति नहीं होनी चाहिए।
इस अवसर पर प्रदेश अध्यक्ष आदेश गुप्ता ने कहा कि निरंतर बद से बदतर होती रही दिल्ली की हालत में सुधार लाने के लिए भारतीय जनता पार्टी दिल्ली प्रदेश की ओर से मोदी सरकार से बार-बार निवेदन किया गया जिस पर मोदी सरकार ने दिल्ली सरकार को महामारी से निपटने के लिए हर संभव सहयोग किया है। परिणामस्वरूप स्वयं केंद्र सरकार के संबंधित मंत्रालय और मंत्री, भाजपा कार्यकर्ता निरंतर पीड़ितों की मदद के लिए और रोकथाम के उपाय के लिए प्रयासरत हैं। उन्होंने कहा कि भाजपा के हजारों कार्यकर्ताओं ने महामारी से पीड़ित लोगों को राशन, भोजन से लेकर बचाव के लिए काढ़ा, मास्क और सैनिटाइजर जैसे सामान वितरित कर दिन रात अपनी जान पर खेलकर दिल्लीवासियों की मदद कर रहे हैं जो आगे भी जारी रहेगी।
पूर्व प्रदेश अध्यक्ष एवं उत्तर पूर्वी दिल्ली के सांसद  मनोज तिवारी ने कहा कि दिल्ली सरकार को हर काम में राजनीति की गुंजाइश पैदा कर अपना स्वार्थ सिद्ध करने की आदत सी पड़ गई है। यही कारण है कि महामारी के दौरान भी अपनी आदत से मजबूर मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और उनकी सरकार का ध्यान महामारी की रोकथाम से ज्यादा राजनैतिक स्वार्थ सिद्ध करने में लगा हुआ है। कभी केंद्र सरकार द्वारा मुफ्त में दिया गया राशन जनता तक इमानदारी से नहीं पहुंचाते हैं तो कहीं अपने बड़बोलेपन का परिचय देते हुए नित्य नए ऐसे आदेश जारी कर रहे हैं जो न सिर्फ कोरोना वायरस को बढ़ाने बल्कि दिल्ली में बड़ी जनहानि होने का खतरा उत्पन्न कर रहे हैं। इसलिए केंद्र सरकार ने यह तय किया है कि दिल्ली को अब अरविंद केजरीवाल के भरोसे नहीं छोड़ा जा सकता। उन्होंने आगाह किया कि उपराज्यपाल और केंद्र सरकार पर दोषारोपण करने के बजाय दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल जनता के बीच में जाएं और उनके दर्द को समझें।