राजेन्द्र बाबू का चरित्र सर्वग्राही रहा था इसलिए वह सर्वमान्य हुए- सुमीत श्रीवास्तव

इस अवसर याद किए गए रविनंदन सहाय

@ chaltefirte.com                     पटना। देश के प्रथम राष्ट्रपति देशरत्न डॉ. राजेन्द्र प्रसाद जी के पुण्यतिथि के अवसर पर “अखिल भारतीय कायस्थ महापंचायत” के राष्ट्रीय अध्यक्ष सुमीत श्रीवास्तव के के नेतृत्व में देशरत्न राजेंद्र प्रसाद जी के तैल्यचित्र पर पटना के पटेल नगर में श्रद्धा सुमन अर्पित किया। इसके उपरांत राष्ट्रीय अध्यक्ष ने कहा कि बिहार सरकार राजेन्द्र बाबू के समाधि स्थल को पर्यटन केंद्र के तौर पर विकसित करे क्योंकि राजेन्द्र बाबू बिहार के साथ-साथ सम्पूर्ण देश के गौरव हैं। देश के प्रथम राष्ट्रपति के समाधि स्थल का विकास दिल्ली के राजघाट तर्ज पर करे। बाबू का चरित्र सर्वग्राही रहा था इसलिए वह सर्वमान्य हुए। हम सभी को बाबू के जीवन से सीखना चाहिए। बाबू कहते थे “हारिये न हिम्मत बिसारिये न हरि नाम, जाहि बिधि राखे राम ताहि बिधि रहिये।
इस अवसर पर अखिल भारतीय कायस्थ महासभा के दिवंगत राष्ट्रीय अध्यक्ष स्व. रविनंदन सहाय को भी कायस्थ महापंचायत के पदाधिकारियों के द्वारा श्रद्धा-सुमन अर्पित किया गया है। इस मौके पर गायक रवि रौशन ने गीत के माध्यम से श्रद्धा-सुमन अर्पित करने का काम किया तो वहीं ब्राह्मण रितेश पाठक से शांति मंत्र का मंत्रोचार कर रविनंदन सहाय के आत्मा की शांति के लिए प्रार्थना किया।
इस अवसर पर राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष अभिषेक शंकर, राष्ट्रीय मिडिया प्रभारी आशीष कर्ण, बिहार प्रदेश अध्यक्ष देबाशीष गौतम, राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष प्रशांत राज, अशोक श्रीवास्तव, विकास कुमार, अभिनीत सिन्हा, सत्यम कुमार, कुमार रवि सिन्हा, समीक्षा सिन्हा, प्रसून गौरव, रवि रौशन, मुकेश कुमार, डी. एन.दास, अरुण कुमार, बी.एन. कुमार, संत शरण आदि लोग ने श्रधांजलि अर्पित की।

Post add

Leave A Reply

Your email address will not be published.