डॉ.प्रभात एवं प्रमोद की पुस्तक “विश्व रेगिस्तान का इंद्रधनुष” का विमोचन

पर्यटन का आकर्षण बन रहे हैं रेगिस्तान - पुलिस अधीक्षक शरद

@ chaltefirte.com           कोटा। पुलिस अधीक्षक कोटा जिला ग्रामीण शरद चौधरी ने सोमवार को उनके कार्यालय में ” विश्व रेगिस्तान का इंद्रधनुष” पुस्तक का विमोचन करते हुए कहा कि रेगिस्तान जैसे अनछुए विषय पर पर्यटन को आधार बना कर लिखी गई पुस्तक विश्व के सैलानियों को रेगिस्तान के आकर्षण से परिचय कराएगी। आज रेगिस्तान भी पर्यटन का महत्वपूर्ण आकर्षण बनते जा रहे हैं। उन्होंने ने पुस्तक के लेखकों को अपनी ओर से बधाई देते हुए पुस्तक की सराहना की। पुस्तक का लेखन जनसंपर्क विभाग के पूर्व संयुक्त निदेशक डॉ.प्रभात कुमार सिंघल एवं पूर्व प्राचार्य राजकीय कन्या महाविद्यालय प्रमोद कुमार सिंघल ने संयुक्त रूप से किया है।
डॉ. सिंघल ने बताया कि पुस्तक में रेगिस्तान के बारे में प्रचलित रेत का मैदान की धारणा को दूर कर उसके आकर्षण ,कला – संस्कृति और प्राकृतिक सौंदर्य को दर्शाने का एक छोटा सा प्रयास किया गया है। प्रमोद सिंघल ने बताया कि विश्व के 17 रेगिस्तानों में भारत में थार का मरुस्थल सबसे युवा है और इसका सबसे बड़ा भाग पश्चिमी भारत के राजस्थान में हैं,जिसमें 12 जिले शामिल है जो पर्यटकों के आकर्षण से भरपूर हैं। पुस्तक की भूमिका लेखक अख्तर खान” अकेला” ने कहा कि मरुस्थल जैसे नीरस विषय पर बहुत ही सरस एवं उपयोगी पुस्तक बनी है जो पर्यटन के साथ – साथ सामान्य ज्ञान भी बढ़ाएगी। पुस्तक का प्रकाशन मुंबई के वीएसआरडी एकेडमिक पब्लिशिंग द्वारा किया गया है।
इस अवसर पर राजकीय सार्वजनिक मंडल पुस्तकालय के प्रभारी एवं संभागीय पुस्तकालयाध्यक्ष डॉ.दीपक कुमार श्रीवास्तव, वरिष्ठ पत्रकार के.डी.अब्बासी भी उपस्थित रहे।

पुस्तक के लेखन पर भारत वर्ष से मित्रगणों ने लेखकों को बधाइयां प्रेषित की हैं। दिल्ली से सुरेश चन्द्र गोयल, , अंबाला कैंट से उषा गोयल, लखनऊ से पत्रकार विमल पाठक , भूपेंद्र कुमार – मधु, नोएडा से उर्मिल कुमार गोयल, गुरुग्राम से अजय – श्रुति, विवेक – लिपि, देहरादून से परम कीर्ति शरन, चरथावल – मुजफ्फरनगर से पंकज – पूनम, दुष्यंत, मुंबई से फिल्म निर्देशक इंद्रजीत सिंह ,पत्रकार चन्द्र कांता शर्मा एवम शरद गोयल – शिवानी, धर्मेंद्र अग्रवाल – शिचु, सुमित जैन – खुशबू,भीलवाड़ा से गिरीश अग्रवाल – शिखा, प्रांशु, श्याम सुंदर जोशी ने बधाई प्रेषित की है।
जयपुर से पूर्व आई.ए.एस. धर्मेंद्र भटनागर एवं आर.सी.जैन, इतिहासविद बी.के.शर्मा, पूर्व आई.पी.एस. गुरु चरण, पूर्व प्रो. डॉ एच.एस. शर्मा, प्यारे मोहन त्रिपाठी, बाल मुकंद ओझा, पत्रकार एल. एन.शर्मा, अनिल सक्सेना, पूर्व प्राचार्य डॉ.रामावतार शर्मा, प्रभा गुप्ता, इन्दौर से इतिहासकार डॉ एच सी जैन ,इतिहासकार, ब्यावर से पूर्व प्राचार्य डॉ. प्रबोध पारीक , उदयपुर से पत्रकार वीरेंद्र श्रीवास्तव, पन्ना लाल मेघवाल, हल्दीघाटी संग्रहालय ट्रस्ट के संस्थापक मोहन लाल श्रीमाली, हैदराबाद से श्याम गाड़िया, झुंझुनू से पत्रकार रमेश धमोरा, बारां के पत्रकार दिलीप शर्मा, कुश कुमार मिश्रा एवं मनोज गाड़िया सहित सूचना एवम जनसंपर्क विभाग राजस्थान एवम उच्च शिक्षा विभाग के कई अधिकारियों एवं कर्मचारियों ने लेखकों को बधाइयां प्रेषित की हैं।
कोटा से पूर्व प्राचार्य डॉ बी एल शर्मा, डॉ.एम.एल.अग्रवाल, डॉ.अमित गुप्ता, डॉ.गिरीश माथुर, डॉ.रामावतार अग्रवाल, पूर्व आयुक्त सेंट्रल एक्साईज कमल जैन सहित गणमान्य नागरिकों एवं पत्रकारों ने भी लेखकों को बधाई दी हैं।

Post add

Leave A Reply

Your email address will not be published.