महिलाओं का अपमान पर दिल्ली भाजपा ने राहुल गांधी के निवास पर विरोध प्रदर्शन किया

महिलाओं के अपमान पर कांग्रेस के युवराज अबतक चुप क्यों -आदेश गुप्ता

@ chaltefirte.com                   नई दिल्ली। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष आदेश गुप्ता ने कहा कि कांग्रेस के वरिष्ठ नेता द्वारा एक ऐसा काम किया गया जो इंसानियत की श्रेणी में नहीं आता है। हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री भूपेन्द्र सिंह हुड्डा ने हरियाणा की बहन-बेटियों के साथ जो व्यवहार किया है, शायद ही वैसा व्यवहार कोई इंसान किसी जानवर के साथ भी करता है। हुड्डा जिस ट्रैक्टर पर बैठे हैं, उसे रस्सी में बांधकर महिलाओं से खींचवाना कितनी शर्म की बात है, लेकिन इतना सब कुछ होने के बाद भी कांग्रेस के युवराज राहुल गांधी अभी तक सो रहे हैं। विरोध प्रदर्शन के दौरान प्रदेश उपाध्यक्ष अशोक गोयल देवराहा और जयवीर राणा, पूर्वांचल मोर्चा के अध्यक्ष  कौशल मिश्रा, महिला मोर्चा की अध्यक्ष योगिता सिंह और युवा मोर्चा के अध्यक्ष  वासू रुखड़ के साथ प्रदेश, जिला और मंडल के पदाधिकारी उपस्थित थे।

दिल्ली भाजपा अध्यक्ष ने भाजपा के अन्य पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं के साथ राहुल गांधी के निवास स्थल के बाहर विरोध प्रदर्शन के दौरान कहा कि जब पूरे देश में महिलाओं के सम्मान में तरह-तरह के कार्यक्रम का संचालन हो रहा था, उस समय कांग्रेस महिलाओं का अपमान करने का काम कर रही थी। उन्होंने कांग्रेस और भूपेन्द्र सिंह हुड्डा को महिलाओं से माफी मांगने की मांग करते हुए कहा कि हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने महिला विधायकों के प्रति संवेदनहीनता दिखाई है। महिलाओं के साथ बंधुआ मजदूरों से भी बुरा व्यवहार किया गया। उन्होंने कहा कि कितनी शर्म की बात है कि हुड्डा खुद ट्रैक्टर के ऊपर बैठे थे और उस ट्रैक्टर को कांग्रेस की विधायिका उसे खींच रही थीं। यह घटना कांग्रेस की सामंतवादी सोच को बयान करती है। महिलाओं को अपमानित करने का कांग्रेस की पुरानी नीति है।

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने उज्जवला योजना और बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओं जैसी योजनाएं शुरु करके महिलाओं को सम्मान और आत्मनिर्भर बनाने का काम किया है। वहीं दूसरी तरफ कांग्रेसी नेता महिलाओं को अपमानित करने का कोई भी अवसर नहीं छोड़ते हैं, फिर चाहे वो दिग्विजय सिंह हो या अभिजित मुखर्जी हो, लेकिन जब-जब महिलाओं का अपमान होगा, भारतीय जनता पार्टी महिलाओं की आवाज बनकर सामंतवादी सोच के खिलाफ प्रदर्शन करती रहेगी।

Post add

Leave A Reply

Your email address will not be published.