टीएमयू के छात्रों के लिए खुले जॉब के वैश्विक द्वार

टीसीएस-आईओएन के साथ एमओयू साइन, इंडस्ट्री आनर प्रोग्राम- आईएचपी सर्टिफिकेशन लॉंच का ऐलान

@ chaltefirte.com                           मुरादाबाद। तीर्थंकर महावीर यूनिवर्सिटी ने टीसीएस के साथ ऐतिहासिक करार किया है। अब आईटी के छात्रों के लिए कैरियर के वैश्विक द्वार खुल गए हैं, लेकिन फिजिटल लर्निंग सर्टिफिकेशन प्रोग्राम के बाद छात्र ग्लोबली अपडेट होंगे। यह करार बहुराष्ट्रीय कंपनियों और टीएमयू के बीच सेतु की मानिंद कार्य करेगा। इंडस्ट्री 4.0 के लिए वरदान साबित होगा, जिससे नवोदित टेक्नोक्रेट डवलप होंगे। इसके लिए आईटी, मैकेनिकल और इलैक्ट्रॉनिक्स के स्टुडेंट को टीसीएस-आईओएन इंडस्ट्री आनर प्रोग्राम- आईएचपी सर्टिफिकेशन कोर्स करना अनिवार्य है।मैकेनिकल के छात्रों को मैकाट्रॉनिक्स, इलैक्ट्रॉनिक्स के छात्रों को आईओटी और कंप्यूटर साइंस के छात्रों को डाटा साइंस में विशिष्ट डिग्री प्राप्त होगी।

इस मौके पर वीसी प्रो. रघुवीर सिंह, रजिस्ट्रार डॉ. आदित्य शर्मा, एफओईसीएस के निदेशक प्रो. राकेश कुमार द्विवेदी,एसोसिएट डीन डॉ. मंजुला जैन जबकि टीसीएस आईओएन की ओर से जोनल हेड  धीरज अरोरा, रीजनल हेड शाहनवाज फैज़ल आदि की गरिमाई मौजूदगी रही। इस बड़ी उपलब्धि पर टीएमयू के चांसलर सुरेश जैन बोले, एमओयू क्लास रूम टीचिंग को फिर से परिभाषित करेगा। जीवीसी मनीष जैन ने कहा, टीएमयू अकादमिक-उद्योग कनेक्शन में एक कदम और आगे की ओर बढ़ गया है। एमजीबी अक्षत जैन ने कहा, टीएमयू के छात्रों को अब विश्व उद्योग में इंटर्नशिप और नौकरी के भरपूर अवसर मिलेंगे। वीसी प्रो. रघुवीर सिंह ने कहा, अब हमारे छात्रों की दक्षता और श्रेष्ठता में और इजाफा होगा। एफओईसीएस के निदेशक प्रो. राकेश कुमार द्विवेदी ने कहा, हमारे छात्र डिग्री के दौरान आईएचपी में ट्रेनिंग कभी भी और कहीं भी कर सकते हैं। एसोसिएट डीन डॉ. मंजुला जैन ने कहा,टीसीएस के प्लेटफॉर्म पोर्टल तक हमारी पहुंच होगी। रजिस्ट्रार डॉ. आदित्य शर्मा बोले,समझौता ज्ञापन हमारी आउटरीच गतिविधि को बढ़ाएगा।

इस करार से टीएमयू के छात्रों को उन्नत क्लाउड प्लेटफॉर्म, सर्वश्रेष्ठ-इन-क्लास मल्टी-मॉडल सामग्री, उद्योग विशेषज्ञों के व्याख्यान आदि के जरिए गुणवत्ता परक शिक्षा देने के साथ उनकी इंडस्ट्री स्किल्स को और सशक्त करने में मदद मिलेगी। अत्याधुनिक टीसीएस आईओएन एडू-टेक प्लेटफॉर्म के जरिए छात्रों के पास सिमुलेटेड एनवायरनमेंट, टेस्ट किट और फिजिटल लैब तक पहुंच होगी। कोर्स पूरा होने पर छात्रों को विश्व स्तर पर सत्यापन योग्य प्रमाणपत्र, उद्योग में इंटर्नशिप और नौकरियों के अवसर प्राप्त होंगे। इस एमओयू से टीएमयू के छात्रों को टीसीएस-आईओएन आईएचपी पाठ्यक्रम के सफल समापन पर एक प्रमाण पत्र प्रदान करेगा। आईएचपी उद्योग में दो इंटर्नशिप कराएगा और टीसीएस के प्लेसमेंट पोर्टल तक टीएमयू की पहुंच होगी, जहां अब तक केवल आईआईटी, आईआईएम और एनआईटी को ही यह सुविधा है। उल्लेखनीय है, मेक्ट्रोनिक्स इंजीनियरिंग के स्नातक रोबोटिक्स, नैनो टेक्नोलॉजी, ऑटोमेशन, एयरक्राफ्ट इंजीनियरिंग, ओशनोग्राफी, ऑयल एंड गैस, बायोमेडिकल सिस्टम्स, ट्रांसपोर्ट और कंप्यूटर एडेड डिजाइन जैसे कई उद्योगों में रोजगार के अवसर पा सकते हैं।

 

Post add

Leave A Reply

Your email address will not be published.