नारी ही समाज की रियल आर्किटेक्ट

तीर्थंकर महावीर यूनिवर्सिटी के मेडिकल कॉलेज एंड रिसर्च सेंटर की ओर से मना विश्व महिला दिवस

@ chaltefirte.com                                     मुरादाबाद। तीर्थंकर महावीर यूनिवर्सिटी की ज्वांइट रजिस्ट्रार डॉ वैशाली ढींगरा बतौर मुख्य अतिथि बोलीं, पूरी दुनिया में नारियां बहुत शक्तिशाली बनकर उभरी हैं। 12 देशों में महिलाएं ही की.पोस्टों पर हैं। कोविड.19 के दौरान भी महिलाओं की भूमिका अविस्मरणीय रही है। ईश्वर का बहुत.बहुत आभार हैए जिसने महिलाओं को घर से लेकर दफ्तर तक संचालन की अद्भुत क्षमता दी है। महिलाओं में आत्मविश्वास अनिवार्य जरुरी है, इसीलिए उनमें ट्रस्ट के संग.संग फेथ होना चाहिए और उनके प्रति समाज में भी आस्था होनी चाहिए। यूनिवर्सिटी के इस मुकाम तक पहुँचने में महिलाओं के योगदान को भी नाकारा नहीं जा सकता है। डॉ ढींगरा ने ऑडी में मौजूद स्टुडेंट्स से आह्वान कियाए मिशन शक्ति सरीखे प्रोग्राम महिलाओं को ईमानदारी से आत्मसात करने चाहिए। वह तीर्थंकर महावीर यूनिवर्सिटी के मेडिकल कॉलेज एंड रिसर्च सेंटर की ओर से आयोजित विश्व महिला दिवस पर बोल रही थीं। विश्व महिला दिवस पर मेडिकल के छात्र.छात्राओं ने मनमोहक कल्चर प्रोग्राम प्रस्तुत किए। नृत्यए गायन और रंगोली सरीखी प्रतियोगिताएँ भी हुईं। प्रोग्राम का श्रीगणेश माँ सरस्वती के समक्ष दीप प्रज्ज्वलित करके और मनमोहिनी गणेश वंदना की प्रस्तुति के साथ हुआ। इस मौके पर ज्वांइट रजिस्ट्रार डॉ वैशाली ढींगरा, मेडिकल कॉलेज की प्राचार्य प्रो श्यामोली दत्ता, मेडिकल कॉलेज के सुपरिटेंडेंट डॉ अजय पंत, मेडिकल कॉलेज के वाइस प्रिंसिपल डॉ एसके जैन, मेडिसिन विभाग के एचओडी डॉ वीके सिंह और पैथोलॉजी विभाग की एचओडी प्रो सीमा अवस्थी मौजूद रही। इस मौके पर अतिथियों का बुके देकर स्वागत किया गया। वर्ल्ड वुमेन डे पर एमबीबीएस की छात्राओं के अलावा डॉ आस्था लालवानी, डॉण्श्रुति चंडक, डॉ प्रीथपाल सिंह मटरेजा, डॉ गुरदीप सिंह जीते, डॉ आशुतोष कुमार, डॉ अमित सर्राफ, डॉ पल्लवी आहलुवालिया, डॉ सीमा सिंह आदि मौजूद रहे। संचालन डॉ सायमा सिद्दीकी और डॉ अनुप्रीति सिंह ने किया।

मेडिकल कॉलेज की प्राचार्य प्रो श्यामोली दत्ता बोलीं, समाज में महिलाओं के प्रति पॉजिटिव चेंज जरुरी है, इसके लिए सामूहिक प्रयास करने होंगे। इसका श्रीगणेश खुद और घर से ही करना होगा। बोलीं, महिलाएं अपने बेटों को ऐसे संस्कार दें ताकि वे नारी का मान सम्मान सर्वोच्च रखें। उन्होंने उम्मीद जताई, इससे समाज में नारी के प्रति सकारात्मक देखने को मिलेगा। प्रो दत्ता ने नारी को समाज की रियल आर्किटेक्ट की संज्ञा दी। मेडिकल कॉलेज के सुपरिटेंडेंट डॉ अजय पंत बोले, कानून बनाने के साथ.साथ हमें अपने बच्चों को भी संस्कारवान करना होगा। उन्होंने बेटियों के भी स्ट्रांग करने की वकालत करते हुए कहाए उन्हें मानसिक, शारीरिक और आर्थिक तौर पर भी मजबूत बनाना समाज की जिम्मेदारी है।

मेडिकल कॉलेज के वाइस प्रिंसिपल डॉ एसके जैन विशेषाधिकार प्राप्त महिलाओं को वंचित बेटियों को भी आगे बढ़ने और बढ़ाने की नसीहत देते हुए बोले, ताकि समाज संतुलित रह सके। मेडिसिन विभाग के एचओडी डॉ वीके सिंह नारियों पर गर्व करते हुए बोले, वे आज यानी विश्व महिला दिवस पर खुद से वायदा करें कि हम न तो लिंग असमानता करेंगे और न ही समाज में होने देंगे। पैथोलॉजी विभाग की एचओडी प्रो सीमा अवस्थी नारी शक्ति की व्याख्या करते हुए बोलीं, माँ दुर्गा ही नारी शक्ति का असली रूप है। पीपीटी के जरिए आधा दर्जन से अधिक भारत की ताकतवर एवं सफल महिलाओं के बारे में बताया। इसमें इंडियन फिजिशियन इन वेस्टर्न मेडिसिन डॉ कादम्बिनी गांगुली से लेकर फाउंडर ऑफ़ नायिका  फाल्गुनी नायर तक का बड़े गर्व से जिक्र किया। इन हस्तियों के जरिए छात्राओं को आगे बढ़ने के लिए प्रेरित किया।

 

Post add

Leave A Reply

Your email address will not be published.