सांसद मनोज तिवारी ने उत्तरी दिल्ली नगर निगम के 32 उत्कृष्ट शिक्षकों को किया सम्मानित

@ chaltefirte.com                   दिल्ली। उत्तरी दिल्ली नगर निगम द्वारा शिक्षक दिवस के उपलक्ष में निगम मुख्यालय डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी, सिविक सेंटर स्थित अरूणा आसफ अली सभागार में कार्यक्रम का आयोजन किया गया।

इस अवसर पर  मुख्य अतिथि सांसद मनोज तिवारी ने उत्तरी दिल्ली नगर निगम के 2 प्रधानाचार्य, 28 शिक्षक सहित  2 नर्सरी शिक्षकों को सम्मानित किया गया। सम्मान स्वरूप शिक्षकों प्रशस्ति पत्र व प्रतीक चिन्ह प्रदान किये गए। कार्यक्रम में शिक्षा विभाग द्वारा प्रकाशित परिचायिका का विमोचन भी किया गया। इस अवसर पर ‘गूगल क्लास’ नाम से ऑनलाइन टीचिंग मॉड्यूल का भी शुभारंभ किया गया। सार्ड संस्थान द्वारा निगम के मेंटर शिक्षकों को 10 लैपटॉप और 37 टैबलेट भी दिए गए।

इस अवसर पर सांसद मनोज तिवारी ने कहा कि भारतीय संस्कृति में हमेशा से गुरु का अहम योगदान रहा है, गुरु को सर्वोपरि माना गया है। उन्होंने कहा कि बच्चे रबड़ की तरह होते है, शिक्षक उन्हें किसी भी रूप में ढाल सकते है, शिक्षकों में वह दम है कि वे बच्चों में विद्यमान प्रतिभा को किसी भी क्षेत्र में निखार कर उत्कृष्ट बना सकते है। उन्होंने कहा कि आज छोटे-छोटे शहरों के बच्चे भी हर क्षेत्र में आगे निकल रहे हैं। उन्होंने कहा कि निगम के शिक्षकों कि बच्चों के प्रति ज्यादा जिम्मेदारी है, उन्हे हमेशा यह कोशिश करनी चाहिए की बच्चों को उसी क्षेत्र में आगे बढ़ने को प्रोत्साहित करे जिस में उनकी रूचि है।उन्होंने शिक्षक दिवस के अवसर पर निगम के सभी शिक्षकों को बधाई व शुभकामनाएं दी।

महापौर  राजा इकबाल सिंह ने कहा कि शिक्षक समाज का स्तम्भ है वो चाहे तो अंधेरे को उजाले में बदल सकते है। उन्होंने कहा कि निगम शिक्षकों द्वारा इस कर्तव्य का निर्वाह बखूबी किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि आज वे जो भी है उस में उनके शिक्षकों का अहम योगदान है।

स्थायी समिति के अध्यक्ष जोगी राम जैन ने शिक्षक दिवस के अवसर पर निगम के सभी शिक्षकों को बधाई व शुभकामनाएं देते हुए कहा कि शिक्षकों का हर बच्चे के जीवन में अहम योगदान होता है।  उन्होंने कहा कि निगम का हर शिक्षक, हर बच्चा विशेष प्रतिभा रखता है, हमारे निगम विद्यालय किसी भी निजी विद्यालय से कम नहीं है। उन्होंने कहा कि प्राथमिक शिक्षा ही बच्चों के शिक्षा की नींव बनाती है जिसमे निगम विद्यालय तत्पर है। उन्होंने कहा कि निगम विद्यालय में पढ़ने वाले बच्चे भविष्य में देश का, राज्य का नेतृत्व करेंगे, जो समाज में बदलाव लाएगे।

नेता सदन  छैल बिहारी गोस्वामी ने कहा की उत्तरी दिल्ली नगर निगम के शिक्षकों ने जिन विपरीत परिस्थितियों में कार्य किया है और छात्रों का शिक्षा प्रदान की है वो सराहनीय है। उन्होंने कहा कि उत्तरी दिल्ली नगर निगम के शिक्षकों ने ऑनलाइन शिक्षण के माध्यम से वो सब कर के दिखाया जो देश में कोई नहीं कर सका। निगम के शिक्षकों ने कोरोना संकट के समय अपनी प्रतिभा के बलबूते सर्वप्रथम ऑनलाईन शिक्षण के माध्यम से निगम विद्यालयों के बच्चों को शिक्षा देने का कार्य किया।

इस अवसर पर शिक्षा समिति की अध्यक्षा गरिमा गुप्ता ने कहा कि उत्तरी दिल्ली नगर निगम अपने लक्ष्यों की शत प्रतिशत प्राप्ति के लिए कटिबद्ध है। उन्होंने कहा कि उत्तरी दिल्ली नगर निगम प्राथमिक विद्यालयों के माध्यम से बच्चों को निशुल्क शिक्षा प्रदान कर रही है। उन्होंने कहा कि कोरोना महामारी के दौरान हमारे शिक्षकों ने छात्रों को ऑनलाइन कक्षाओं के माध्यम से शिक्षा प्रदान की और 9 अप्रैल 2020 से वे छात्रों को उनके उज्जवल भविष्य के लिए लगातार ऑनलाइन कक्षाएं प्रदान कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि निगम ने छात्रों के लिए कविता प्रतियोगिता, वाद-विवाद प्रतियोगिता, पेंटिंग प्रतियोगिता और कई अन्य प्रतियोगिताओं का आयोजन भी ऑनलाइन माध्यम से किया है।

Post add

Leave A Reply

Your email address will not be published.