क्या, यूपी में परवान चढ़ पाएंगी छोटे दलों की बड़ी हसरतें

संजय सक्सेना,लखनऊ

अगले वर्ष होने वाले उत्तर प्रदेश विधान सभा चुनाव को लेकर तमाम राजनैतिक दलों के नेताओं की धड़कने बढ़ी हुई हैं। 14 मार्च 2022 से पूर्व 18 वीं विधान सभा का गठन होगना है। यानी 14 मार्च से पूर्व चुनाव के नतीजे आ जाएंगे और 19 मार्च को रंगों का त्योहार होली मनाई जाएगी। नतीजे किस पार्टी और नेता की होली बदरंग करेगें और किसकी होली में नये रंग सजेंगे, यह भविष्य के गर्भ में छिपा हुआ है। बीजेपी यानी योगी फिर सत्ता में आएंगे या माया-अखिलेश के सिर सत्ता का ताज सजेगा। जैसा की पिछले 30-35 सालों से यूपी में होता आया है, इन तीन-साढ़े तीन दशको में यूपी में मतदाताओं ने किसी भी दल को लगातार दो बार सत्ता सुख हासिल करने का मौका नहीं दिया है। ऐसा ही हुआ तो क्या बीजेपी सत्ता से बाहर हो जाएगी ? सवाल यह भी है कि यूपी में करीब 32 वर्षाे से हासिए पर पड़ी कांग्रेस अपनी खोई हुई जमीन तलाशने में पुनःसफल हो जाएगाी।
यूपी विधान सभा चुनाव के लिए बड़ी राजनैतिक पार्टियां तो जोर अजमाइश कर ही रही हैं,इसके अलावा कुछ अन्य प्रदेशों में सत्तारूढ दलों के नेता भी अपनी पार्टी को विस्तार देने के लिए यूपी में जड़े तलाशने में जुटे हैं। इसमें दिल्ली की सत्ता पर काबिज आम आदमी पार्टी के नेता और मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री और तृणमूल कांग्रेस की नेत्री ममता बनर्जी, जनता दल युनाइटेड के नेता और बिहार के मुख्यमंत्री नितीश कुमार शामिल हैं। इसी प्रकार से लम्बे समय तक बिहार के मुख्यमंत्री रह चुके लालू यादव की राजद और बिहार के पहले दलति पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी की पार्टी हिन्दुस्तानी आवाम मोर्चा(हम) भी यूपी चुनाव में अपनी किस्मत अजमाने को आतुर हैं। वहीं बिहार विधान सभा चुनाव में अपनी थोड़ी ताकत दिखा कर पंाच सीटें जीत चुके हैदराबाद सांसद और ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन के राष्ट्रीय अध्यक्ष ओवैसी को भी लगता है कि वह बिहार की तरह यूपी में भी चमत्कार कर सकते हैं। ओवैसी ने पहले समाजवादी पार्टी और बसपा से गठबंधन की कोशिश की थी, लेकिन माया-अखिलेश ने ठंेगा दिखा दिया तो अब ओवैसी ने ओम प्रकाश राजभर की पार्टी से समझौता कर लिया है। औवैसी को वीआईपी पार्टी के नेता और बिहार के मंत्री मुकेश साहनी का भी साथ मिला हुआ है। मुकेश साहनी ने ही गत दिनों दस्यु संुदरी दिवंगत फूलनदेवी की मूर्तिया लगाने की बात कही थी,जिस पर काफी विवाद हुआ था।
2022 के सियासी सघर्ष में यूपी की एक और पुरानी पार्टी राष्ट्रीय लोकदल (रालोद) को भी अनदेखा नहीं किया जा सकता है। कभी जिसके मुखिया पूर्व प्रधानमंत्री और किसानों के बड़े नेता चौधरी चरण सिंह हुआ करते थे, यह और बात है कि तब पार्टी का नाम थोड़ा छोटा सिर्फ ‘लोकदल’ हुआ करता था। बाद में उनके पुत्र अजित सिंह अब दिवंगत ने इसी पार्टी की कमान संभाली और आज की तारीख में चौधरी चरण सिंह के पौत्र जयंत चौधरी के हाथ में पार्टी की कमान है, रालोद का यह दुर्भाग्य है कि कभी पश्चिमी यूपी की सियासत की धूरी बने रहने वाली रालोद अब बैसाखियों के सहारे चलती हैं। सत्ता का कांटा जिधर झुकता है, चौधरी उधर हो जाते हैं। अबकी से रालोद नेता, नये कषि कानून के विरोध में आंदोलन चला रहे भारतीय किसान यूनियन के सहारे अपनी चुनावी नैया पार करने का समना सजोए हुए हैं। सपा के साथ भी रालोद का गठबंधन होने की पूरी उम्मीद है।
बहरहाल, 2022 के विधान सभा चुनाव के लिए यूपी की राजनीति में दो प्रमुख बदलाव दिख रहे हैं। पहला तो आगामी विधानसभा चुनावों में असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी एआइएमआइएम और अरविंद केजरीवाल की आम आदमी पार्टी की एंट्री होने वाली है। दूसरे, समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव ने बड़े दलों और आवैसी की पार्टी के साथ गठबंधन से तौबा करके छोटे दल को जोड़ने का दांव चल दिया,लेकिन अखिलेश छोटे दलों को अपने साथ जोड़ पाते इससे पहले ही सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के प्रमुख ओमप्रकाश राजभर ने मौके को भांप कर कुछ छोटे दलों को जोड़कर ’भागीदारी संकल्प मोर्चे’ को और मजबूत कर लिया। छोटी पार्टियों का यह गठबंधन ओवैसी से लेकर अरविंद केजरीवाल और अखिलेश के चचा और प्रगतिशील समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष शिवपाल यादव सभी को भी लुभा रहा है। भागीदारी संकल्प मोर्चे का गठन 2019 में सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (एसबीएसपी) के ओमप्रकाश राजभर और जन अधिकार पार्टी के बाबू सिंह कुशवाहा की अगुआई में किया गया है। छोटे दलों वाले इस मोर्चे में कुल 8 दल शामिल हो चुके हैं। ओवैसी पिछड़े वर्ग में मजबूत पैठ रखने वाले इस मोर्चे का फायदा बिहार की तरह उत्तर प्रदेश में भी उठाना चाहते हैं। असल में बिहार में एआइएमआइएम को 5 सीटें मिलने में वहां छोटे दलों के बने गठबंधन की अहम भूमिका रही थी, जिसमें ओम प्रकाश राजभर भी शामिल थे। मोर्चे में शामिल होकर ओवैसी प्रदेश के 22 फीसदी मुस्लिम वोट बैंक में सेंध लगाना चाहते हैं। इस रणनीति के तहत ओवैसी की पश्चिमी उत्तर प्रदेश की सीटों पर खास नजर है। इस मोर्चे में राजभर की सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (एसबीएसपी), बाबू सिंह कुशवाहा की जन अधिकार पार्टी, कृष्णा पटेल का अपना दल (के), ओवैसी की एआइएमआइएम, प्रेमचंद्र प्रजापति की भारतीय वंचित समाज पार्टी, अनिल चौहान की जनता क्रांति पार्टी (आर), और बाबूराम पाल की राष्ट्र उदय पार्टी आदि शामिल हैं।इस बीच अपनी अहमियत बढ़ती देख ओम प्रकाश राजभर अन्य दूसरे छोटे दलों को लुभाने में लग गए हैं। ओमप्रकाश राजभर की कोशिश यही है कि वे ज्यादा से ज्यादा छोटी पार्टियों को अपने साथ जोड़ सकें। असल में प्रदेश के 29 जिलों में करीब 140 सीटें ऐसी हैं,जहां राजभर वोट 20 हजार से 80 हजार के करीब हैं। ऐसे में ओवैसी के मुस्लिम वोट और दूसरे दलों के वोट मिलकर मोर्चे को ‘किंग मेकर’ की भूमिका में ला सकते हैं। राजभर दावा भी कर रहे है कि भागीदारी संकल्प मोर्चे की पहुंच 43 फीसदी पिछड़ों तक हो गई है। ऐसे में एक बात तो तय है कि 2022 के चुनावों में हम नई ताकत होंगे।खैर,राजभर का दावा अपनी जगह है लेकिन राजनीति के जानकार कहते हैं कि आम तौर पर ऐसे छोटे-छोटे दल चुनाव के आसपास दिखाई तो पड़ते हैं पर चुनाव के बाद यह बहुत तेजी से गायब भी हो जाते हैं।
बात विधान सभा चुनाव में अखिलेश यादव के छोटे दलों से समझौते वाले बयान की कि जाए तो ऐसा लगता है कि अखिलेश के पास विकल्प काफी कम बचे है? हाल ही में सपा ने महान दल के साथ हाथ मिलाया है,जिसका राजनीतिक आधार बरेली-बदायूं और आगरा के इलाके में है। जनवादी पार्टी के संजय चौहान भी समाजवादी पार्टी के साथ जा सकते हैं। जनवादी पार्टी सपा के साथ मिलकर लोकसभा चुनाव लड़ चुकी है। इसी प्रकार स्वर्गीय सोने लाल पटेल की पत्नी कृष्णा पटेल वाला अपना दल भी सपा से गलबहियां करता दिख रहा है, लेकिन अखिलेश की सबसे बड़ी चिंता उनके चाचा शिवपाल यादव हैं, जो प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (लोहिया) के मुखिया है। बीच में अखिलेश ने उन्हें अपने साथ लाने की कोशिश की थी, लेकिन उनके एडजस्ट करने का ऑफर शिवपाल को नहीं भाया था।
उक्त दलों के अलावा राष्ट्रीय क्रांतिकारी समाजवादी पार्टी अध्यक्ष गोपाल राय अलग दावा कर रहे हैं कि उन्होंने 46 दलों का एक ‘राजनैतिक विकल्प महासंघ’ बनाया है जो सभी 403 सीटों पर अपना प्रत्याशी उतारेगा। इसी तरह से पीस पार्टी, मिल्ली काउंसिल,केन्द्रीय मंत्री और रिपब्लिक पार्टी आफ इंडिया ए के अध्यक्ष रामदास अठावले,निषाद पार्टी के अध्यक्ष संजय निषाद आदि भी चुनावी समर में ताल ठोंक रहे हैं। वही जेल में बंद कुछ बाहुबली भी अपने दबदबे वाले क्षेत्रों से अपनी किस्मत अजमाने की चाहत रखते हैं। इसमें बाहुबली मुख्तार अंसारी जैसे लोग शामिल हैं। अठावले और जदयू क्रमशः दिल्ली और बिहार में तो साथ-साथ हैं,लेकिन यूपी में यह दल भाजपा के साथ मिलकर चुनाव लड़ेगें ऐसा होता दिख नहीं रहा है।2017 में भी जदयू बिहार में भाजपा से गठबंधन होने के बाद भी यूपी में अकेले ही चुनाव लड़ी थी।
बात बसपा सुप्रीमों मायावती की कि जाए तो वह पहले ही कह चुकी हैं कि उनकी पार्टी किसी से गठबंधन नहीं करेगी। कांग्रेस को छोटा-बड़ा कोई दल इस लायक समझ नहीं रहा है कि उसके सहारे चुनावी नैया पार लगाने की सोच। रही बात भाजपा की तो जिस राजनीति को अब विपक्षी दल 2022 में करने की कोशिश में लगे हैं, उसे 2002 में ही भारतीय जनता पार्टी ने भांप लिया था। वह उस वक्त से क्षेत्रीय स्तर पर मौजूद छोटे दलों को अपने साथ जोड़ने की कोशिश करती रही है, जिसका उसे 2017 के चुनावों में सबसे प्रभावी परिणाम मिला। फिलहाल, भाजपा को इस समय अपना दल(एस) का साथ मिला हुआ है,जिसका नेतृत्व स्वर्गीय सोनेलाल पटेल की पुत्री अनुप्रिया पटेल कर रही हैं जो हाल-फिलहाल में मोदी कैबिनेट में राज्य मंत्री भी बनाई गई हैं।जबकि भाजपा के पुराने साथी रहे ओम प्रकाश राजभर अब उसके लिए चुनौती बनने को बेकरार हैं।
बहरहाल, कुछ भी हो लेकिन बहुत छोटे और तात्कालिक हितों की रक्षा एवं जातीय और धार्मिक आधार पर बने गए राजनीतिक दलों के अस्तित्व को राजनैतिक और सामाजिक बुद्धिजीवी लोकतंत्र के लिए शुभ संकेत नहीं मानते हैं। इसका कारण ये है कि मुद्दा-हीन चुनावों में मतदान पचास प्रतिशत के आस-पास होने से जीत-हार का अंतर बहुत कम हो जाता है। इस स्थिति में बहुत छोटे-छोटे दलों के प्रत्याशियों के पाए मतों की वजह चुनाव परिणामों में बड़ा अंतर आ जाता है। ऐसे में लाख टके का सवाल यही है कि क्या उत्तर प्रदेश विधान सभा चुनाव में छोटे-छोटे दलों की बड़ी-बड़ी हरसतें परवान चढ़ पाएंगी।

(लेखक वरिष्ठ स्तम्भकार एवं पत्रकार हैं)

Post add

Leave A Reply

Your email address will not be published.